Home »Jharkhand »Ranchi »News» Minnesia Students Taking 11 Marks In Interview

लिखित परीक्षा में जीरो अौर माइनस 11 अंक लाने वाले छात्रों को इंटरव्यू में बुलाया

विनय चतुर्वेदी | May 19, 2017, 04:00 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
रांची.रिनपास (रांची इंस्टीट्यूट ऑफ न्यूरो साइकेट्री एंड एलाइड साइंसेज) में 3 मई को एमफिल और पीएचडी में एडमिशन के लिए लिखित परीक्षा हुई। इस परीक्षा में जिस छात्र (रोल नं: 30026) को जीरो नंबर मिला, उसे इंटरव्यू में बुलाया गया। इंटरव्यू में 22 अंक दिए गए। इसके बाद उसे रिजल्ट में वेटिंग वन का स्थान दिया गया। इतना ही नहीं, एमफिल (क्लीनिकल साइकोलाॅजी) के 300 अंकों की परीक्षा में जिन छात्रों को माइनस 8 (रोल नं: 30106) और माइनस 11 अंक (रोल नं: 30031) मिले, उन्हेें भी इंटरव्यू में बुलाया गया। हालांकि, ये दोनों सेलेक्शन सूची में शामिल नहीं किए गए।
पहली गड़बड़ी यह कि कायदे से इतने कम अंकों वाले छात्रों को इंटरव्यू में बुलाना ही नहीं चाहिए। पर बुलाया गया। दूसरी गड़बड़ी विज्ञापन में पीएचडी/एमफिल की लिखित परीक्षा और इंटरव्यू के अंकों का जिक्र नहीं था। इसके बावजूद रिनपास प्रबंधन ने बिना आदेश निकाले पीएचडी लिखित परीक्षा के लिए 100 में से कट-ऑफ-मार्क्स 50 अंक तय किया। बाद में 50 अंकों का इंटरव्यू था। लेकिन एमफिल के लिए कोई कट-ऑफ-मार्क्स तय नहीं किया गया। तीसरी गड़बड़ी, कैटेगरी के अनुसार कट-ऑफ-मार्क्स का निर्धारण नहीं किया गया। चौथी गड़बड़ी, एमफिल (क्लीनिकल साइकोलॉजी और पीएसडब्ल्यू) में 50 अंकों का इंटरव्यू लिया गया। इतनी अनियमितताओं के बाद भी रिनपास डायरेक्टर सुभाष सोरेन को इसमें कुछ भी गलत नहीं दिखता। कहते हैं - यहां तो पिछले 17 साल से ऐसा ही चलता आ रहा है। एडमिशन के लिए यहां कोई नियम नहीं है।
पूर्व से चली आ रही परंपरा का हमने पालन किया है। हालांकि, इस परीक्षा के संचालन में कार्मिक विभाग द्वारा नियुक्त संयुक्त सचिव सियाशरण पासवान डायरेक्टर के तर्कों से असहमत हैं। रिनपास के डिप्टी डायरेक्टर समेत कई विशेषज्ञ डायरेक्टर से सहमत नहीं हैं। 4 मई को रिजल्ट तैयार होने के बाद भी इन लोगों ने अभी अपना हस्ताक्षर नहीं किया है। पर, डायरेक्टर सोरेन ने आदेश दिया है कि अतिशीघ्र रिजल्ट का प्रकाशन किया जाए।
सियाशरण ने रिजल्ट शीट पर लिखा, फिर से ली जाए परीक्षा
सियाशरण पासवान ने रिजल्ट शीट पर गंभीर टिप्पणी की है। उन्होंने लिखा है - चयन हेतु लिखित एवं साक्षात्कार के लिए पूर्णांक निर्धारित नहीं हैं। कोटिवार क्वालिफाइंग मार्क्स निर्धारण संबंधी आदेश निर्गत नहीं है। अतएव इन अर्हताओं को पूरा कर पुन: परीक्षा ली जाए।
डायरेक्टर ने फाइल में लिखा, अतिशीघ्र हो नामांकन
सियाशरण पासवान की टिप्पणी के बाद डिप्टी डायरेक्टर विनय कुमार सिंकू ने 12 मई को डायरेक्टर को फाॅरवार्ड किया। पर, डायरेक्टर सोरेन ने इससे उलट डिप्टी डायरेक्टर को लिखा - अविलंब आगे की कार्रवाई करें ताकि नामांकन अतिशीघ्र किया जा सके।
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: Minnesia students taking 11 marks in interview
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top