Home »Jharkhand »Jamshedpur »Jamshedpur » Gangster Akhilesh Singh

जिसने आवाज उठाई उस पर गोली चली, इस गैंगस्टर ने जज-जेलर को भी नहीं छोड़ा

श्याम झा | Mar 21, 2017, 00:59 IST

अखिलेश जेलर उमाशंकर पांडेय व झामुमो नेता उपेंद्र सिंह हत्याकांड सहित दर्जनों केस का आरोपी है।

जमशेदपुर.एक गैंगस्टर के सामने जमशेदपुर पुलिस बेबस है। चार दर्जन से ज्यादा मामलों में वांछित व सजायाफ्ता गैंगस्टर अखिलेश सिंह को जमीन निगल गई या आसमान खा गया, वह कहां है? किसी को नहीं पता। विभागीय जानकारों क अनुसार, पुलिस में ही ‘जयचंद’ हैं इसीलिए वह छह महीने से छका रहा है। सिपाही से लेकर वरीय अफसर उसके लिए काम करते हैं। रांची विशेष शाखा में कार्यरत सिपाही और गिरिडीह में पदस्थािपत में सब इंसपेक्टर ने उसकी जमानत ली थी। इसके बाद से वह फरार है। अब उसके आगे पुलिस के सारे नेटवर्क फेल हो चुके हैं।
- अखिलेश की तलाश में उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड सहित कई जगहों पर छापामारी की गई, लेकिन वह नहीं मिला। दबाव बनाने के लिए घर की कुर्की की गई। पत्नी व ससुर से पूछताछ की गई, फिर भी वह सामने नहीं आया।
- पुलिस ने अखिलेश पर 5 लाख रुपए इनाम की घोषणा की। इसके बावजूद भनक नहीं लगी। अखिलेश जेलर उमाशंकर पांडेय व झामुमो नेता उपेंद्र सिंह हत्याकांड सहित दर्जनों केस का आरोपी है।
- पुलिस अधिकारी, जज, जेलर, व्यवसायी, उसने किसी को नहीं बख्शा। जिसने आवाज उठाई, उस पर गोली चली या हत्या हो गई।
- पुलिस की नाकामयाबी का सबसे बड़ा कारण विभाग के लोग ही हैं, जो वेतन सरकार से लेते हैं, लेकिन काम अखिलेश के लिए करते हैं। कई लोग उसके पे-रोल पर हैं। उसके जेल में रहने पर जमानतदार बन जाते हैं। जब विभाग में ऐसे लोग हों तो गिरफ्तारी कैसे हो सकती है। पुलिस थाने से निकलती है और इससे पहले अखिलेश तक सूचना पहुंच जाती है।
52 मामले अबतक दर्ज, 36 कोर्ट में चल रहे, 2 कांड में उम्रकैद
- अखिलेश पर कुल 52 केस दर्ज हैं। इनमें से कोर्ट में 36 मामले चल रहे हैं। जेलर उमाशंकर पांडेय और दरोगा अरविंद सिंह मामले में उम्रकैद की सजा सुनाई गई है। कई मामले में वह बरी हो गया है।
- जेलर उमाशंकर पांडेय हत्याकांड में उसने हाई कोर्ट अपील की है। जज आरपी रवि पर फायरिंग, घाघीडीह जेल में परमजीत सिंह की हत्या आदि मामले में डिस्चार्ज पिटीशन पर बहस चल रही है। 2005 में जेल में सिपाही लखन यादव से मारपीट का मामला चल रहा है।
जेल से जमानत पर छूटने के बाद दो हत्याकांड में अाया नाम
- जेलर उमाशंकर पांडेय हत्याकांड में अखिलेश को आजीवन कारावास की सजा हुई है। वह सशर्त जमानत पर जेल से छूटा और दो हत्या में उसका नाम आया। कोर्ट परिसर स्थित बार भवन में झामुमो नेता उपेंद्र सिंह की हत्या हो गई। इसके एक सप्ताह बाद उपेंद्र के सहयोगी अमित राय की हत्या सोनारी शिवगंंगा अपार्टमेंट स्थित घर के पास ही कर दी गई।
आगे की स्लाइड्स में पढ़िए दिल्ली से यूपी तक हो रही तलाश।
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: gangster akhilesh singh
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।
 

Stories You May be Interested in

      More From Jamshedpur

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top