Home »International News »International » US Military Officially Lifts Ban On Female Soldiers Serving In Combat

अब युद्ध में मोर्चा ले सकेंगी अमेरिकी महिलाएं

Agency | Jan 25, 2013, 10:38 AM IST

अब युद्ध में मोर्चा ले सकेंगी अमेरिकी महिलाएं, international news in hindi, world hindi news
वाशिंगटन. अमेरिका अब युद्ध के मैदान में भी महिलाओं को लड़ने की इजाजत दे दी है। अब तक महिलाओं को मोर्चे पर भेजे जाने पर रोक लगी हुई है। इसे हटा दिया गया है।
रक्षामंत्री लियोन पनेटा ने गुरुवार को ज्वाइंट चीफ्स ऑफ स्टाफ के चेयरमैन मार्टिन डिंपसे से मुलाकात के बाद यह घोषणा की। महिलाओं को मोर्चे पर भेजने पर रोक 1994 में लगी थी। लड़ाई के मोर्चे के नजदीक महिलाओं के लिए 14,500 पद पिछले साल बनाए गए थे। 14 लाख सैनिकों वाली अमेरिकी सेना में महिलाओं की संख्या 14 प्रतिशत है।
महिलाओं की भागीदारी बढ़ेगी
यहां रहीं महिलाएं
इराक और अफगान युद्ध में अमेरिकी महिला सैनिकों ने चिकित्सा कर्मी, सैन्य पुलिस और खुफिया अधिकारी के रूप में काम किए। कई बार उन्हें मोर्चे पर भी भेजा गया लेकिन आधिकारिक जिम्मेदारी नहीं दी गई। इन लड़ाइयों में 2012 में 130 महिलाएं मारी गईं थीं।
क्या पड़ेगा असर- अमेरिकी महिलाएं मोर्चे पर तैनात हो सकेंगी। विशेष कमांडो दस्तों में नियुक्ति के दरवाजे खुल जाएंगे। मोर्चे पर दो लाख 30 हजार महिलाओं की नियुक्ति होगी।
इन्हें रहेगा इंतजार- नेवी सील्स और डेल्टा फोर्स जैसी विशेष टुकड़ियों में तैनात होने के लिए महिलाओं को इंतजार करना होगा।
क्यों लिया फैसला- नवंबर में चार महिलाओं ने मोर्चे पर तैनाती के प्रतिबंध को असंवैधानिक बताते हुए रक्षा मंत्रालय के खिलाफ मुकदमा दायर कर दिया था।
अब सीरिया की सेना में भी महिलाएं
दमिश्क. गृहयुद्ध में फंसे सीरिया में अब ‘लेडी आर्मी’ तैयार हो रही है। करीब 500 महिलाओं को हाल ही भर्ती किया गया है। इसे विद्रोहियों के खिलाफ सरकार की चाल के रूप में देखा जा रहा है। विद्रोही अगर महिलाओं पर हथियार उठाएंगे तो जनता में उनके खिलाफ गलत संदेश जाएगा।
मार्च 2011 से चल रहा सीरिया में संघर्ष
60000 से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं यहां अब तक।
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: US military officially lifts ban on female soldiers serving in combat
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From International

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top