Home »Madhya Pradesh »Chhatarpur » पटरियों पर दौड़ा 62 साल पुराना सपना, सेल्फी में संजोया

पटरियों पर दौड़ा 62 साल पुराना सपना, सेल्फी में संजोया

Bhaskar News Network | Oct 19, 2016, 02:20 AM IST

पटरियों पर दौड़ा 62 साल पुराना सपना, सेल्फी में संजोया
सरकारी योजनाएं गिनाते रहे मुख्यमंत्री

रेल मंत्री, सीएम ने किया झांसी से खजुराहो तक पैसेंजर ट्रेन का शुभारंभ

भास्कर संवाददाता। छतरपुर/खजुराहो

झांसी से खजुराहो तक पैसेंजर ट्रेन का शुभारंभ मंगलवार को हुआ। इसी के साथ लोगों का 62 साल पुराना ट्रेन चलने का सपना पटरियों पर दौड़ा। लोगों ने इस पल को सेल्फी में संजोया। खजुराहो में रेलमंत्री सुरेश प्रभाकर प्रभु और सीएम शिवराज सिंह चौहान सहित उमा भारती पहुंचीं। कार्यक्रम को संबोधित कर रेलमंत्री ने इंटरसिटी ट्रेन जल्द ही शुरू करने की बात कही है।

टीकमगढ़ से छतरपुर की ओर हरी झंडी दिखाकर केंद्रीय जल संसाधन मंत्री ने रवाना किया और उसी ट्रेन के माध्यम से छतरपुर रेलवे स्टेशन पहुंची, जहां पर 20 मिनट तक कार्यक्रम चला। छतरपुर रेलवे स्टेशन पर ट्रेन आते ही लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा था। ट्रेन आते ही लोगों ने अपने-अपने मोबाइल निकाले और सेल्फी लेना शुरू कर दिया। रेलमंत्री के कार्यक्रम मंच परिसर में ही प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा अंत्योदय मेला मंगलवार को ही सुबह लगाया गया था, जिसमें उन्होंने अंत्योदय मेला के नाम पर पूरे प्रशासनिक अमले को जिम्मेदारी देकर जनता की भीड़ इकट्ठी की थी।

इस तरह जुटाई थी भीड़ : हितग्राहियों को सम्मानित और मौके पर ही लाभ देने के लिए मंगलवार को खजुराहो में अंत्योदय मेला आयोजित किया था। इसमें प्रशासनिक अफसरों ने रेलमंत्री के कार्यक्रम में भीड़ जुटाने के लिए उसी मंच परिसर में यह अंत्योदय मेले किया। अंत्योदय मेला और रेलमंत्री के कार्यक्रम का हवाला देते हुए अफसरों ने ग्राम पंचायत से लेकर नपा के अधिकारी और कर्मचारियों काे भीड़ जोड़ने के लिए टारगेट दिए थे, जिसके अनुसार जिलेभर के ग्रामीण क्षेत्रों से बसे और चार पहिया वाहन आए हुए थे।

कार्यक्रम में लगातार देरी के कारण कुर्सियां उठाकर आक्रोश जताते रहे लोग।

रेलमंत्री ने ट्रेन को झांसी की ओर हरी झंडी दिखाई

कार्यक्रम के अंत में रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने मंचासीन अतिथियों का आभार स्वागत करते हुए कहा कि खजुराहो में विश्व के लोग यहां आते है। खजुराहो की विश्वकला विश्व में विख्यात है। मैं खजुराहो आया, इसको सौभाग्य मानता हूं। इसके अलावा हमें यहां पर सांसद नागेंद्र सिंह ने भी कुछ प्रस्ताव दिए है। इन पर कार्रवाई कर उन्हें पूरा करने का प्रयास करेंगे। उन्होंने कार्यक्रम के अंत में ट्रेन को झांसी की ओर जाने के लिए हरी झंडी दिखाई।

पहले बोलकर गईं उमा

स्वागत बेला के बाद जल्दी के चक्कर में केंद्रीय जलसंसाधन मंत्री उमा भारती बगैर बुलाए ही माइक पर बोलने के लिए पहुंच गई और उन्होंने कहा कि उन्हें जल्दी जाना है। उनकी ट्रेन का समय हो रहा है। सुरेश प्रभु के कार्यकाल में रेलों का समय एकदम सही है। एक मिनट भी ट्रेन लेट नहीं होती और मेरी ट्रेन का समय हो चुका है। उन्होंने प्रदेश सरकार की तारीफ करते हुए कहा कि शिवराज सिंह अच्छी तरह से सरकार चला रहे है, अगर ऐसा न होता तो मुझे दुख होता। इस बात को सुनकर लोगों ने उनका समर्थन किया।

