Home »Madhya Pradesh »Bhopal »News» Woman Molested In In Laws

बेटी को जन्म देने पर बहू को ससुराल से निकाला, ससुर ने पहले ही दी थी धमकी

Bhaskar News | Apr 19, 2017, 08:40 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
बेटी को जन्म देने पर बहू को ससुराल से निकाला, ससुर ने पहले ही दी थी धमकी
इंदौर/धार. सरिता के मुताबिक, मैं सरिता पंवार सोनाने पीथमपुर में रहती हूं। इकोनोमिक्स में एमए किया। 2015 में पापा ने बड़वानी के स्वास्थ्य विभाग में कार्यरत मोहन सोनाने के बेटे प्रथमेश से मेरी शादी तय की थी।
मुझसे कहा गया कि प्रथमेश ने मेडिकल फिल्ड में पढ़ाई की है और वह भी अस्पताल में इमरजेंसी डिपार्टमेंट में है। मेरी खुशियों को पहला झटका शादी के कुछ दिन बाद ही लग गया। क्योंकि देवर चंद्रेश कोर्ट की वैकेंसी निकलने पर अपनी फाइल निकाल रहा था।
उस दौरान मेरे पति की भी फाइल उसने निकाली। तब मुझे मालूम पड़ा उन्होंने तो 10वीं तक ही पढ़ाई की है और पूछताछ में स्पष्ट हुआ कि अस्पताल में वे कंटींजेंसी पर वार्डबॉय का काम कर रहे हैं। फिर भी मैंने मन को दिलासा दिया कि पढ़ाई कम-ज्यादा होने से क्या होता है, इंसान अच्छा होना चाहिए। मैं अपनी शादीशुदा जिंदगी में आगे बढ़ी लेकिन गर्भवती होने पर लिंग भेद का दर्द जाना। ससुराल वालों ने भ्रूण परीक्षण का दबाव बनाना शुरू कर दिया।
उन्होंने वहां के किसी मालवीय डॉक्टर से बात की लेकिन उन्होंने ही यह गैरकानूनी काम करने से ना कर दिया। दूसरी जगह भ्रूण परीक्षण के लिए दबाव दिया तो मैंने से सख्ती से ना कह दिया। इस पर ससुर बोले-लड़की हो गई तो तुझे और तेरी बेटी दोनों को फेंक आएंगे। मैं पहले प्रसव के चलते मायके आई। यहां 26 फरवरी 2016 को बेटी को जन्म दिया।
बेटी 10 दिन की हो गई लेकिन उसे देखने कोई नहीं आया। मैं फोन करती तो ढंग से बात नहीं करते। यह देख अरुण अंकल ने बात की तो मामा ससुर मुझे लेने आए। वहां जाने पर ससुराल वाले मुझ पर दूसरे बच्चे का दबाव बनाने लगे। मैंने बच्ची तीन-चार साल की नहीं हो जाती तब तक दूसरे बच्चे के लिए ना कहा तो वे परेशान करने लगे।
बच्ची रोने लगती और मैं संभालने जाती तो डांटते। सास जयश्री शिकायत कर पति से मार खिलवाती। एक बार पति घर पर नहीं थे तो सास जयश्री और काकी सास छाया ने मारपीट की। उन्होंने 15 जनवरी 2017 को मुझे घर से निकाल दिया। एक साल दो महीने की बच्ची के साथ पिता के घर पर रह रही हूं। घर पर रहते हुए विचार करती रही क्या करूं। सोचा पुलिस में रिपोर्ट करूंगी तो परिवार की बदनामी होगी लेकिन बेटी का मासूम चेहरा देखते-देखते आखिर में निर्णय लिया कि आवाज नहीं उठाई तो ऐसा करने वालों की हिम्मत बढ़ती जाएगी।
सोमवार रात थाने पहुंचीं और पति प्रथमेश, ससुर मोहन व सास जयश्री पर एफआईआर दर्ज करवाई। मैं अपना और बेटी की परवरिश के लिए जॉब करना चाहती हूं, इसलिए मेरा और बेटी का फोटो नहीं छपवाना चाहती।
मैं स्वास्थ्य विभाग में ही हूं, कानून जानता हूं
ससुर मोहन सोनाने बड़वानी जिला अस्पताल में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी हैं। वे बोले-मैं खुद विभाग में हूं, कानून जानता हूं, भ्रूण परीक्षण क्यों कराऊंगा। सरिता झूठा आरोप लगा रही है कि लड़की होने पर प्रताड़ित किया। बेटे की पढ़ाई की जानकारी भी शादी के पहले ही उसके माता-पिता को थी। वह खुद बड़वानी नहीं रहना चाहती। महिला डेस्क पर भी प्रकरण चल रहा है। हम वहां भी अपना पक्ष बता चुके हैं।
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: woman molested in in laws
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।
 

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top