Home »Lifestyle »Relationships» No Joy Greater Than Giving

देने से बड़ा कोई और सुख नहीं

Danik bhaskar.com | Dec 09, 2012, 16:04 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
देने से बड़ा कोई और सुख नहीं

देने से तात्पर्य सिर्फ किसी जरूरमंद की जरूरत पूरी करने से नहीं है। इसका मतलब हर उस इंसान की मदद करने से है, जो आपके आसपास मौजूद है।



मदद किसी भी तरह से की जा सकती है, जैसे सहकमिर्यो या दोस्तों को आइडिया देना, किसी की तारीफ करना या किसी को बिजी शेड्यूल में भी समय देना। इससे दूसरों का मनोबल बढ़ता है और उन्हें हिम्मत भी मिलती है।


कुछ कम नहीं होगा



आपको यह समझना होगा कि देने से कभी कुछ कम नहीं होता है। इससे हमेशा आपको कुछ न कुछ मिलता ही है। जब आप खुद दूसरों की मदद के लिए आगे आएंगे तो दूसरे भी आपके लिए हमेशा मदद के लिए खड़े रहेंगे।



उम्मीद नहीं रखें



आप दूसरों के लिए उम्मीद की किरण बनें, लेकिन बिना किसी शर्त के। देने का सुख तभी मिल सकता है, जब आप दूसरों से कोई उम्मीद न रखें, अन्यथा आपका किया सब बेकार ही है। उदारता का भाव और प्यार ऐसी संपत्ति है, जब आप किसी को देते हैं तो उसकी वापसी असीमित होती है।



कहीं ज्यादा कीमती



आपकी छोटी-सी मदद दूसरों के चेहरे पर अपने आप मुस्कान ला सकती है। आपकी यह मदद पैसों से कहीं ज्यादा कीमती है। इससे आप भी दूसरों के प्यार के हकदार बनते हैं। वहीं, इससे आपके उदार हृदय और नि:श्छल मन का भी पता चलता है। मदद करने से आत्मीय सुख मिलता है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: No joy greater than giving
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Relationships

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top