Home »Jharkhand »Ranchi »News» Road Jam And Violence In Ranchi

PHOTOS : बीच सड़क लगा दी आग, भिड़ गये पुलिस से फिर देखिये क्या हुआ!

राकेश। | Dec 09, 2012, 00:09 IST

  • प्रशासन अधिग्रहण करेगी भूमि : एसडीओ - डीसी के प्रतिनिधि के रूप में पहुंचे एसडीओ अमित कुमार ने कहा क

    रांची।रांची यूनिवर्सिटी का सूरज सिंह मेमोरियल कॉलेज की भूमि बेचे जाने की भनक मिलने के बाद छात्रों ने शनिवार को उग्र प्रदर्शन किया। कॉलेज को बंद कराने के बाद टायर में आग लगाकर सड़क जाम कर दिया। इस क्रम में छात्रों ने आरयू विरोध नारेबाजी करने लगे। इनका कहना था कि आरयू प्रशासन की लापरवाही के चलते कॉलेज की भूमि बिक गई है। जाम हटाने को लेकर प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे आजसू के कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच धक्का-मुक्की हुई। इसके बाद पुलिस ने हल्का बल का प्रयोग किया। एसडीओ अमित कुमार के आश्वासन के बाद सुबह 10 बजे से शुरू हुआ सड़क जाम एक बजे समाप्त हो गया। प्रदर्शन में मुख्य रूप से हरीश कुमार, गदाधर महतो समेत काफी संख्या में स्टूडेंट थे। सड़क जाम के कारण आम लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। दोनों ओर बहानों की लंबी कतारें लग गईं।



    आप भी देखिये तस्वीरों में पूरा मामला - (फोटो : रमीज).





  • दान में मिली है भूमि : वीसी : कुलपति डॉ. एलएन भगत ने किया कॉलेज की भूमि दान में स्वर्गीय सूरज सिंह ने
    दान में मिली है भूमि : वीसी : कुलपति डॉ. एलएन भगत ने किया कॉलेज की भूमि दान में स्वर्गीय सूरज सिंह ने दिया था। तर्क देते हैं कि इसलिए कॉलेज का नाम सूरज सिंह मेमोरियल कॉलेज है। इसलिए इस भूमि को क्रय नहीं कर सकता है। मैं इस मामले पर आज ही एडवोकेट से विमर्श करुंगा। सुप्रीम कोर्ट तक कानूनी लड़ाई लड़ेंगे। राजभवन को दी है जानकारी : राजभवन जाकर कुलपति डॉ. एलएन भगत ने मामले की विस्तृत जानकारी दे दी है। वीसी ने कहा कि मैं कॉलेज से सीधे राजभवन गया था। मैं एसएस मेमोरियल कॉलेज का प्रिंसिपल रहा हूं। किसी भी स्थिति में कॉलेज भूमि नहीं जाएगी।
  • आरएलएसवाई कॉलेज पर भी संकट : राम लखन सिंह यादव कॉलेज पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं। यहां भी भूमि कॉ
    आरएलएसवाई कॉलेज पर भी संकट : राम लखन सिंह यादव कॉलेज पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं। यहां भी भूमि कॉलेज के नाम पर रजिस्ट्री नहीं हुई है। भूमि की मालिकाना हक की लड़ाई का मामला सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है।
  • कॉलेज की स्थापना 1972 में हुई थी : प्राचार्य डॉ. रंजीत सिंह ने बताया कि कॉलेज की स्थापना वर्ष 1972 में हु
    कॉलेज की स्थापना 1972 में हुई थी : प्राचार्य डॉ. रंजीत सिंह ने बताया कि कॉलेज की स्थापना वर्ष 1972 में हुई थी। स्वर्गीय सूरज सिंह और कॉलेज के बीच एग्रीमेंट हुआ था। इसका दस्तावेज रांची यूनिवर्सिटी के लीगल सेल के पास है। उन्होंने कहा कि कॉलेज में आठ हजार छात्र हैं। वर्ष 1980 में कॉलेज में अंगीभूत हुआ था। पूछने उन्होंने बताया कि अंगीभूत होने के लिए कॉलेज की भूमि रजिस्ट्री होना जरूरी है।
  • जेएन कॉलेज को भी अपना भूमि नहीं : जेएन कॉलेज, धुर्वा की भूमि एचईसी का है। अब तक कई बार एचईसी से कॉले
    जेएन कॉलेज को भी अपना भूमि नहीं : जेएन कॉलेज, धुर्वा की भूमि एचईसी का है। अब तक कई बार एचईसी से कॉलेज नोटिस मिला है। प्राचार्य डॉ. एसके सिन्हा कहते हैं कि इस कॉलेज कालेज का मामला अलग है। फरवरी में एचईसी 2012 में एचईसी का नोटिस मिला था। एचईसी और कॉलेज के बीच हुए करार का हवाला देते हुए मैं जवाब दे दिया था। इसके बाद एचईसी से पत्र नहीं आया है।
  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: road jam and violence in ranchi
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top