Home »Madhya Pradesh »Khandwa »News » प्रधान आरक्षक के बेटे ने घर के मंदिर वाले कमरे में लगाई फांसी, दो दिन से था गुमसुम

प्रधान आरक्षक के बेटे ने घर के मंदिर वाले कमरे में लगाई फांसी, दो दिन से था गुमसुम

Bhaskar News Network | Dec 02, 2016, 16:15 PM IST

प्रधान आरक्षक के बेटे ने घर के मंदिर वाले कमरे में लगाई फांसी, दो दिन से था गुमसुम
खंडवा. दूसरे थाने में पदस्थी के पहले ही दिन प्रधान आरक्षक को बेटे की मौत की सूचना मिली। मां बाहर बैठी रही और बेटे ने घर के मंदिर वाले कमरे में लगे पंखे पर फंदा बांधकर फांसी लगा ली।

तुरंत बाद 108 एम्बुलेंस की मदद से पड़ोसी उसे जिला अस्पताल लाए, जहां डॉक्टर ने उसे मृत घोषित किया। घटना अनमोल विहार कॉलोनी की है। पुलिस हेड कांस्टेबल दीपक कलम के पुत्र जयप्रकाश (22) का शव शाम 4 बजे घर में ही फांसी के फंदे पर लटका मिला।
घर के बाहर बैठी मां को जब घर का दरवाजा बंद मिला तो उसने पड़ोसियों को आवाज लगाई। जब दरवाजा तोड़कर देखा तो जयप्रकाश फांसी पर लटका था। रहवासियों ने तुरंत दीपक कलम को सूचना देकर 108 एम्बुलेंस को बुलाया। जिला अस्पताल में डॉक्टर ने उसे मृत बताया। अस्पताल में दीपक कलम व परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल था।
पोस्टिंग के पहले दिन मिली बुरी खबर
अस्पताल में हेड कांस्टेबल दीपक ने बताया जावर से उसका स्थानांतरण पंधाना हो गया था। थाने में आमद का पहला दिन था। शाम को 4 बजे बेटे की फांसी की बुरी खबर मिली। उसने बताया जयप्रकाश दो दिन से गुमसुम था। शायद वह कुछ बताना चाह रहा था लेकिन बोल नहीं पाया और यह कदम उठा लिया।

दाेस्त बोले- दोपहर तक खुश था जयप्रकाश
जयप्रकाश के दोस्त अशोक ने बताया दोपहर 1 बजे उससे बाइक पर घूमने को कहा तो वह टाल गया। उसकी बाइक लेकर बाजार से 2 बजे लौटा और चाबी दी तब तक उसका मूढ़ ठीक था। दोस्तों ने बताया वह हर दिन जिम जाता था लेकिन गुरुवार को वह नहींं आया। पता नहीं क्या हुआ जो उसने यह कदम उठाया।
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: प्रधान आरक्षक के बेटे ने घर के मंदिर वाले कमरे में लगाई फांसी, दो दिन से था गुमसुम
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

    More From News

      Trending Now

      Top