Home »Lifestyle »Travel» Badrinath Shrine To Be Reopened For Devotees From May 16

PIX: यहां पड़ती हैं इतनी बर्फ कि छह महीने भगवान भी नहीं खोलते अपने पट

DainikBhaskar.com | Feb 19, 2013, 09:56 IST

  • जो भी भक्त बद्रीनाथ की तीर्थ यात्रा करने की इच्छा रखते हैं, उनके लिए एक अच्छी खबर है। 16 मई 2013 से बद्रीनाथ के पट श्रृदालुओं के लिए खोले जा रहे हैं। हिमालय की गोद में बसे उत्तराखंड के प्रसिद्ध बद्रीनाथ मंदिर को 16 मई को फिर से खोल दिया जाएगा। गौरतलब है कि सर्दियों और बर्फ के कारण हर साल कुछ समय के लिए इसे बंद कर दिया जाता है।




    तस्वीरों के जरिए डालिए इस मंदिर से जुड़ी कुछ खास बातों पर एक नजर...।

  • गौरतलब है कि सर्दियों और बर्फ के कारण हर साल कुछ समय के लिए इसे बंद कर दिया जाता है।

    बद्रीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति के अध्यक्ष गणोश गोडियाल ने बताया कि 16 मई को 4 बजे से मंदिर का पोर्टल भक्तों के लिए खोल दिया जाएगा।


  • बद्रीनारायण मंदिर अलकनंदा नदी के किनारे उत्तराखंड राज्य में स्थित है। यह मंदिर भगवान विष्णु के रूप बद्रीनाथ को समर्पित है। यह हिन्दुओं के चार धाम में से एक धाम भी है। ऋषिकेष से यह 294 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

  • मन्दिर में नर-नारायण विग्रह की पूजा होती है और अखण्ड दीप जलता है, जो कि अचल ज्ञानज्योति का प्रतीक है।

  • प्रत्येक हिन्दू की यह कामना होती है कि वह बदरीनाथ का दर्शन एक बार अवश्य ही करे। यहाँ पर शीत के कारण अलकनन्दा में स्नान करना अत्यन्त ही कठिन है। अलकनन्दा के तो दर्शन ही किये जाते हैं।

  • यह हिमालय में 10,000 से अधिक फुट की ऊंचाई पर स्थित है, हर साल सर्दियों के दौरान यहां इतनी बर्फ पड़ती है कि छह महीने के लिए आवागमन तक बंद हो जाता है और अप्रैल या मई में फिर से श्रृदांलुओं के लिए पट खोले जाते हैं।

    निर्माण तिथि: 9वीं शताब्दी

    निर्माता: आदि शंकराचार्य

  • बद्रीनाथ के समीप अन्य दर्शनीय स्थल हैं- अलकनंदा के तट पर स्थित गर्म कुंड- तप्त कुंड, पौराणिक कथाओं में उल्लिखित सांप(साँपों का जोड़ा), शेषनाग की कथित छाप वाला एक शिलाखंड – शेषनेत्र, बद्रीनाथ से नज़र आने वाला बर्फ़ से ढंका ऊँचा शिखर नीलकंठ, जो 'गढ़वाल क्वीन' के नाम से जाना जाता है।

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: Badrinath shrine to be reopened for devotees from May 16
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Travel

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top