Home »Magazine »Navrang» Navrang

मेरे उसूल थोड़े आड़े-टेढ़े हैं

उमेश उपाध्याय | Feb 25, 2017, 14:10 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
मेरे उसूल थोड़े आड़े-टेढ़े हैं
अमित साध न तो स्टारडम के नशे में रहते हैं और न ही बातचीत में कोई लाग-लपेट रखते हैं। उनके दिल की बात जुबान पर होती है। हाल ही में उनकी फिल्म 'रनिंग शादी' रिलीज़ हुई। वे जल्द ही 'सरकार 3' में दिखाई देंगे। इस दौरान हुई मुलाकात में उन्होंने जिंदगी, मोहब्बत और अनुभवों पर बात की...

हीरो के मेन रोल तक पहुंचने में आधा दशक लगा? अब लीड ही करेंगे या समांतर किरदार भी?
मैं फिल्म में लीड रोल को महत्व नहीं देता। कितने लोग ऐसे भी हैं, जो यहां तक भी नहीं पहुंच पाए। हो सकता है, मैं एक फिल्म में 3 मिनट का भी रोल कर लूं और यह भी हो सकता है कि 2 घंटे की मेन रोल को भी मना कर दूं। आजकल मेन लीड कुछ नहीं होता, कहानी ही सामूहिक रूप से प्रभावी होती है।

अनिश्चिचता भरे मनोरंजन जगत में मेहनत पर ज्यादा भरोसा करते हैं या लक पर?
मेरा मानना है कि आपके हाथ में आपकी मेहनत और सच्चाई है, इसलिए जो हाथ में है, वही करना चाहिए। कुल मिलाकर मैं मेहनत पर ज्यादा भरोसा करता हूं।

"काय पो छे' के सह कलाकारों की ग्रोथ खुशी के साथ जलन का भाव भी देती है?
उन्होंने काफी आगे से शुरुआत की तो और आगे पहुंच गए। मैंने "फुटपाथ' से शुरुआत की तो अब यहां तक पहुंच गया। धीरे-धीरे मैं भी आगे पहुंच जाऊंगा। फिलहाल, मैं ऐसी बातों के बारे में सोचता ही नहीं हूं। राजकुमार राव को और मैं बहुत क्लोज हैं। हम दोनों में बहुत अंधा और जुनूनी प्यार है। आज भी हम मैसेज करते हैं, समय और स्थान तय करके मिलते भी हैं। सुशांत सिंह राजपूत से बात नहीं हो पाती, वे थोड़ा बिजी हो गए हैं। वे अपने ख्वाब पूरे कर रहे हैं और मैं अपना। इसमें जलने वाली बात ही नहीं है। मुझे तो सबके आगे बढ़ने की खुशी ही खुशी होती है। अभी अमृता पुरी से बात हुई तो बताया कि वे सीरियल कर रही है।

आपकी सोच और उसूल कुछ अलग हैं?
मैं दूसरे तरीके से सोचता हूं, इसलिए मेरे जो उसूल हैं, वह थोड़े आड़े-टेढ़े हैं। मुझे बचपन में लोग समझ नहीं पाए, क्योंकि पढ़ाई-लिखाई में थोड़ा कमजोर था। मैं हर चीज उल्टा सोचता हूं। लेकिन आज उसी का खा रहा हूं। लोग मारने वाले से पूछते हैं कि इसे क्यों मार रहे हो, लेकिन मैं मार खाने वाले से पूछता हूं कि भई तुम मार क्यों खा रहे हो! हां, हर चीज को सोचता पॉजिटिव हूं।

टेलीविजन पर वापसी का इरादा?
मैं हर जगह आना चाहता हूं। हर जगह लोगों से सीखकर आना चाहूंगा। मैं बहुत बड़ा चोर हूं।
अपने व्यवहार, सच्चाई, शिद्दत, कर्तव्य परायणयता, सच्ची सोच से लोगों का दिल चोरी करके ले जाऊंगा।
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: Navrang
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।
 

Stories You May be Interested in

      More From Navrang

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top