Home »Jharkhand »Ranchi »News» Breakdown Of The 28 Months Old Government In Jharkhand

PICS : ... आखिरकार टूट ही गया 28 महीनों का साथ और जुदा हो गयी राहें

विशेष संवाददाता। | Jan 08, 2013, 12:06 IST

  • रांची। अर्जुन मुंडा सरकार से झामुमो ने समर्थन वापस ले लिया है। दो दिन तक चली बैठकों के बाद सोमवार शाम पार्टी विधायक दल के नेता हेमंत सोरेन ने यह घोषणा की। रविवार को कोर कमेटी और विधायक दल की हुई बैठक में समर्थन वापसी का फैसला हुआ था, जिस पर सोमवार को झामुमो की केंद्रीय कार्यसमिति ने मुहर लगायी।
    हेमंत ने कहा कि भाजपा के प्रदेश प्रभारी और मुख्यमंत्री से हुई बात के बाद भी जब भाजपा की हठधर्मिता कायम रही तो पार्टी ने समर्थन वापस लेने का निर्णय लिया। समर्थन वापसी का पत्र सौंपने राज्यपाल के पास कब जाएंगे के सवाल पर हेमंत ने कहा कि, यह डेट गुरुजी तय करेंगे, जिसे सबको बता दिया जाएगा।
    आप भी देखिये तेज़ हुई सियासी हलचल की तस्वीरें -
    फोटो - सैयद रमीज़।
  • नया जनादेश ही है एक मात्र विकल्प : आजसू
    राज्य में जारी राजनीतिक अस्थिरता पर आजसू ने चुघ्पी तोड़ते हुए नया जनादेश को एकमात्र विकल्प बताया है।पार्टी विधायक उमाकांत रजक ने कहा कि पार्टी की राय है कि विधानसभा भंग किया जाए।जनता को नयी सरकार चुनने का मौका मिले। नया जनादेश के लिए राज्य में शीघ्र चुनाव कराने की घोषणा की जाए। रजक ने कहा कि समन्वय के अभाव में यह सरकार गिरी है।अगर समन्वय को मजबूत बनाया गया होता तो यह दिन देखने को नहीं आता।रजक ने जानकारी दी कि पार्टी की सेंट्रल वर्किंग कमेटी की बैठक नौ जनवरी को होगी, जिसमें राज्य के राजनीतिक हालात की समीक्षा करते हुए आगे की रणनीति बनायी जाएगी।
  • नेतृत्व परिवर्तन थी मुख्य शर्त :इस मामले को पैचअप करने के आखिरी प्रयास के क्रम में मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा और शिक्षा मंत्री वैद्यनाथ राम सोमवार सुबह मोरहाबादी स्थित गुरुजी के आवास गए, पर बात नहीं बनी। इसके पहले भाजपा के प्रदेश प्रभारी धर्मेंद्र प्रधान ने फोन पर हेमंत सोरेन से बात की थी।हेमंत ने सरकार बचाने के लिए तीन शर्तें उनके सामने रखी थीं, पर धर्मेंद्र के इनकार करने पर झामुमो ने समर्थन वापस लेने की घोषणा कर दी।

  • हेमंत ने कहा था कि अगर भाजपा सत्ता हस्तांतरण नहीं करने के बाद भी चाहती है कि सरकार चलती रहे, तो वह नेतृत्व परिवर्तन करे। अर्जुन मुंडा की जगह भाजपा किसी दूसरे को मुख्यमंत्री बनाने की घोषणा करे।भाजपा का कौन विधायक सीएम हो, इसके लिए सभी घटक दलों की सहमति भी जरूरी है। दूसरी शर्त के रूप में 28- 28 महीने के समझौते का सच्चाई से खुलासा करने को कहा गया, जबकि तीसरी शर्त के रूप में अपमानजनक बयान देने के लिए भाजपा सांसद निशिकांत दुबे को झामुमो प्रमुख शिबू सोरेन से माफी मांगने को कहा गया था।

  • JMM कार्यकारिणी की बैठक में पार्टी सुप्रीमो शिबू सोरेन।

  • डिप्टीCM सोरेन से गुफ्तगू करते शिक्षा मंत्री बैद्यनाथ राम।

  • समन्वय के अभाव में सरकार से समर्थन लिया : हेमंत :हेमंत सोरेन ने कहा कि राज्य में जारी अस्थिरता का उन्होंने आज पटाक्षेप कर दिया। अर्जुन मुंडा की सरकार में समन्वय का घोर अभाव रहा, जो समर्थन वापसी का कारण बना।भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व को कई बार संदेश भेजा गया था कि सरकार में समन्वय नहीं बन पा रहा है, पर उन्होंने भी कोताही बरती। झामुमो प्रमुख के खिलाफ संथाल के एक सांसद लगातार आपत्तिजनक बयान देते रहे और भाजपा संगठन चुप रहा। पार्टी अध्यक्ष के खिलाफ अनर्गल बयान को हम बर्दाश्त नहीं कर सकते। गुरुजी के मान-सम्मान से हम कोई समझौता नहीं कर सकते। हेमंत ने कहा कि इन तमाम परिस्थितियों में मौजूदा मुख्यमंत्री के साथ काम करना संभव नहीं रह गया था, लिहाजा यह निर्णय लेना पड़ा।

  • अब क्या हैं संभावनाएं :


    1. राजद और निर्दलीयों के सहयोग से झामुमो- कांग्रेस बना सकते हैं सरकार।
    2. बात नहीं बनी तो राज्य में लग सकता है राष्ट्रपति शासन।

  • बैठक पर राजभवन की भी थी नजर
    झामुमो की दो दिन से जारी बैठकों और उसमें लिए जाने वाले फैसले पर राजभवन की भी नजर टिकी थी। सोमवार को राजभवन में लोग दिन भर भाजपा और झामुमो नेता द्वारा राज्यपाल से मिलने के लिए समय मांगने के पत्र का इंतजार कर रहे थे। देर शाम जब यह सूचना बाहर आई कि झामुमो ने सरकार से समर्थन वापस लेने का निर्णय ले लिया है, तो राजभवन भी सक्रिय हो गया। सोमवार को देर रात तक झामुमो ने राजभवन जाकर समर्थन वापसी का पत्र देने का कार्यक्रम तय नहीं किया था।
  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: Breakdown of the 28 months old government in jharkhand
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top