Home »International News »International» Kabul Beauty School In Afghanistan

PHOTOS: मर्दों की आंखों का मर गया पानी, अब महिलाओं ने कुछ करने की ठानी

dainikbhaskar.com | Jan 04, 2013, 00:00 IST

  • अफगानिस्तान में तालिबान के शासन में लड़की की खूबसूरती को अभिशाप माना जाता था. खूबसूरत अफगान महिलाओं पर हमेशा मौत का साया मंडराता रहता था। उनको हमेशा 'हिजाब' में रखा जाता था, उनका कोई आत्मसम्मान नहीं समझा जाता था और समाज में हमेशा हाशिए पर ही धकेला गया।
    लेकिन तालिबान का सफाया होने के बाद महिलाओं ने भी अपने जीने के लिए मकसद ढूंढ लिया, उनका आत्मसम्मान वापस लौट आया और वह अपने घर और समाज में फिर से अच्छी पोजीशन पाने में सफल हो रही हैं।
    dainikbhaskar.comअपने पाठकों को बता रहा है, आखिर कैसे एक अफगानी अमेरिकी महिला ने यह कारनामा कर दिखाया...
  • अफगानिस्तान का नाम आते ही सबसे पहले एक अशांत क्षेत्र की छवि उभरती है , जहां हमेशा बम धमाके, गनफायर, टैंक्स और ड्रोन हमले होते रहते हो. वहां के आम लोगों का जीवन कैसा होता है. अफगानी अमेरिकी नागरिक सीमा काल्किन ने पिछले 23 साल से अफगानिस्तान नहीं देखा, वह बस टीवी में वहां की खबरें देख हालत का जायजा लेती रहती थीं. वह अफगानिस्तान जाना चाहती थीं, लेकिन क्यों?

  • पेशे से हेयरड्रेसर सीमा कहती हैं कि आम अफगानी लड़की छटपटाती है, इसलिए मैंने अफगानिस्तान जाकर एक ऐसा काम करने का सोचा जिससे उनकी जीवन ही बदल जाए. 2007 में अफगानिस्तान की राजधानी काबुल गईं सीमा अपने साथ कई प्रशिक्षित ब्यूटीशियंस को भी लेकर गईं, जो वहां की महिलाओं को ब्यूटी पार्लर का प्रशिक्षण दे सकें. बकौल सीमा, अफगानिस्तान में 60 फीसदी महिलाएं विधवा होती हैं और पूरी घर की जिम्मेदारी उनपर होती है.

  • उन्होंने वहां काबुल ब्यूटी स्कूल खोला, जिसे अफगानी महिलाओं ने हाथों-हाथ लिया, उनके पास रजिस्ट्रेशन के लिए सैकड़ों आवेदन आ गए. दरअसल सीमा अकेली नहीं थीं, इस पूरे प्रोजेक्ट में अमेरिकी फेशन इंडस्ट्री ने पैसा लगाया था.

  • स्कूल से प्रशिक्षण ले चुकी एक महिला ने बताया कि वह डॉक्टर बनना चाहती थी, लेकिन अब लगता है कि ब्यूटी पार्लर ही मेरी मंजिल थी. काबुल में एक ब्यूटीशियन डॉक्टर से ज्यादा पैसा कमाती है. सिर्फ हेयरस्टाइलिंग करने के उन्हें 300 अफगानीज मिल जाते हैं. क्योंकि अफगानी महिलाएं सजना-संवारना चाहती हैं.

  • वहीं तालिबान के दिनों कुछ भयानक यादें आज भी लोगों में सिहरन पैदा कर देती हैं. ब्यूटी स्कूल आई एक महिला ने बताया, वह बहुत खूबसूरत थी, आपनी जवानी के दिनों में हम लोग कभी भी चेहरा ढक कर नहीं जाते थे, लेकिन एक दिन सड़क क्रॉस कर रहे थे कि अचानक पीछे से दो आदमी आए और मेरे मुंह पर एसिड डाल दिया. मेरा चेहरा खराब हो गया.

  • वर्जिमा शेख ने बताया कि उनके परिवार में 14 बच्चों सहित 25 लोग हैं. उनके पिताजी और दो भाई बाहर नौकरी करते है , जिससे ज्यादा से ज्यादा पैसा कमा सकें. उनका पति तालिबान के डर से बाहर ऑस्ट्रेलिया भाग गया. उन्होंने बताया कि कुछ साल पहले तक हर घर की यही कहानी हुआ करती थी, लेकिन अब हालात सुधर रहे हैं. हमारे अपने बिजनेस से पूरे परिवार की जिंदगी फिर से पटरी पर लौट आई है.

  • दूसरा पहलू
    अमेरिका में बैठकर अपने देश को स्वर्ग बताने वाली सीमा नींद तब टूटी, जब उनका प्लेन काबुल में लैंड किया. 23 साल बाद ब्यूटी स्कूल खोलने के वास्ते अफगानिस्तान पहुंची सीमा अपने की राजधानी नजारे देख रो पड़ती हैं. उनका कहना था कि आज से 20 साल पहले मेरे मुल्क का इतना बुरा हाल नहीं था. अफगानी लोग शुरू से आजादी के बड़े पैरोकार थे. तालिबान के कारण मेरे देश की ऐसी दुर्दशा हुई है.
  • बढ़ते कदम
    परिवार के कई लोगों का पेट पालने वाली ये लड़कियां कुछ दिनों आत्मनिर्भर हो जाएंगी.
    (फोटो: स्कूल में डमी पर हेयरस्टाइल की प्रैक्टिस करती प्रशिक्षु)
  • भारतीय हीरोइनों का तिलिस्म
    काबुल के अलावा आसपास के इलाकों में ब्यूटीपार्लर खुल गए हैं. अफगानिस्तान में भी इंडियन फिल्मों और उनकी कलाकारों का जादू सिर चढ़कर बोलता है. इस तस्वीर में साफ देखा जा सकता है कि ब्यूटीपार्लर में बॉलीवुड अभिनेत्री प्रीटी जिंटा का पोस्टर लगा हुआ है.
  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: Kabul Beauty School in Afghanistan
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From International

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top