Home »Madhya Pradesh »Indore »News» Anil Dave Wanted To Make Pandit Deendayal Research Institute Ancestral Home Of Badnagar

बड़नगर के पैतृक निवास को पं. दीनदयाल शोध संस्थान बनाना चाहते थे अनिल दवे

bhaskar News | May 19, 2017, 05:33 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
बड़नगर के पैतृक निवास को पं. दीनदयाल शोध संस्थान बनाना चाहते थे अनिल दवे
उज्जैन/बड़नगर.अनिल दवे बड़नगर स्थित अपने पैतृक निवास को पं. दीनदयाल शोध संस्थान बनाना चाहते थे। उनका यह घर बड़नगर में जूना शहर के मंगलनाथ पथ पर है। करीब 70 साल पुराने इस घर पर ताला लगा रहता है।
दवे के साथी पूर्व विधायक उदयसिंह पंड्या बताते हैं- भवन का कोई उपयोग नहीं होने से वे जब भी मिलते थे तो बड़नगर की खैर खबर के साथ भवन में पं. दीनदयाल शोध संस्थान खोलने की चर्चा जरूर करते थे। उनका यह सपना पूरा नहीं हो सका है। पंड्या के अनुसार दवे की रुचि बचपन से ही पर्यावरण में थी। वे सादगी से ही रहते आए। इस कारण उनके यहां मित्र भी नहीं है।

बड़नगर व रतलाम में प्राथमिक शिक्षा ली
दवे के काका नवीन दवे के अनुसार अनिल दवे की प्राथमिक शिक्षा बड़नगर व रतलाम में हुई। जन्म के कुछ साल बाद परिवार रतलाम में अनिल दवे के ननिहाल चला गया था। वहां दो-तीन वर्ष रहने के बाद परिवार जूनागढ (गुजरात) चला गया। जहां उन्होंने आगे की शिक्षा ली। उच्च शिक्षा इंदौर के गुजराती कॉलेज से प्राप्त की।
सिंहस्थ को दी विचारधारा
सिंहस्थ 2016 में वैचारिक महाकुंभ का अंतरराष्ट्रीय आयोजन कर दवे ने सिंहस्थ जैसे पारंपरिक आयोजन को विचारधारा दी। सिंहस्थ में शंकराचार्यों के बीच वैचारिक संगम होता है। इसी परंपरा को उन्होंने अंतरराष्ट्रीय स्वरूप वैचारिक महाकुंभ के रूप में दिया था। बकौल भाजपा के वरिष्ठ नेता प्रभात झा- दवे की प्रतिभा और पर्यावरणीय दार्शनिकता को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वैचारिक महाकुंभ में पहचाना और उन्हें केंद्र सरकार में पर्यावरण, जलवायु परिवर्तन एवं वन मंत्रालय में राज्यमंत्री की जिम्मेदारी सौंपी थी।
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: Anil Dave wanted to make Pandit Deendayal Research Institute ancestral home of Badnagar
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top