Home »Maharashtra »Pune »News » Major Kunal Gosavi Funeral Today At Pandharpue.

बेटे की बॉडी को देख ऐसे फूट कर रोई मां, 4 साल की बेटी ने दी मुखाग्नि

dainikbhaskar.com | Dec 02, 2016, 16:13 PM IST

शहीद मेजर कुणाल की मां अपने आंसू नहीं रोक सकी।

सोलापुर: वाखरी में गुरुवार को नगरोटा आतंकी हमले में शहीद हुए मेजर कुणाल गोसावी का पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। हजारों लोगों की उपस्थिति में चार वर्षीय पुत्री उमंग ने मेजर गोसावी को मुखाग्नि दी। इस दृश्य को देखकर शहीद गोसावी की माताजी अपने आंसू नहीं रोक सकीं। शोक में डूबा गांव..
 
- शहीद कुणाल के पिता ने उनकी चार साल की बेटी उमंग को गोद में लेकर उसके हाथों चिता को मुखाग्नि दिलवाई।   
- मेजर कुणाल की शहादत की खबर के बाद से पूरे गांव में शोक की लहर थी। शहीद के सम्मान में इलाके के लोगों ने अपनी दुकानें बंद रखने का ऐलान किया था।
- इससे पहले बुधवार को शहीद का पार्थिव शाम 6:30 बजे जम्मू से दिल्ली लाया गया। घने कोहरे के कारण उसे बुधवार को पुणे नहीं लाया जा सका था।
- शहीद को अंतिम विदाई देने के लिए जिले के पालकमंत्री विजय कुमार देशमुख भी पंढरपुर में मौजूद थे। 
- अंतिम संस्कार से पहले शहीद को गार्ड ऑफ ऑनर भी दिया गया। गांव में उनकी अंतिम यात्रा भी निकाली गई। 
- गांव में उमड़ी भीड़ को देख सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किये गए थे। 
 
बेटे की शहादत पर पिता को गर्व..
 
- बेटे की शहादत पर पिता मुन्नागिर गोसावी ने कहा, "बेटे को खो देने का गम है, लेकिन मुझे गर्व है कि मेरा बेटा देश के लिए लड़ते हुए शहीद हुआ।"
- "मैं चाहता हूं कि सरकार अब दुश्मन के खिलाफ निर्णायक लड़ाई लड़े, ताकि हमें और जवान ना खोने पड़ें।"
- उन्होंने पीएम मोदी से अपील करते हुए कहा है कि, "मेरे बेटे की आत्मा को तभी शांति मिलेगी जब उसकी मौत का बदला पाकिस्तान से लिया जाएगा।"
 
 
कौन हैं मेजर कुणाल गोसावी
- मेजर कुणाल गोसावी ने पुणे के बीएमसीसी कॉलेज से कॉमर्स में ग्रेजुएशन किया है। 
- वे अपने पीछे माता-पिता, पत्नी, एक बेटी और भाई को छोड़ गए हैं। 
- 19 मार्च 1986 को गोसावी परिवार में जन्में कुणाल की स्कूलिंग पंढरपुर में ही हुआ थी।
- 11वीं में पढ़ने के दौरान उन्होंने एनसीसी ज्वाइन की और यहीं से एक विशेष परीक्षा देकर वे सीधे एनडीए में सलेक्ट हुए थे। 
- 2006 से वे सेना में बतौर मेजर कार्यरत थे। उनकी शादी 2009 में हुई थी। 
- कुणाल के पिता पंढरपुर के अर्बन बैंक में मैनेजर हैं। उन्हें फोन और टीवी से कुणाल के शहीद होने की जानकारी मिली।
 
हमले से 3 दिन पहले जम्मू पहुंचे थे मेजर
 
- मेजर कुणाल गोसावी एक महीने की छुट्टी पर पंढरपुर में थे। शनिवार को उनकी छुट्टी खत्म हुई थी।
- वे अपनी पत्नी और बेटी के साथ प्लेन से पुणे होते हुए जम्मू पहुंचे थे। पुणे तक उनकी मां वृंदा पूरे परिवार को छोड़ने आईं थीं।
- कुणाल को जाता देख उनकी मां रोने लगी थीं। उस दौरान उन्होंने मां से जल्द वापस आने का वादा भी किया था, लेकिन सिर्फ तीन दिन बाद बेटे की मौत की खबर आई। 
- अब बेटे की शहादत की खबर के बाद से उनके आंसू रुकने का नाम नहीं ले रहे हैं। वे कुणाल को याद कर कई बार बेसुध भी हो चुकी हैं।
 
भूल गए थे बुलेटप्रूफ जैकेट पहनना
- जिस वक्त आतंकियों ने हमला किया मेजर कुणाल अपनी पत्नी और बेटी के साथ घर पर ही थे। 
- हमले की खबर सुनकर वे पत्नी उमा और बेटी उमंग को छिप जाने की बात कहकर बिना बुलेटप्रूफ जैकेट के निकले।
- जानकारी के मुताबिक, घर से बाहर निकलते ही उनका सामना आतंकियों से हुआ और कुणाल वीरगति को प्राप्त हुए।
- सेना की और से कुणाल के बड़े भाई को फोन कर उनकी शहादत की जानकारी दी गई थी। 
 
शहीद संभाजी कदम को अंतिम विदाई देने उमड़ा सैलाब 
 
- जम्मू-कश्मीर के नागरोटा में आतंकी हमले में शहीद जानापुरी-नांदेड़ के वीर जवान शहीद संभाजी कदम का पार्थिव नौसेना के विशेष हवाई जहाज से गुरुवार को नांदेड़ हवाई अड्डे पर पहुंचा। 
- इस दौरान हवाई अड्डे पर महानगरपालिका की महापौर शैलजा स्वामी, विधायक डी. पी. सावंत, विधायक अमिताताई चव्हाण आदि मौजूद थे। 
- सभी ने पुष्पचक्र अर्पण कर शहीद कदम को भावपूर्ण श्रद्धांजलि अर्पित की। उसके बाद फूलों से सजे पार्थिव को वाहन में रखकर वीआईपी रोड, शिवाजीनगर होते हुए मुथा चौक से ग्राम जानापुरी तक शोभायात्रा निकाली गई। 
- इस दौरान शहीद का अभिवादन करने शहर के प्रमुख मार्गों के दोनों ओर हजारों की संख्या में नागरिकों की भीड़ उमड़ पड़ी। नागरिक शहीद संभाजी कदम अमर रहे, अमर रहे के नारे लगा रहे थे। 
 
 
आगे की स्लाइड्स में देखिए शहीद कुणाल और उनके घर पसरे मातम की कुछ और PHOTOS..
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: Major Kunal gosavi funeral today at pandharpue.
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

    More From News

      Trending Now

      Top