Home »Madhya Pradesh »Gwalior» Gwalior City Intresting Story

जब इस 'करिश्माई' तालाब का पानी पीते ही राजा की बदल गई थी जिंदगी...

dainikbhaskar.com | Dec 29, 2012, 00:31 IST

  • ग्वालियर।मप्र के चार बड़े शहरों में शामिल है ग्वालियर। लेकिन क्या आप जानते हैं इस शहर का नाम कैसे पड़ा? हर साल हजारों देशी-विदेशी पर्यटक इस खूबसूरत शहर में छुट्टियां बिताने आते हैं। ग्वालियर का किला तो पूरी दुनिया में मशहूर है। लेकिन इस शहर का नाम कैसे पड़ा, इस बात से आज भी बहुत लोग अनजान हैं।
    भास्कर नॉलेज पैकेज के अंतर्गत आज हम आपको इसी बात की जानकारी दे रहे हैं। इस शहर के नाम पड़ने के पीछे की कहानी बहुत ही रोचक है। यह कहानी जंगल में गए राजा और संत के बीच आधारित है।
    जंगल में संत से राजा कैसे मिले..संत ने राजा से क्या कहा..और भी बहुत कुछ रोचक जानकारी जानिए आगे की तस्वीरों पर क्लिक करके...

  • ग्वालियर का नाम एक ऐसे व्यक्ति नाम पर पड़ा, जिसने जंगल में भटके एक राजा को राह दिखाई थी। राजा उस इंसान से इतना प्रभावित हुए कि उसके नाम पर ही शहर का नाम रख दिया। और हो भी क्यों न, इंसान के रूप में मिले इस फरिश्ते ने तो राजा की पूरी जिंदगी ही बदल दी थी।

  • स्थानीय परंपरा के अनुसार प्राचीन समय में कछवाहा राजवंश के राजा सूरजसेन एक दिन जंगल में रास्ता भटक गए। उन्हें जोर की प्यास लगी। तभी जंगल के एकांत में राजा को एक बुजुर्ग संत मिले, जिनका नाम था गालिप।

  • राजकुमार इस संत से मिलते ही बहुत प्रभावित हुए। राजा सूरजसेन ने संत से कहा, मैं बहुत प्यास हूं। इस पर संत राजा को जंगल में स्थित एक तालाब की ओर ले गए। इस तालाब में पहुंचकर राजा ने अपनी प्यास बुझाई, लेकिन पानी पीते ही कुष्ठ रोग से पीड़ित राजा को मुक्ति मिल गई। राजा ने जिस तालाब में अपनी प्यास बुझाई थी उसे आज सूरजकुंड के नाम से जाना जाता है।

  • संत के उपकार के बदले राजा कुछ उन्हें देना चाहा तो गालिप ने राजा से कहा कि जंगल में इस पहाड़ी पर साधना कर रहे कई साधुओं के यज्ञ में जंगली जानवर विघ्न पैदा करते हैं, इसलिए उनकी सुरक्षा के लिए पहाड़ी पर एक दीवार बनवा दो। इसके बाद सूरज सेन ने किले के अंदर एक महल बनवाया, जिसका नाम संत गालिप से प्रभावित होकर उनके नाम पर ग्वालियर रखा। इसके बाद इस किले के आसपास जो बस्ती बढ़ती गई उसका नाम ग्वालियर ही हो गया गया।

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: gwalior city intresting story
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Gwalior

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top