Home »Jharkhand »Dhanbad Zila »Dhanbad» सर, बिजली सब-स्टेशन में अकेले लगता है डर जाने कब किस उपकरण से निकलने लगे आग

सर, बिजली सब-स्टेशन में अकेले लगता है डर जाने कब किस उपकरण से निकलने लगे आग

Bhaskar News Network | Mar 21, 2017, 02:30 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
सर, बिजली सब-स्टेशन में अकेले लगता है डर जाने कब किस उपकरण से निकलने लगे आग
सर, सब-स्टेशन में अकेले रहने में हमेशा डर लगा रहता है। कब कौन-से उपकरण से चिनगारी निकलेगी, भगवान ही जाने। बाबुओं को उपकरण बदलवाने के लिए कई बार कहा, लेकिन वे सुनते ही नहीं हैं। बड़ी खराबी आने पर ही अफसर यहां पहुंचते हैं,। नहीं तो यहां कर्मी कैसे काम कर रहे हैं, यह कोई देखने तक नहीं आता। कुछ ऐसी ही बातें डीबी स्टार की टीम को विद्युत सब-स्टेशनों में कार्यरत स्विच ऑपरेटरों के मुंह से सुनने को मिलीं। अपना दर्द बयान करते ऑपरेटरों की आंखों में गुस्सा भरा होता है। दरअसल, हीरापुर सब-स्टेशन के उपकरण में आग लगने के बाद डीबी स्टार की टीम ने शनिवार को शहर के प्रमुख सब-स्टेशनों का जायजा लिया। ज्यादातर में लगे उपकरण खस्ताहाल मिले। बिजली वितरण निगम के अफसरों की लापरवाही की वजह से शहर के सब-स्टेशन जानलेवा बन चुके हैं। वे इतने जर्जर हो चुके हैं कि फुल लाेड काे झेल ही नहीं सकते। शुक्रवार को हीरापुर सब-स्टेशन में घटित घटना इसी लापरवाही का नतीजा है। जानकारों का मानना है कि वहां के कंट्रोल पैनल पुराने और जर्जर हो जाने की वजह से ही आग लगी थी। कुछ दिनों पूर्व बिजली वितरण निगम के अफसरों ने अारएपी-डीआरपी योजना के तहत विद्युत सब-स्टेशनों की स्थिति जानने के लिए सर्वे कराया था। सर्वे टीम ने 17 सब-स्टेशनों में कभी कोई बड़ा हादसा हो जाने की आशंका जताई थी। रिपोर्ट मिलने के बाद बिजली वितरण निगम ने सब-स्टेशनों के उपकरणों को अपग्रेड करने का जिम्मा हैदराबाद की कंपनी गोपी-कृष्ण को सौंपी है। हालांकि, कंपनी ने अब तक मेंटनेंस का काम शुरू नहीं किया है। कर्मचारी जान हथेली पर रखकर काम करने को मजबूर हैं।

इन सब-स्टेशनों की स्थिति ज्यादा खराब

हैदराबादीकंपनी की सर्वे रिपोर्ट के मुताबिक, धनबाद के हीरापुर, पीएमसीएच, धैया, मनईटांड़, आमाघाटा, गोधर, पुटकी, चासनाला, तिलाटांड़, बांसजोड़ा, कांड्रा, भूली, डिगवाडीह, जामाडोबा, मुकुंदा, सिंदरी, गोविंदपुर सब-स्टेशनों की हालत सबसे ज्यादा खस्ताहाल है। अगर उन्हें तुरंत अपग्रेड नहीं किया गया, तो इस साल गर्मी में वे लाेड नहीं ले सकेंगे। जर्जर उपकरण हादसों की वजह भी बन सकते हैं।

^सब-स्टेशन को अपग्रेड करने की जिम्मेवारी गोपी-कृष्ण कंपनी को सौंपी गई है। कंपनी को काम जल्द शुरू करने को कहा गया है। जिन सब-स्टेशनों की स्थिति सबसे ज्यादा खराब है, वहां विभागीय स्तर पर मेंटनेंस का काम कराने को कहा गया है।'' -सुभाष कुमार सिंह, जीएम, धनबाद विद्युत आपूर्ति क्षेत्र

सब-स्टेशनों के स्विच, बसबार और ब्रेकर खस्ताहाल

कंपनीगोपी-कृष्ण के प्रतिनिधियों के मुताबिक, धनबाद सर्कल के सभी सब-स्टेशनों में लगे स्विच लगभग टूट चुके हैं। उनमें कपड़ा लगाया गया है। शट डाउन लेने के लिए कपड़े के सहारे स्विच को ऑन-आॅफ किया जाता है। कुछ ऐसी ही स्थिति सब-स्टेशनों के ब्रेकरों की भी है। ज्यादातर ब्रेकर खराब हो चुके हैं। ब्रेकर का काम बिजली की खराबी को वहीं रोक देना है, लेकिन उनके खराब रहने से किसी गड़बड़ी का पता लगाने में ही घंटों बर्बाद हो जाते हैं और छोटी गड़बड़ी बड़ी बन जाती है। पावर ट्रांसफॉर्मर से बिजली वितरण में सहायक सब-स्टेशनों के बस बार भी पूरी तरह जर्जर हो चुके हैं। उनमें लगे पाइप सड़ कर टूट चुके हैं। इससे निर्बाध बिजली सप्लाई में परेशानी काफी बढ़ गई है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: सर, बिजली सब-स्टेशन में अकेले लगता है डर जाने कब किस उपकरण से निकलने लगे आग
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Dhanbad

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top