4 बजे की जगह 6 बजे शुरू हो सका कार्यक्रम

कार्यक्रम शुरू होना 4 बजे निर्धारित किया गया था, लेकिन मंच पर 6 बजे के बाद ही अतिथि पहुंचे। निर्धारित समय के बाद पहुंचे रेलमंत्री सुरेश प्रभु, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, केंद्रीय जलसंसाधन मंत्री उमा भारती का उत्तर मध्य रेलवे के जनरल मैनेजर अरुण सक्सेना ने जोरदार स्वागत किया। बाद में मंचासीन अतिथियों में जिले के सभी विधायकों और सांसदों का स्वागत हुआ।

प्रदेश सरकार द्वारा चलाई गई विभिन्न प्रकार की योजनाओं की जानकारी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान देते रहे। उन्होंन सुरेश प्रभु से कहा कि राज्य सरकार आपके साथ मिलकर काम करेंगी। बुंदेलखंड को समृद्ध और अच्छा बनाना है। प्रदेश सरकार की तरफ से मैं कोई कसर नहीं छोडूगा। सीएम ने रेलमंत्री सुरेश प्रभु से कहा कि प्रभु जी तुम चंदन हम पानी। जाकी अंग-अंग बास समानी इस बात को सुनकर लोगों ने जमकर तालियां ठोकी। उन्होंने कहा सुरेश प्रभु बहुत दयालु है। हम लोगों यह ट्रेन मिल गई बहुत अच्छी बात है, लेकिन हम लोग भोपाल कैसे जाएंगे। इस बात जनता से भी समर्थन लिया,तो जनता तालियां बजाकर इस बात का समर्थन किया। इस तरह उन्होंने खजुराहो से भोपाल ट्रेन की मांग रेलमंत्री से की।

दिनभर भूखे-प्यासे बैठे रहे ग्रामीण

अंत्योदय मेले के नाम पर प्रशासन द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों से लोगों को बुलाया गया था, जिसमें ग्रामीण सुबह 11 बजे खजुराहो पहुंच गए थे, लेकिन अव्यवस्थाओं के चलते ग्रामीण क्षेत्रों से आए हुए लोग भूखे प्यासे रह गए। अंत्याेदय मेला हो जाने के बाद बसे रवाना नहीं की गई और 4 बजे यहां से रवाना करने की बात कही गई थी, लेकिन कार्यक्रम 6 बजे शुरू हो सका। इसके कारण लोगों में काफी रोष व्याप्त रहा। अतिथियों के समय पर न पहुंचने से लोग चिल्लाने लगे और कुर्सियां फेकने लगे, तो बुंदेलखंड के लोक गायक देशराज पटेरिया को बुलाया, उन्होंने चुटकले, गीतों के माध्यम गुदगुदाया, लेकिन जनता का रोष कम न होते हुए उन्होंने उनकी एक भी न सुनी।

Âपंडाल के पंखे बंद होने से जताया रोष : पंडाल में जनता को गर्मी से राहत दिलाने के लिए पंखे तो लगवाए गए थे, लेकिन पंखे न चलने से जनता में रोष व्याप्त रहा और जनता में चिल्ला चोट मच। इसके बाद मंच से बिजली कंपनी के कर्मचारियों को बुलाया गया और तुरंत ही पंखों को चालू करने के निर्देश, फिर भी करीब 20 मिनट बाद पंखे चालू हो सके। पानी के पाउच आते ही लोग उन पर टूट पड़े, फिर भी सभी को यह व्यवस्था नहीं कराई गई।

 मुख्यमंत्री को शिकायत न दे पाने का रहा मलाल : जनता को मंच से जनता को काफी दूर बैठाया गया था। कार्यक्रम समाप्त होने के बाद सीएम शिवराज सिंह सुरक्षा घेरे तक आए, उन्होंने कुछ लोगों से ही ज्ञापन लिए। लेकिन अधिकांश लोग ज्ञापन देने से वंचित रह रहे थे, तो जनता चिल्लाने लगी और नारेबाजी करने लगी। इस बात को सुनकर सीएम पुन: मंच पर मौजूद माइक के पास पहुंचे और उन्होंने माइक से कहा कि आप अपने ज्ञापन वहां खड़े अधिकारी-कर्मचारियों को दे दे, हम यहां से तभी जाएंगे, जब यह ज्ञापन आपके सामने मेरे पास आ जाएंगे, फिर जनता ने ज्ञापन दिए।

 वाहनों से खजुराहो से बमीठा तक लगा जाम : वाहनों की बेतरतीब पार्किंग के कारण जाम लगा रहा। इसके कारण लोगों को मंच तक पहुंचने और मंच परिसर से अपने वाहनों तक पहुंचने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। इस दौरान खजुराहो से बमीठा तक जाम की स्थिति बनी रही। सड़कों के दोनों ओर वाहनों की कतार लगी रही।

छतरपुर । रेलवे स्टेशन छतरपुर में ट्रेन के साथ सेल्फी लेने में जुटे युवा ।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: पटरियों पर दौड़ा 62 साल पुराना सपना, सेल्फी में संजोया
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

    More From Chhatarpur

      Trending Now

      Top