Home »Madhya Pradesh »Dhar » 5 हजार का मानदेय नहीं देकर 15000 रु. का वेतनमान मिले

5 हजार का मानदेय नहीं देकर 15000 रु. का वेतनमान मिले

Bhaskar News Network | Oct 19, 2016, 02:25 AM IST

5 हजार का मानदेय नहीं देकर 15000 रु. का वेतनमान मिले
ग्राम रोजगार सहायक पंचायत सचिव कर्मचारी संघ ने ज्ञापन सौंपा।

ग्राम रोजगार सहायक व पंचायत सचिव कर्मचारी संघ ने डिप्टी कलेक्टर को दिया ज्ञापन

भास्कर संवाददाता | धार

ग्राम रोजगार सहायक व सहायक पंचायत सचिव कर्मचारी संघ ने मंगलवार को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन डिप्टी कलेक्टर विजय मंडलोई को दिया। इसमें पंचायत के कार्यों का स्पष्ट विभाजन करने के साथ मनरेगा के कार्यों के अलावा जो अन्य कार्य रोजगार सहायक से कराए जाते है उसका अलग से भुगतान कराने की मांग की। समस्याओं के शीघ्र निराकरण करने की मांग की।

ग्राम रोजगार सहायक (जीआरएस) ने ज्ञापन के माध्यम से बताया कि वर्तमान में मिलने वाले 5000 रु. के मानदेय को मनरेगा से दिया जा रहा है। जिसे मानदेय नहीं होकर वेतनमान के रूप में 15000 हजार रु. होना चाहिए।



मांगें नहीं मानने पर आंदोलन की चेतावनी

अन्य कर्मचारियों की भांति महंगाई भत्ते का लाभ ग्राम रोजगार सहायक को भी मिलना चाहिए। साथ ही ग्राम रोजगार सहायक अकुशल श्रेणी से उच्च कुशल श्रेणी में होना चाहिए। पीएफ का भी लाभ दिया जाना चाहिए। किसी भी रोजगार सहायक की दुर्घटना में मौत हो जाती है तो उसके परिवार को परिवार सहायता के रूप में 2 लाख रु. की राशि का प्रावधान किया जाए। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा टैबलेट, मोबाइल के लिए 6 हजार रु. की राशि आवंटित की जा रही थी। जो अभी तक नहीं दी गई है। मोबाइल इंटरनेट के लिए 500 रु. की राशि जो पंच परमेश्वर मद में दी जाती है वह वेतन के साथ दी जाना चाहिए। अन्य कर्मचारियों की तरह रोजगार सहायकों की भी स्थानांतरण पॉलिसी बनाई जाए। ताकि विरोध एवं टकराव की स्थिति न हो। इन सभी समस्याओं का निराकरण 21 दिन के अंदर नहीं होने पर आंदोलन की चेतावनी भी दी।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: 5 हजार का मानदेय नहीं देकर 15000 रु. का वेतनमान मिले
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

    More From Dhar

      Trending Now

      Top