Home »Maharashtra »Mumbai» Maharashtra Lack Behind In Investment Against Gujrat

निवेश में गुजरात से पिछड़ गया महाराष्ट्र, दस सालों में एसईजेड में 3.60 लाख रोजगार

Bhaskar news | Mar 20, 2017, 12:42 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
निवेश में गुजरात से पिछड़ गया महाराष्ट्र, दस सालों में एसईजेड में 3.60 लाख रोजगार
मुंबई.प्रदेश सरकार के तमाम प्रयास के बावजूद निवेश के क्षेत्र में महाराष्ट्र पड़ोसी राज्य गुजरात से पिछड़ गया है। साल 1991 से 2016 के बीच गुजरात में 14. 36 लाख करोड़ की तुलना में महाराष्ट्र में 11.43 लाख करोड़ का निवेश हुआ है। हालांकि निवेश के लिए गुजरात के 13.308 प्रस्ताव के मुकाबले महाराष्ट्र को ज्यादा यानी 19,437 प्रस्ताव मिले थे। विधानमंडल के दोनों सदनों में पेश की गई साल 2016-17 की आर्थिक सर्वेक्षण रिपोर्ट में यह बात सामने आई है।
रिपोर्ट के अनुसार, महाराष्ट्र में अगस्त 1991 से लेकर नवंबर 2016 के बीच राज्य में सबसे ज्यादा सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) उद्योग में निवेश हुआ। सरकार को आईटी उद्योग के लिए 476 करोड़ रुपए का प्रस्ताव मिला। इससे 3.87 लाख करोड़ का निवेश हुआ। यह राज्य में हुए कुल निवेश का 34.1 प्रतिशत हिस्सा है। ईंधन उद्योग में 1.42 लाख करोड़ और धातु उद्योग में 1.01 लाख करोड़ का निवेश हुआ है। राज्य के कुल निवेश में से आईटी उद्योग, ईंधन और धातु उद्योग क्षेत्र को मिलाकर 55.5 प्रतिशत निवेश हुआ है। आर्थिक सर्वेक्षण रिपोर्ट के मुताबिक गुजरात और महाराष्ट्र के बाद तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश निवेशकों के पंसदीदा राज्य हैं जबकि उत्तर प्रदेश पांचवें स्थान पर है।
दस सालों में एसईजेड में 3.60 लाख रोजगार
राज्य में फरवरी 2006 से लेकर अक्टूबर 2016 के बीच सरकार की तरफ से 68 विशेष आर्थिक क्षेत्र (एसईजेड) के प्रस्ताव को मंजूरी दी गई। लेकिन केवल नागपुर में 2, औरंगाबाद में 3, कोंकण में 6 और पुणे में सबसे ज्यादा 14 पुणे कुल मिलाकर 25 एसईजेड परियोजना कार्यान्वित हो सकी। इससे 3.60 लाख लोगों को रोजगार मिला। एसईजेड में 32,255 करोड़ रुपए का निवेश हुआ।
राज्य में 487 में से केवल 170 आईटी पार्क कार्यरत
राज्य में सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) उद्योग को बढ़ावा देने के लिए प्रदेश सरकार ने 487 निजी आईटी पार्क को मंजूरी दी थी लेकिन इनमें से केवल 170 आईटी पार्क कार्यरत हैं। महाराष्ट्र विधानमंडल में पेश की गई साल 2016-17 की आर्थिक सर्वेक्षण रिपोर्ट में यह जानकारी सामने आई है। रिपोर्ट के मुताबिक निजी आईटी उद्योग में 3,778 करोड़ रुपए का निवेश हुआ है। इसके जरिए 5.04 लाख लोगों को रोजगार मिला है। प्रदेश सरकार का कहना है कि बाकी के 317 आईटी पार्क में 10.243 करोड़ रुपए का निवेश का प्रस्ताव है। इससे लगभग 13.66 लाख रोजगार उपलब्ध होने की उम्मीद है। सरकार ने निजी भागीदारी के जरिए आईटी उद्योग को विश्वस्तरीय बुनियादी सुविधाएं प्रदान करने की कोशिश की है।
रिपोर्ट के अनुसार महाराष्ट्र औद्योगिक विकास महामंडल, सिडको और सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क ऑफ इंडिया ने मिलकर दिसंबर 2016 तक 37 सार्वजनिक आईटी पार्क विकसित किए हैं। इसमें 18,000 करोड़ का निवेश हुआ है। इन आईटी पार्क में 2.68 लाख रोजगार सृजन हुआ है। प्रदेश में सबसे ज्यादा निजी आईटी पार्क पुणे में 172, मुंबई में 162, ठाणे में 140, नागपुर में 5, औरंगाबाद में 3, नाशिक में 5 और वर्धा में 1 है।
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: Maharashtra Lack Behind In Investment Against Gujrat
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Mumbai

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top