Home »International News »Pakistan» Protest Against India In Pakistan

पाकिस्तान का दुश्मन नंबर एक है भारत

dainikbhaskar.com | Jan 19, 2013, 09:02 IST

  • इस्लामाबाद. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री राजा परवेज अशरफ के खिलाफ भ्रष्टाचार मामलों की जांच करने वाले अधिकारी की मौत का मामला गरमाता दिख रहा है। पुलिस के अनुसार प्रारंभिक जांच से पता चला कि ‘अत्यधिक तनाव’ के कारण उन्होंने ‘आत्महत्या’ की। लेकिन घरवालों ने पुलिस की 'सुसाइड थ्‍योरी' को नकार दिया है।मृत अफसर के परिजनों ने शनिवार को आरोप लगाया कि उसके शरीर पर चोट के निशान थे।अफसर का शव संदिग्ध परिस्थितियों में उनके सरकारी आवास फेडरल लॉजेस नंबर-2 में फंदे से लटका मिला। पुलिस ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। कामरान फैजल नामक यह अधिकारी राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (एनएबी) के सहायक निदेशक थे।
    फैसल के चाचा तारिक मसूद ने पंजाब प्रांत के मियां चन्‍नू में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि उन्‍होंने अंतिम संस्‍कार से पहले फैसल की बांह, कलाई और पीठ पर चोट के निशान देखे थे। कलाइयों पर निशान से लग रहा था कि उसके हाथों को बांधा गया हो। इसके अलावा पीठ और गर्दन के नीचे भी चोट के निशान थे। ऐसा लगता था कि उसकी दाईं बांह को कसकर बांधा गया होगा।
    इस्लामाबाद पुलिस के प्रमुख बनी अमीन ने बताया कि कारण पोस्टमार्टम के बाद पता चल सकेगा। शव पाकिस्तान इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेस भेज दिया गया है। कामरान उन दो अधिकारियों में थे जिन्होंने रेंटल पावर प्रोजेक्ट में राजा परवेज अशरफ पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच की थी।
    आज की प्रमुख खबरें

    LIVE जानें टीम इंडिया और इंग्लैंड मैच का स्कोर

    राजस्‍थान में 8 साल की बच्‍ची को रेप के बाद कुचला, मुंबई में मासूम से स्‍कूल बस में बलात्‍कार

    नक्‍सलि‍यों ने पेट में बम रखा, सरकार छि‍ड़क रही ''नमक''

    कोहली पर खतरा? गंभीर-रहाणे को दिखाना होगा दम, भुवन-शमी पर होगा दारोमदार

    अंडर 14 के लिए अहमदाबाद पहुंचे सचिन के बेटे को मिलेगी स्‍पेशल सिक्‍योरिटी

    ''6 साल की उम्र में पहली बार हुआ था मेरा बलात्‍कार, उतरवा दिए थे पूरे कपड़े''

  • सुप्रीम कोर्ट ने पिछले साल अशरफ और 20 लोगों के खिलाफ इस जांच के आदेश दिए थे। उस वक्त अशरफ यूसुफ रजा गिलानी की सरकार में ऊर्जा मंत्री थे। जियो न्यूज ने दावा किया है कि कामरान ने एनएबी के महानिदेशक से रेंटल पावर केस से हटने की अनुमति मांगी थी।
    बुधवार को सुप्रीम कोर्ट ने प्रधानमंत्री अशरफ तथा अन्य आरोपियों को गिरफ्तार करने के आदेश दिए थे। एनएबी चीफ फसीह बुखारी ने गुरुवार को कोर्ट को बताया था कि जांच में किसी संदिग्ध के खिलाफ गिरफ्तारी लायक ठोस सबूत नहीं मिले। फैजल की मौत की खबर सुनने के बाद बुखारी फेडरल लॉजेस पहुंचे। उन्होंने मौत को ‘दुर्भाग्यपूर्ण’ बताया है। पाकिस्तानी मीडिया के अनुसार कामरान पावर प्रोजेक्ट मामले में जांच को लेकर तनाव में थे। उन्होंने इससे अलग होने का आग्रह भी किया था। उनकी पत्नी और दो बेटियां हैं।
  • भारत के खिलाफ फिर उगला गया जहर
    एलओसी पर भारतीय जवानों की निर्मम हत्या के बाद अब पाकिस्तान में भारत के खिलाफ विरोध प्रदर्शन भी शुरू हो गए हैं। भारत के खिलाफ पाकिस्तानी नागरिकों को भड़काने का काम धार्मिक और राजनीतिक दलों के नेता कर रहे हैं। इन नेताओं ने जुम्मे की नमाज के बाद भारत पर एलओसी के उल्लघंन और पाक सैनिकों पर आक्रमण का आरोप लगाया। इसके बाद शुक्रवार को पूरे पाकिस्तान में भारत विरोधी माहौल बन गया। VIDEO:पाक जेल से जल्‍द रिहा होंगे सरबजीत, बोले ओवेस शेख
    जमात उद दावा के हाफिज मुहम्मद सईद ने शुक्रवार की नमाज के बाद जामिया मस्जिद अल कदीसिया से सरकार को पश्चिमी देशों के दबाव में आकर भारत को मोस्ट फेवर्ड नेशन (एमएफएन) का दर्जा देने पर चेतावनी दी। हफीज ने कहा कि भारत ने आज तक पाकिस्तान को अपना दोस्त नहीं माना है। (पढ़ें, पाकिस्तानी सेना के बाद अब बर्फ ने ली दो भारतीय सैनिकों की जान)
    भारत ने हमेशा से सीजफायर का उल्लंघन कर सीमा पर गोलीबारी की है। उसने पाक सरकार (पाकिस्तानी प्रधानमंत्री के घोटाले की जांच कर रहे अधिकारी ने की खुदकुशी) से भारत की गोलाबारी और बड़बोलेपन का करारा जवाब देने की मांग की। हफीज ने जोर देकर कहा कि भारत हमेशा से पाकिस्तान का दुश्मन नंबर एक रहा है और रहेगा। इसकी वजह भारत के हिंदुओं की बनिया मानसिकता है जो कभी नहीं बदल सकती।
  • सुन्नी इत्तेहाद काउंसिल के नेताओं ने कहा है कि भारतीय सैनिकों की गोलीबारी में पिछले हफ्ते तीन पाक सैनिकों की मौत हो गई थी और कई सैनिक घायल हो गए थे।

