Home »Madhya Pradesh »Indore »News» Ujjain Was Taken By The Country's Independence Auspicious Astrology

उज्जैन के ज्योतिष ने निकाला था देश की आजादी का मुहूर्त

अविनाश रावत | Jan 26, 2013, 01:05 IST

  • इंदौर । 1947 में जब यह तय हो गया कि अंग्रेज भारत छोडऩे के लिए तैयार हैं, डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने गोस्वामी गणेशदत्त महाराज के माध्यम से उज्जैन के पं. सूर्यनारायण व्यास को बुलावा भेजा। पं. व्यास ने पंचांग देखकर बताया कि आजादी के लिए सिर्फ दो ही दिन शुभ हैं। 14 और 15 अगस्त। इसमें एक दिन पाकिस्तान को आजाद घोषित किया जा सकता है और एक दिन भारत को। उन्होंने डॉ. प्रसाद को भारत की आजादी के लिए मध्यरात्रि 12 बजे यानी स्थिर लग्न नक्षत्र का समय सुझाया, ताकि भविष्य में अपनाया जाने वाला लोकतंत्र स्थिर रहे। इतना ही नहीं, पं. व्यास के कहने पर आजादी के बाद देर रात संसद को धोया भी गया था, क्योंकि ब्रिटिश शासकों के बाद अब यहां भारतीय बैठने वाले थे। धोने के बाद उनके बताए मुहूर्त पर गोस्वामी गिरधारीलाल ने संसद की शुद्धि करवाई थी।

    कहा था देश की तरक्की 1990 के बाद :आजादी के समय उन्होंने संकेत दे दिए थे कि 1990 के बाद से देश की तरक्की होगी और 2020 तक भारत विश्व का सिरमौर बन जाएगा। इसके बाद से चाहे शनि की दशा में देश को आजादी मिली, देश के टुकड़े हो गए, केतु की महादशा में देश भुखमरी और तंगहाली से गुजरा। मगर 1990 में शुक्र की महादशा शुरू होने के बाद देश की तरक्की भी शुरू हो गई।

  • पंडितजी के जीवन पर किताब: पं. सूर्यनारायण व्यास के पुत्र राजशेखर ने उनके जीवन और उनकी भविष्यवाणियों पर एक किताब लिखी है। 'याद आते हैं' शीर्षक वाली इस किताब के 34वें अध्याय 'ज्योतिष जगत् के सूर्य' (पृष्ठ क्रमांक 197 और 198) में आजादी के दिन के मुहूर्त का उल्लेख किया गया है। दूरदर्शन के एडिशनल डायरेक्टर राजशेखर ने इस अध्याय में अपने पिता की अन्य भविष्यवाणियों का भी जिक्र किया है। सांदीपनी ऋषि के वंशज महान ज्योतिषाचार्य, लेखक, पत्रकार पं. सूर्यनारायण व्यास थे। उनका जन्म 2 मार्च 1902 को हुआ था। देहांत 1976 में हुआ।

    सैकड़ों भविष्यवाणियां 100 फीसदी सच :लालबहादुर शास्त्री के ताशकंद जाने से पहले पं. सूर्यनारायण व्यास ने एक लेख में इस बात का उल्लेख कर दिया था कि वे जीवित नहीं लौटेंगे। भविष्यवाणी सच साबित हुई। 7 दिसंबर, 1950 को एक अखबार में उन्होंने लिखा कि उपप्रधानमंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल का स्वास्थ्य अत्यंत चिंताजनक हो सकता है। 17 दिसंबर तक उनके लिए कठिन समय रहेगा। आखिर 16 दिसंबर की मध्य रात्रि को सरदार पटेल दिवंगत हो गए। इससे पहले 1932 में उन्होंने एक अंग्रेजी अखबार में भूकंप पर एक लेख लिखा था। फिर एक पत्र लिखकर आने वाले 300 भूकंपों की सूची प्रकाशित करवा दी। समय के साथ-साथ ये भी सही साबित होती जा रही हैं। ये पत्र और अखबार सुरक्षित हैं। उन्होंने जवाहरलाल नेहरू के प्रधानमंत्री बनने, राजेंद्र प्रसाद के राष्ट्रपति बनने, महात्मा गांधी की हत्या की भविष्यवाणी भी कर दी थी, साथ ही खुद की मृत्यु का समय भी पहले ही बता दिया था।

  • सूर्यनारायण के बेटे द्वारा लिखी गई इस किताब के पेज नं. 197 पर देश की आजादी के मुहूर्त के बारे में लिखा है।

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: Ujjain was taken by the country's independence auspicious astrology
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top