Home »International News »International » Venezuela Currency Worth So Little, People Weighing Notes Instead Of Counting

भारत से भी बुरा है यहां का हाल, लोग बोरियों में नोट भर खरीद रहे सामान

dainikbhaskar.com | Dec 02, 2016, 13:10 PM IST

कराकस में फ्रूट स्टोर वाले 10 बॉलिवर के नोट की पूरी गड्डी थोड़े से फलों के बदले ले रहे हैं।

कराकस.भारत में नोटबंदी के चलते लोग नोट की कमी की परेशानी से जूझने की बात कर रहे हैं। साथ ही, एटीएम पर लंबी लाइनों की शिकायत कर रहे हैं। करीब-करीब यही हाल वेनेजुएला में भी है, लेकिन यहां इसकी वजह नोटबंदी नहीं बल्कि नोटों का रद्दी के भाव हो जाना है। खराब आर्थिक हालात के चलते यहां मुद्रा की कीमत ऐसी गिर गई है कि लोग नोट बैग में भर-भरकर दुकानों पर पहुंच रहे हैं, तब भी उन्हें जरूरत का मामूली सामान ही मिल पा रहा है। ज्यादा नोट निकलने से तीन घंटे में ही खाली हो रहे एटीएम...
- वेनेजुएला में आर्थिक संकट 2014 से शुरु हुआ, जब अंतरराष्ट्रीय तेल बाजार में कच्चे तेल की कीमत हो तिहाई कम हो गई।
- दो साल में तेल ब्रिकी से होने वाली इनकम आधी हो गई और देश इस कगार पर पहुंच गया है।
- यहां नोटों के ढेर लगे हुए हैं, लेकिन डॉलर के मुकाबले बॉलिवर (मुद्रा) कमजोर होने के चलते कौड़ियों के भाव हो गई है।
- किराने की दुकान चलाने वाले हम्बर्टों के मुताबिक, व्हाइट मक्खन की स्लाइस देने के लिए वो उतनी वजन के नोट ले रहे हैं।
- यानी मक्खन की स्लाइस के वजन के बराबर कस्टमर को नोट की गड्डियां देनी पड़ रही हैं।
- ऐसी भी कई फोटोज सामने आई हैं, जिनमें दुकानदार नोट गिनकर नहीं, बल्कि तौलकर लेते दिख रहे हैं।
- कराकस में फ्रूट स्टोर वाले 10 बॉलिवर के नोट की पूरी गड्डी थोड़े से फलों के बदले ले रहे हैं।
- यहां सिगरेट सबसे ज्यादा बिकने वाले सामानों में हैं। इसके एक पैकेट की कीमत 250 बॉलिवर से दो हजार बॉलिवर तक पहुंच गई है।
- नोटों के ऐसे इस्तेमाल के चलते एटीएम में पैसे ही नहीं बच रहे। हर तीन घंटे पर मशीनें नोट से भरी जा रही हैं।
- इसके साथ ही भारत की ही तरह यहां भी एटीएम पर लंबी-लंबी लाइनें लगी देखी जा रही हैं।
आगे की स्लाइड्स में देखें फोटोज...
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: Venezuela currency worth so little, people weighing notes instead of counting
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

    More From International

      Trending Now

      Top