    जुम्मे की नमाज के बाद खतीबों ने भारतीय सेना के कथित हमले की आलोचना की। सबने भारत को अपना दुश्मन देश बताया और इसे एमएफएन का दर्जा दिया जाने का विरोध किया। धार्मिक नेताओं का कहना था कि भारत ने 65 सालों में बार-बार ये साबित किया है कि वह पाकिस्तान का सबसे बड़ा दुश्मन है।

    उन्होंने कहा कि भारत की वजह से ही पाकिस्तान टूटा था और बांग्लादेश बना था। नेताओं ने पाक सरकार पर जनभावनाओं को अनदेखा करने और भारत के साथ दोस्ती बढ़ाने का भी आरोप लगाया।

  • कादरी ने झूठ बोलकर ली थी कनाडा में शरण
    पाकिस्तान सरकार को हिला देने वाले डॉ. ताहिर-उल कादरी फंस गए हैं। उन पर कनाडा में शरण लेते समय भरे गए शपथ पत्र की शर्तों के उल्लंघन का आरोप हैं। इस सिलसिले में कनाडा रॉयल माउंटेड पुलिस ने उन्हें पांच फरवरी को तलब किया है। कई टीवी चैनलों ने शुक्रवार को बताया कि डॉ. कादरी और उनके घरवालों ने 27 जनवरी के हवाई टिकट बुक कराए हैं। वे दुबई होते हुए टोरंटो जाने वाले हैं। डॉ. कादरी का एक नाम अब्दुल शकूर भी है।
    उन्होंने 2008 में डेनमार्क के कार्टून विवाद के बाद कनाडा से शरण मांगी थी। कहा था कि वे पाकिस्तान नहीं जा सकते। वहां उन्हें तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान, लश्करे झांगवी और सिपह-ए-साहबा जैसे आतंकी संगठनों
    से जान का खतरा है। टीवी चैनल एक्सप्रैस न्यूज के अनुसार, कादरी का शरण संबंधी आवेदन कनाडा में 17 अक्टूबर 2009 को मंजूर किया गया। उनको इलाज के नाम पर कनाडा सरकार के वेलफेयर फंड से भी मदद मिलती है। छह महीने पहले ही उन्हें कनाडा का पासपोर्ट भी जारी किया गया था। लेकिन सात साल कनाडा में रहने के बाद वे पिछले महीने पाकिस्तान आ गए।
  • पाकिस्तान में सात लोगों की हत्या
    पाकिस्तान में विरोध और अशंति के बीच शुक्रवार को सात लोगों की गोली मारकर हत्या कर दी गई। दो दिन पहले ही तालिबान आतंकियों ने एमक्यूएम के नेता मंजर इमाम की हत्या कर दी थी।
    इसके विरोध में पाकिस्तान की आर्थिक राजधानी कराची लगभग बंद हो गई थी। पुलिस ने कहा है कि शुक्रवार शाम को कराची की एमए जिन्ना रोड पर दो लोगों की गोली मारकर हत्या कर दी गई। इसके कुछ दी देर बाद उर्दू बाजार में एक और व्यक्ति को गोली मार दी गई। वहीं इसी बीच लासबेला ब्रिज के पास दो और लोगों की किसी ने हत्या कर दी। अंत में डिफेंस हाउसिंग अथॉरिटी में रहने वाले एक दंपति को अज्ञात हमलावरों ने गोली मार दी। दोनों की मौके पर ही मौत हो गई। हालांकि पाकिस्तान के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने इन घटनाओं का आपस में कोई लिंक होने से इंकार किया है।
    (फोटो- एमक्यूएम के नेता मंजर इमाम की फाइल फोटो)
  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: Protest against India in Pakistan
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Pakistan

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top