Home »Madhya Pradesh »Indore »News» Recruitment Recruitment Examination

कांस्टेबल परीक्षा में इन डॉक्टरों ने की थी गड़बड़ी, गलत तरीके से नापा था कद

bhaskar news | Mar 21, 2017, 05:06 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
कांस्टेबल परीक्षा में इन डॉक्टरों ने की थी गड़बड़ी, गलत तरीके से नापा था कद
इंदौर.फर्स्ट बटालियन की आरक्षक भर्ती परीक्षा में एक अभ्यर्थी को फायदा पहुंचाकर उसका कद पांच सेंटीमीटर ज्यादा बताने के मामले में चंदन नगर पुलिस ने स्वास्थ्य विभाग के रिटायर्ड जेडी, एमवाय के पूर्व अधीक्षक सहित नौ आरोपी डॉक्टर और अभ्यर्थी के खिलाफ सोमवार को कोर्ट में चालान पेश किया। कोर्ट मुंशी (कांस्टेबल) चालान लेकर पहुंचा तो अदालत ने नाराजगी जताते हुए उसे लौटा दिया। जांच अधिकारी सीएसपी पहुंचे, तब कोर्ट ने चालान स्वीकार किया।

सभी डॉक्टरों को मिली जमानत :
सभी नौ डॉक्टरों को हाई कोर्ट से अग्रिम जमानत मिल चुकी थी। चालान के समय ये सभी कोर्ट पहुंच गए थे। इनकी ओर से जमानत अर्जियां पेश की गईं, जिन्हें कोर्ट ने स्वीकार करते हुए उन्हें जमानत दे दी। आरोपी अभ्यर्थी को रेगुलर जमानत मिल चुकी है।
ये हैं आरोपी
जिला मेडिकल बोर्ड के सदस्य तत्कालीन सिविल सर्जन डॉ. एपी श्रीवास्तव, सर्जन डॉ. एसके त्रिवेदी, डॉ. एन. जोशी, संभागीय मेडिकल बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष और ज्वाइंट डायरेक्टर (स्वास्थ्य) डॉ. शरद पंडित, एमवायएच के तत्कालीन अधीक्षक डॉ. एडी भटनागर, नेत्र रोग विभाग की डॉ. श्वेता वालिया, हड्डी रोग विभाग के डॉ. लक्ष्मण बनौदा, डॉ. आदित्य प्रकाश और डॉ. पी. वर्मा और आरोपी अभ्यर्थी कृष्णकुमार यदुवंशी।
ये है मामला : कद 135 सेमी था, बता दिया 170
अन्नपूर्णा सीएसपी सुनील पाटीदार ने बताया डॉक्टरों पर आरोप है कि 22 फरवरी 2013 को आरक्षक भर्ती के लिए छिंदवाड़ा से आए अभ्यर्थी कृष्णकुमार यदुवंशी का कद जिला मेडिकल बोर्ड ने 170 सेंटीमीटर बताकर उसे परीक्षा के लिए क्वालिफाइड उम्मीदवार बता दिया था, जबकि उसका कद 165 सेंटीमीटर ही था। जिला मेडिकल बोर्ड की रिपोर्ट के आधार पर अभ्यर्थी का परीक्षा में चयन भी हो गया था। बाद में गलती सामने आने पर यह केस प्रथम वाहिनी विसबल इंदौर में कमांडेंट मनीष अग्रवाल की कमेटी के पास पहुंचा तो उन्होंने आरोपी अभ्यर्थी का कद नापा। इसमें कद कम दिखा। उन्होंने अभ्यर्थी को दोबारा जिला मेडिकल बोर्ड के डाॅक्टरों के पास भेजा। डॉक्टरों ने गंभीरता दिखाने के बजाय अपनी पहली रिपोर्ट को ही सही बताया। फिर संभागीय मेडिकल बोर्ड के पास अभ्यर्थी को भेजा। इस बोर्ड ने भी जिला बोर्ड की रिपोर्ट को सही बताया। पुलिस ने शंका होने पर राज्य मेडिकल बोर्ड से अभ्यर्थी की ऊंचाई नपवाई तो उसका कद 165 सेमी ही निकला। इसके बाद पुलिस ने अपनी जांच में जिला व संभागीय मेडिकल बोर्ड के डाॅक्टरों को दोषी पाते हुए चंदन नगर थाने में उनके खिलाफ धोखाधड़ी, कूटरचित दस्तावेज बनाने, षड्यंत्र रचने और भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धाराओं में केस दर्ज किया था।
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: Recruitment recruitment examination
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।
 

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top