Home »Madhya Pradesh »Dhar » प्राचार्य-भाजपा नगराध्यक्ष के झगड़े मेंे स्कूली बच्चों को सड़क पर उतारा

प्राचार्य-भाजपा नगराध्यक्ष के झगड़े मेंे स्कूली बच्चों को सड़क पर उतारा

Bhaskar News Network | Oct 19, 2016, 02:35 AM IST

प्राचार्य-भाजपा नगराध्यक्ष के झगड़े मेंे स्कूली बच्चों को सड़क पर उतारा
अभाविप के छात्र नेता भाजपा नगराध्यक्ष के पक्ष में कलेक्टोरेट पहुंचे

भास्कर संवाददाता | धार

उत्कृष्ट की प्राचार्य सुचिता शिंदे और भाजपा नगराध्यक्ष अनिल जैन बाबा के व्यक्तिगत झगड़े ने मंगलवार को बच्चों को सड़क पर उतार दिया। 400 विद्यार्थी स्कूल के सामने सड़क पर आ गए और प्राचार्य शिंदे को वापस लाने की मांग करने लगे। जबकि शिक्षक स्कूल में ही थे जिन्होंने विद्यार्थियों को सड़क पर प्रदर्शन करने से भी नहीं रोका। इस घटना के बाद भाजपा नगराध्यक्ष के समर्थन में अभाविप के नेता कलेक्टोरेट पहुंच गए। प्राचार्य के खिलाफ जांच की मांग की।

सोमवार को त्याग पत्र देने के बाद प्राचार्य शिंदे मंगलवार को भी विद्यालय नहीं आईं। उनका मोबाइल भी बंद था। बच्चे प्राचार्य के समर्थन में सुबह 10.30 बजे सड़क पर आ गए। घोड़ा चौपाटी पर सड़क का आधा हिस्सा बच्चे के सड़क पर आने से बंद हो गया। पुलिस ने बच्चों को व्यस्त मार्ग पर आने से रोका। कई बार बच्चे वाहनों के बेहद करीब से गुजरे। करीब आधा घंटा बच्चे सड़क पर रहे। सिटी मजिस्ट्रेट बिहारी सिंह और आदिवासी विकास विभाग सहायक आयुक्त ब्रजेश पहुंचे। बच्चों ने उनसे स्कूल में राजनीतिक हस्तक्षेप न रहे, ऐसी व्यवस्था की मांग की। प्राचार्य का इस्तीफा न स्वीकार कर उनकी सेवाएं स्कूल में ही जारी रखने की बात भी कही।

पांडेय ने कहा कि प्राचार्य कहीं नहीं जाएंगी तो बच्चों ने ताली बजाई और स्कूल में चले गए। वहीं 12.30 बजे अभाविप के कार्यकर्ता कलेक्टोरेट पहुंचे। डिप्टी कलेक्टर को ज्ञापन देकर प्राचार्य का इस्तीफा मंजूर करने की मांग की। इसमें लिखा कि उच्च न्यायालय के आदेश के बावजूद प्राचार्य इस्तीफे की नौटंकी कर रही हैं। प्राचार्य वैसे भी लंबे समय से पदस्थ हैं, उनका इस्तीफा स्वीकार किया जाना चाहिए।

उत्कृष्ट की प्राचार्य के समर्थन में सड़क पर आए बच्चों से ट्रैफिक अव्यवस्थित हुआ तो अधिकारियों ने उन्हें दूर किया।

11वीं में पूरक आने पर छात्र योगेश खींची ने परीक्षा पास कर ली थी लेकिन उसे 12वीं में प्रवेश नहीं दिया। कारण कलेक्टर की अध्यक्षता वाली प्रबंध समिति द्वारा बनाए गए पूरक आने पर प्रवेश नहीं देने के नियम को बताया। छात्र हाईकोर्ट गया। हाईकोर्ट ने तत्काल स्कूल में प्रवेश देने का आदेश दिया। छात्र को हाईकोर्ट तक ले जाने में भाजपा नगराध्यक्ष बाबा ने मदद की थी। जब फैसला पक्ष में आया तो बाबा सोमवार सुबह आदेश की प्रति लेकर छात्र को माला पहनाकर उत्कृष्ट स्कूल लाए। यहां बाबा ने मीडिया के सामने प्राचार्य शिंदे पर पूर्व में भी कई छात्राें को शिक्षा से वंचित रखने के आरोप लगाए। 2015-16 व इसके पूर्व में छात्रों को आई पूरक की उत्तरपुस्तिकाओं की जांच कमेटी बना कर करने की मांग की। दोपहर में प्राचार्य शिंदे ने आदिवासी विकास विभाग के सहायक आयुक्त को त्याग पत्र भेज दिया। कारण सुबह हुई घटना को बताया। उन्होंने लिखा कि हाईकोर्ट का आदेश होने पर 13 अक्टूबर को ही छात्र योगेश को अध्ययन की अनुमति देकर हरसंभव मदद का आश्वासन दिया था लेकिन भाजपा नगराध्यक्ष द्वारा बच्चों, स्टाफ अौर मीडिया के सामने छात्र योगेश को हार पहनाकर लाने और अनर्गल आरोप लगाने से अपमानित महसूस हो रही हूं। इसलिए इस्तीफा देना चाहती हूं।

बच्चों को प्रदर्शन नहीं करने देना चाहिए

बच्चों को इस तरह स्कूल से प्रदर्शन नहीं करने देना चाहिए था। हालांकि सोमवार को हुई घटना भी स्कूल की गरिमा के विरुद्ध थी। स्कूल प्रबंध समिति के अध्यक्ष कलेक्टर हैं। उन्हें मामले से अवगत कराया है। प्राचार्य को समझाएंगे, अभी उनसे संपर्क नहीं हो पा रहा है। ब्रजेश पांडेय, सहायक आयुक्त आदिवासी विकास विभाग

जांच के आधार पर कार्रवाई करेंगे

बच्चों के सड़क पर आने की जानकारी मिली है। सहायक आयुक्त को निर्देशित किया है कि स्टाफ को चेताएं कि बच्चे इस तरह से सड़क पर न आएं। मामले की जांच हम एडीएम से करवा रहे हैं। इसके आधार पर वैधानिक कार्रवाई की जाएगी। श्रीमन शुक्ला, कलेक्टर धार

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: प्राचार्य-भाजपा नगराध्यक्ष के झगड़े मेंे स्कूली बच्चों को सड़क पर उतारा
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Dhar

        Trending Now

        Top