Home »Jharkhand »Ranchi »News » Precious Minerals Extracte From,Iit Dhanbad

IIT धनबाद की पहल, इलेक्ट्रॉनिक्स कचरे से निकाले जाएंगे 60 तरह के कीमती खनिज

bhaskar news | Mar 21, 2017, 05:53 IST

IIT धनबाद की पहल, इलेक्ट्रॉनिक्स कचरे से निकाले जाएंगे 60 तरह के कीमती खनिज
धनबाद.प्रति ग्राम पेलेडियम की कीमत 60 से 65 हजार रुपए है। इस मिनरल का उत्पादन भारत में नहीं होता है, जबकि कंप्यूटर, मोबाइल और टीवी में इसका इस्तेमाल किया जाता है। देश की कंपनियां ऐसे खनिजों का आयात करती हैं। हालांकि, कंप्यूटर, मोबाइल और टीवी आदि खराब हो जाने पर हम उसे फेंक देते हैं। ऐसे में उसमें इस्तेमाल किए गए कीमती खनिज भी कचरे का हिस्सा बन जाते हैं। आईआईटी धनबाद के फ्यूल एंड मिनरल विभाग ने ऐसे ही इलेक्ट्रॉनिक्स वेस्ट मैटेरियल से 60 से 62 कीमती मिनरल निकालने की योजना पर काम शुरू किया है। संस्थान ने इस संबंध में प्रसारण एवं सूचना-तकनीक मंत्रालय को प्रस्ताव भेजा है। मंत्रालय ने संस्थान को इस विषय पर काम करने की मंजूरी दे दी है। इसके लिए सबसे पहले वर्कशॉप आयोजित करने का निर्देश दिया गया है।
इलेक्ट्रॉनिक्स वेस्ट पर ये संस्थान कर रहे हैं काम
आईआईटी धनबाद के प्रोफेसर डॉ आर वेणुगोपाल ने बताया कि वर्तमान में इस विषय पर ई-परिसरा बेंगलुरु, सोनी बांबे, एनेमल जमशेदपुर ने काम शुरू किया है। सेंटर फॉर प्लास्टिक टेक्नोलॉजी (सीपीईटी) ऐसे संस्थाओं की काफी मदद कर रहा है। आईआईटी धनबाद ने भी सीपीईटी को प्रस्ताव भेजा है।
35 एफई आयरन ओर का ग्रेड 65 तक बढ़ाने पर हो रहा काम
स्टील इंडस्ट्री में इस्तेमाल के लिए न्यूनतम 65 प्रतिशत आयरन ओर जरूरी है, हालांकि दिन-प्रतिदिन डिग्रेडेशन होता जा रहा है। अब 55 प्रतिशत वाला आयरन ओर का इस्तेमाल होने लगा है। इसके बाद भी लो ग्रेड आयरन ओर का भंडार बढ़ता जा रहा है। उसे ठीक से रखने की व्यवस्था नहीं है। एक तो इसके लिए पर्याप्त जमीन नहीं मिलती, साथ ही बारिश में मिनरल बहकर बर्बाद हो जाता है और उससे जल प्रदूषण भी बढ़ रहा है। इसके मद्देनजर आईआईटी धनबाद में 35 एफई आयरन ओर का ग्रेड बढ़ा कर 65 करने की तकनीक पर काम चल रहा है। संस्थान के 25 शिक्षक और रिसर्च स्कॉलर इस पर काम कर रहे हैं।
शहर में बनाए जाएंगे ई-वेस्ट कलेक्शन सेंटर
डॉ वेणुगोपाल ने बताया कि इलेक्ट्रॉनिक्स वेस्ट को इकट्ठा करने के लिए शहर में कई स्थानों पर कलेक्शन सेंटर बनाए जाएंगे। इसके लिए जागरूकता अभियान चलाया जाएगा। मोबाइल, कंप्यूटर के दुकानदारों को भी जागरूक किया जाएगा, ताकि वे ई-वेस्ट कलेक्शन सेंटर में ही फेकें। नगर निगम और जिला प्रशासन को भी जागरूक किया जाएगा। डॉ वेणुगोपाल ने कहा कि आम तौर पर हम पुराना और खराब होने पर इलेक्ट्रॉनिक्स प्रोडक्ट को यूं ही फेंक देते हैं, क्योंकि हमें मालूम ही नहीं होता कि उनसे कीमती प्रोडक्ट निकाले जा सकते हैं।
62 तरह का मिनरल का निकाला जाएगा
-डिपार्टमेंट ऑफ फ्यूल एंड मिनरल इंजीनियरिंग कई विषयों में जीरो बेस्ट प्रोजेक्ट पर काम कर रहा है। इसमें सबसे अहम है इलेक्ट्रॉनिक्स वेस्ट मेटेरियल से करीब 62 तरह के मिनरल का निकाला जाना। इसके माध्यम से कई महंगे खनिज निकाले जाएंगे, जिसकी बाजार में प्रति ग्राम 60 से 65 हजार रुपए कीमत है।
-डॉ आर वेणुगोपाल, प्रोफेसर, डिपार्टमेंट ऑफ फ्यूल एंड मिनरल इंजीनियरिंग, आईआईटी धनबाद
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: precious minerals extracte from,iit dhanbad
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।
 

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top