Home »Madhya Pradesh »Rajya Vishesh » Narmada Vally Secrets Reveals

नर्मदा घाटी में खुदाई से खुलासा, यहां के मानव का संबंध था अफ्रीकी समूह से

Bhaskar News | Mar 12, 2017, 06:29 IST

मेहताखेड़ी में चल रहा है उत्खनन।

भोपाल.नर्मदा घाटी में 50 हजार साल पहले जो मानव रहते थे उनका संबंध अफ्रीका से पूरे विश्व में फैले मानव समूह से था। यह खुलासा भोपाल से 214 किमी दूर जिला खरगौन में आने वाले गांव मेहताखेड़ी में चल रही पुरातत्वीय खुदाई में मिले अवशेषों से हुआ है।
- संचालनालय पुरातत्व अभिलेखागार एवं संग्रहालय के अन्तर्गत आने वाले डाॅ. विष्णु श्रीधर वाकणकर पुरातत्व शोध संस्थान द्वारा नर्मदा घाटी में स्थित मेहताखेड़ी में पुरातात्विक उत्खनन किया जा रहा है।
- अभी तक की खुदाई में जो अवशेष मिले हैं उनके अनुसार नर्मदा घाटी में मानव 50 हजार साल पहले से रह रहे हैं। जबकि हाल ही में किए गए पुरातत्वीय व जैवकीय अनुसंधानों के निष्कर्ष से सिद्ध हुआ है कि आज का मानव अनेक विभिन्नताओं के बावजूद एक लाख वर्ष पहले के अफ्रीका से प्रसारित समूहों से संबंधित है।

- प्रारंभिक आधुनिक मानव की उपस्थिति व क्रियाकलापों को समझने के उद्देश्य से मेहताखेडी में उत्खनन किया जा रहा है।
- इससे पहले आधुनिक मानव से संबंधित अवशेष वर्ष 2009 में डेक्कन कालेज पूना की पूर्व विभागाध्यक्ष प्रोफेसर शीला मिश्रा ने यहां उत्खनन में प्राप्त किए थे।
- यहां मिले माइक्रोब्लेड की तारीख फिजिकल रिसर्च लेबोरेट्री अहमदाबाद ने 50 हजार वर्ष प्राचीन निर्धारित की गई है। माइक्रोब्लेड वह औजार व उपकरण है जिनका उपयोग प्रागैतिहासिक मानव शिकार और उसके बाद के कार्य में लकड़ी व हड्डी में लगाकर किया जाता था। साथ ही मेहताखेड़ी से शुतुरमुर्ग के अंडे के टुकड़े प्राप्त हुए थे जिसकी कार्बन तिथि 42 हजार वर्ष से अधिक प्रमाणित हुई है।
अब तक 350 पुरावशेष मिले
डाॅ. विष्णु श्रीधर वाकणकर पुरातत्व शोध संस्थान, भोपाल के शोध अधिकारी डाॅ. जिनेन्द्र जैन के अनुसार इसी विषय पर विस्तृत अध्ययन की दृष्टि से यह उत्खनन किया जा रहा है। उत्खनन का यह काम इसी साल फरवरी के दूसरे सप्ताह में प्रारंभ में किया गया है।
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: narmada vally secrets reveals
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।
 

Stories You May be Interested in

      More From Rajya vishesh

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top