Home »Magazine »Rasrang» Rasrang

अजबगजब:यहां पुलिस मंदिर में निपटाती है विवाद

Rasrang | Feb 05, 2017, 00:00 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
अजबगजब:यहां पुलिस मंदिर में निपटाती है विवाद
गुढ़ागौड़जी पुलिस थाने में एक विचित्र परंपरा पिछले 40 सालों से चली आ रही है। 2016 में इस थाने में 1348 परिवाद आए, जिनमें से 800 परिवाद बालाजी मंदिर में ही निपटा दिए गए...
पुलिस थाने में बने मंदिर में बैठे पुलिसकर्मी व अन्य।

मंदिर में हर मंगलवार व शनिवार को सामूहिक सुंदरकांड का पाठ एवं हनुमान चालीसा पाठ किया जाता है...
40 साल पहले कांस्टेबल ने बनवाया था मंदिर
गुढ़ा थाने में करीब 40 साल पहले कुएं का निर्माण कराया गया। उसके साथ ही मंदिर का भी निर्माण हुआ था। यह मंदिर कांस्टेबल गोकुलचंद अहीर ने बनाया था। इस मंदिर का एक बार जीर्णोद्घार भी हुआ है। यहां एक पुजारी भी है, जो नियमित रूप से मंदिर पर पूजा-पाठ कराता है। थाने के पास स्थित एक दुकानदार चौथमल शर्मा ने बताया कि पहले थाने में झूठे मामले अधिक आते थे। ये पुलिस के लिए सिरदर्द होते थे। इनमें सच्चाई जानने के लिए पुलिस ने मंदिर का सहारा लिया। पुलिस सूत्रों के अनुसार मंदिर का सहारा लेते ही झूठे मामलों में एकाएक कमी आ गई थी। इसलिए बाद में हर मामले को मंदिर के चबूतरे पर रखा जाने लगा। एसएचओ माधोराम ने बताया कि क्षेत्र में अमन शांति कायम रहे इसके लिए वे रोजाना मंदिर पर धोक भी लगाते हैं।
राजस्थान के झुंझुनूं जिले का गुढ़ा पुलिस थाना प्रदेश में अनूठा है। यहां आने वाले परिवादों को लेकर पुलिस अधिकारी जरा भी चिंतित नहीं होते हैं, क्योंकि अधिकांश मामले पुलिस थाने में बने बालाजी मंदिर में ही निपट जाते हैं। सालभर में इस थाने में करीब 1400 मामले आते हैं। ये सभी मामले थाने में बने बालाजी मंदिर की चौखट पर रखे जाते हैं। खास बात यह है कि इनमें से करीब 70 फीसदी मामले मंदिर में ही आपसी सुलह से निपट जाते हैं। क्योंकि भगवान के कोप से बचने के लिए हर आरोपी यहां सच उगल देता हैै। गुढ़ा थाने में आरोपियों को पुलिस वर्दी का नहीं बल्कि भगवान से ज्यादा डर लगता है। कई बार चोरी के आरोपी भी खुद को बेगुनाह साबित करने के लिए मंदिर में चुराया गया सामान तक रख देते हैं। थाने पर अधिकांश मामलों की बैठक मंदिर पर बने चबूतरे पर ही होती है।
मनोज खेदड़, गुढ़ागौड़जी, झुंझुनूं
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: Rasrang
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Rasrang

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top