हमारे यहां के लखपति अमेरिका में रोडपति

नई दिल्ली/वॉशिंगटन | Feb 22, 2013, 08:18 IST

अमेरिका में जो गरीबी रेखा के नीचे हैं भारत में वे ‘सुपर रिच’ कहे जाएंगे। उन पर अलग से टैक्स भी लग सकता है। प्रणब सेन कमेटी ने 12.77 लाख रुपए सालाना आमदनी वाले लोगों को ‘सुपर रिच’ वर्ग में रखने का प्रस्ताव दिया है।
अमेरिका में 12 लाख रुपए सालाना आमदनी वाला परिवार गरीबी रेखा के नीचे आता है। वहां 2.16 करोड़ रुपए आमदनी वालों को ‘सुपर रिच’ माना जाता है। अमेरिकन कम्युनिटी सर्वे में यह तथ्य सामने आया है। रिपोर्ट के मुताबिक भारतीय मूल के 8.2 फीसदी लोग बीपीएल के दायरे में हैं। यानी करीब 2.62 लाख लोग।
हालांकि अन्य जातीय समूह की तुलना में भारतीय लोग कम गरीब हैं। पूरे अमेरिका में 4.27 करोड़ लोग गरीबी रेखा के नीचे हैं। वहां गरीबी दर का राष्ट्रीय आंकड़ा 14.7 प्रतिशत है। सबसे अधिक गरीबी कनेक्टिकट, डेलावेयर, हवाई, मेरीलैंड, नेवाडा, न्यूहैंपशायर, न्यूजर्सी, वर्जीनिया और साउथ कैरोलीना राज्य में है।
22 फरवरी की अन्य महत्वपूर्ण:
सलमान खान बनेंगे बॉलीवुड के पहले 'कुंवारे बाप'!
नितिन गडकरी के कार में मिली जिसकी लाश, नहीं बंद हो सकती उसकी जांच

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: news
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।
 

Stories You May be Interested in

      More From International

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top