Home »Jharkhand »Ranchi »News» PHOTOS: Do Not Pour Colour Here By Mistake, Else You Have To Get Married!

PHOTOS : यहां गलती से भी न डालना रंग, वरना करनी पड़ेगी शादी!

Pankaj Saw | Jan 07, 2013, 00:00 IST

  • रांची। बुरा न मानो होली है! किसी पर रंग डाला और इतना कह कर ठठा कर हंस पड़े। जिस पर रंग डाला वह भी मुस्कुरा गया और आ गया मजा। दोस्ती-यारी और रिश्तों की अनुमति हो तो होली में रंग खेलने में लिंग भेद भी बाधा नहीं बनती। पर यहां ऐसा किया, तो आप चाहो न चाहो आपकी शादी पक्की। हम बात कर रहे हैं झारखंड के पूर्वी सिंहभूम में बसे एक आदिवासी समुदाय की। यहां के संथाल आदिवासियों में यह परंपरा लंबे समय से चली आ रही है। इसलिए यहां होली तो खेली जाती है पर रंगों से नहीं बल्कि सिर्फ पानी से।

    इस अजब-गजब रिवाज को करीब से जानने के लिए क्लिक करें आगे की स्लाइड्स पर।

  • संथाल जाति में यह परंपरा लंबे समय से चली आ रही है। यही कारण है कि होली के दौरान भी आदिवासी समुदाय रंगों से परहेज करता है। किसी युवक द्वारा किसी युवती पर रंग डाला जाना गंभीर अपराध माना जाता है। और तो और इसे समुदाय में सिंदूरदान के बराबर माना जाता है।

  • ऐसा नहीं है कि यह नियम सिर्फ युवकों पर लागू होता है, किसी युवती ने किसी युवक पर रंग डाला तो तो भी इसे जबरन विवाह माना जाता है। रंग डालने के बाद इसे सामाजिक अपराध मानते हुए इस पर पंचों की बैठक बुलाई जाती है। अगर युवक-युवती शादी को तैयार हुए तो विवाह की बाकी रस्में पूरी कर दी जाती हैं।

  • रंग डालने के जिस केस में युवक या युवती शादी के लिए तैयार नहीं होते तो रंग डालने वाले पर जुर्माना लगा दिया जाता है। समुदाय में महिलाओं को रंग डालना पूरी तरह मना है, इसलिए पुराने समय से पसंद की शादी के लिए युवक-युवती इस परंपरा को हथियार के रूप में इस्तेमाल करते रहे हैं।

  • होली या किसी अन्य मौके पर लड़का लड़की को रंग डाल देता है और समाज उनकी शादी करवा देता है। यहां एक बात और उल्लेखनीय है कि किसी युवक ने अगर लड़की पर गलती से भी रंग डाला तो उसे आदिवासी परंपरा के मुताबिक विहाह-विच्छेद (तलाक लेना) करना पड़ता है। लेकिन दुःख की बात यह है कि बिना गलती के ही इस घटना के बाद उस युवती को तलाकशुदा माना जाता है।

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: PHOTOS: Do not pour colour here by mistake, else you have to get married!
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top