Home »Jharkhand »Ranchi »News» गंगा किनारे के 78 गांवों में दिए जाएंगे धुआं रहित 1400 चूल्हे

गंगा किनारे के 78 गांवों में दिए जाएंगे धुआं रहित 1400 चूल्हे

Bhaskar News Network | Aug 28, 2016, 03:40 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
शहरी क्षेत्र में अतिक्रमित वन भूमि को तत्परता से खाली कराएं : सीएस

नमामिगंगे परियोजना के तहत झारखंड में गंगा किनारे बसे 33 पंचायतों के 78 गावों का सरकार समग्र विकास करेगी। अब तक इन गावों में 400 धुआं रहित चूल्हों का वितरण किया गया है। सितंबर तक लोगों को और 1000 चूल्हे दिए जाएंगे। इन गांवों में 7000 पौधे रोपे गए हैं। अगले माह तक और 7000 पौधे रोपे जाएंगे। अगले माह तक दो गावों के लिए सॉलिड वेस्ड मैनेजमेंट की डीपीआर तैयार कर ली जाएगी। 5450 बायोडाइजेस्ट टॉयलेट का भी निर्माण किया जाएगा। इन गावों में 32 स्नानघर एवं 9 शवदाह गृह भी बनाए जा रहे हैं। यह जानकारी शनिवार को मुख्य सचिव की समीक्षा बैठक में यूएनडीपी के अधिकारियों राज्य कार्यक्रम प्रबंधन समूह के अधिकारियों ने दी।

मुख्य सचिव ने संबंधित अधिकारियों को कार्ययोजना पर तेजी से अमल करने का निर्देश दिया। लोगों को स्वच्छता के प्रति संवेदनशील बनाने का भी सुझाव दिया। इसके लिए यूएनडीपी, नगर विकास एवं आवास विभाग के अंतर्गत गठित इकाई एसपीएमजी (राज्य कार्यक्रम प्रबंधन समूह) का गठन किया गया है।

मुख्य सचिव ने कहा कि कैंपा के तहत होने वाले वन विकास के लिए विभाग 5 वर्षों की कार्य योजना तैयार करे। वन क्षेत्रों के संरक्षण एवं उनके संवर्द्धन हेतु ऐसी कार्य योजना बनाये कि वन भूमि का डिमार्केशन के साथ साथ वन्य आश्रयणी संरक्षित रहे। उन्होंने कहा कि क्षेत्रवार योजना तैयार करने के साथ साथ किस किस मद में केन्द्र सरकार से कब और कितनी राशि मिल सकेगी, इसका भी प्रतिवेदन तैयार करे। वित्तीय वर्ष 2017-18 में विभाग 10-12 हजार हेक्टेयर बंजर वन भूमि में वृक्षारोपण करने का लक्ष्य निर्धारित करे।

वन एवं पर्यावरण विभाग की समीक्षा करतीं मुख्य सचिव, साथ में विभागीय सचिव अन्य।

यूएनडीपी के साथ सरकार ने एमओयू किया है, जिसमें रूरल सेनिटेशन इनिसिएटिव इन झारखंड के तहत 78 गांवों में जरूरी कार्य होंगे। सीएस ने कहा कि चिह्नित क्षेत्रों में कार्य करने वाले एसएचजी को बैंकों के साथ टैग किया जाए। जर्जर सड़कों को चिह्नित कर उनकी मरम्मत की कार्ययोजना तैयार करें। किसानों को तकनीकी तौर पर सक्षम बनाने के लिए इस परियोजना के तहत आरके मिशन द्वारा प्रशिक्षण भी दिया जाएगा। फिर उन्हें लघु कृषि वैज्ञानिक की डिग्री दी जाएगी। यूएनडीपी की ओर से बताया गया कि साहेबगंज में गंगा से सटे ग्रामीण इलाकों में लोगों की आजीविका के लिए फ्लाई ऐश से ईंट निर्माण की इकाई लगाई जाएगी। इसमें स्थानीय लोगों को रोजगार मिलेगा। यह इकाई अक्टूबर से प्रारंभ कर दी जाएगी। बैठक में राज्य कार्यक्रम प्रबंधन समूह के परियोजना निदेशक आरके शर्मा, नेशनल कोऑर्डिनेटर पीएस सोढी, सुमंत्र मुखर्जी विभूति कुमार आदि मौजूद थे।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
DBPL T20
Web Title: गंगा किनारे के 78 गांवों में दिए जाएंगे धुआं रहित 1400 चूल्हे
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।
 

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top