Home »National »Power Gallery» Power Gallery By Dr. Bharat Agrawal

पुनर्करोड़पति भव बच्चन

डॉ. भारत अग्रवाल | Apr 25, 2017, 13:18 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
पुनर्करोड़पति भव बच्चन
हो सकता है कि आपको करोड़पति बनाने के लिए अमिताभ बच्चन फिर एक बार छोटे पर्दे पर उतरें। लेकिन इस बार करोड़पति बनाया नहीं जाएगा, बल्कि आपको करोड़पति बनने का मंत्र दिया जाएगा। मंत्र रचने के लिए रिसर्च चल रही है। मंच होगा दूरदर्शन का, रियलिटी शो होगा, जो मुख्यतः आर्थिक निवेश और स्टार्ट अप पर होगा। कार्यक्रम वाणिज्य मंत्रालय और डीआईपीपी का होगा। नास्काम भी इससे जुड़ा हुआ है।
कलिंग का अगला युद्ध
खुदा खैर करे। सुना है कि ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक किसी गंभीर रोग से पीड़ित हैं और इलाज के लिए अमेरिका जाने वाले हैं। समय लंबा लग सकता है और इस दौरान राजपाट किसी को सौंपना पड़ सकता है। इधर बिजयंत जय पांडा ने बीजू जनता दल के नेतृत्व की ट्वीट करके आलोचना कर दी है। पांडा हमेशा “पॉलिटिकली करेक्ट” रहते हैं और बीजेपी के संपर्क में बताए जाते हैं। उधर अमेरिका में रहने वाले नवीन के भतीजे और भतीजी भी ओडिशा लौटने के मूड में हैं। तीसरा पहलू यह है कि बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक भी ओडिशा में रखी गयी है, धर्मेन्द्र प्रधान सक्रिय हैं ही और ओडिशा में बीजेपी का चेहरा हो सकते हैं, सवाल सिर्फ एक है - क्या जय पांडा बीजू जनता दल तोड़ सकते हैं?
बड़ों का बड़ा फाउंडेशन
रिटायरमेंट के बाद प्रणब मुखर्जी का इरादा कूटनीति और विदेश नीति पर एक प्रतिष्ठान - मुख़र्जी फाउंडेशन शुरू करने का है। इस फाउंडेशन की सीईओ ओमिटा पॉल होंगी। उम्मीद की जा रही है कि यह फाउंडेशन दिल्ली में बड़े लोगों की बड़ी बातों का एक बड़ा अड्डा बन सकता है।
सुन्नत वल बीजेपी!
सीके जाफर शरीफ ने हाल ही में जो तेवर दिखाए हैं, उनको लेकर कांग्रेस सकते में है। सवाल सिर्फ कर्नाटक का नहीं है, बल्कि सवाल यह भी है कि जाफर शरीफ सुन्नी मुसलमानों में एक बड़ा नाम हैं और आम तौर पर सुन्नी मुसलमान ही बीजेपी के खिलाफ सबसे कट्टर बने रहते हैं। वैसे तो बीजेपी के शाहनवाज हुसैन भी सुन्नी हैं, हालांकि हाल के समय में वह अपने अच्छे दिनों से दूर चल रहे हैं।
ओ बंधू रे...
शेख हसीना वाजेद जल्द ही दिल्ली आने वाली हैं, वह राष्ट्रपति भवन में ठहरेंगी, राष्ट्रपति ने उनके साथ डिनर में शामिल होने के लिए ममता बनर्जी को भी बुलावा भेज दिया है। प्रधानमंत्री भी इस डिनर में मौजूद रहेंगे। प्रणब दा चाहते हैं कि वह तीस्ता मामले में केंद्र और ममता बनर्जी के बीच सुलह करवा दें। यूपी के नतीजों और नारदा घोटाले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद से ममता के तेवर थोड़े नरम पड़ने की उम्मीद है। प्रणब दा ने ममता को यह भी बता दिया है कि वह उन्हें महत्व देने की ही खातिर किसी और सीमावर्ती राज्य के मुख्यमंत्री को नहीं बुला रहे हैं । लेकिन संकट फिर भी है। वह यह कि शेख हसीना की अगवानी करने का काम इस बार बाबुल सुप्रियो को मिल सकता है। माने एक और बंगाली। हो गई न गड़बड़?
फिर होगी वीडियो मीटिंग
राज्यों के मुख्य सचिवों के साथ प्रधानमंत्री की वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के जरिये बातचीत कुछ राज्य सरकारों को जरा भी रास नहीं आती। ओडिशा, कर्नाटक और पश्चिम बंगाल तो उसके सख्त खिलाफ ही हैं। बीच में यूपी चुनाव के दौरान भी इस प्रक्रिया में अड़ंगा लग चुका है लेकिन अब अप्रैल से यह वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग फिर शुरू होने वाली है। नीतीश कुमार और चंद्र बाबू नायडू इसमें पूरी तरह सहयोग कर रहे हैं।
महामहिम डॉ. द्रौपदी मुर्मू!
डॉ. द्रौपदी मुर्मू झारखण्ड की राज्यपाल हैं। आदिवासी हैं, ओडिशा की हैं, महिला हैं, और विदुषी भी हैं। तो क्या अगली महामहिम वह हो सकती हैं? देखते चलिए, हो सकता है कि यह मोदी सरकार का एक और बड़ा कदम हो।
टुंडे कबाब छाप कहानी
टुंडे कबाब घंटे भर के लिए गायब क्या हुए, लखनऊ के टुंडेखाने माने चंडूखाने में किसी ने यह खबर चला दी कि देख लेना अपर्णा यादव अब पहले एमएलसी बनेंगी और उसके बाद जूनियर मंत्री। वो भी अखिलेश की काट के तौर पर। खुद अपर्णा से जब पूछा गया तो उनका जवाब था “भगवान जाने क्या होगा।” सब टुंडे कबाब की माया है।
एक्स्ट्रा चुस्ती
बात दिल्ली की रोहिणी अदालत की है। अदालत ने वित्त मंत्रालय के खिलाफ दायर एक याचिका पर सुनवाई के दौरान वित्त विभाग के सचिव के खिलाफ वारंट जारी किया। वहां पदस्थ पुलिस अधिकारी ने अति सक्रियता दिखाते हुए एक पुलिस अधिकारी को वारंट तामील कराने घर भेज दिया। पता चला कि वह तो एक सामान्य वारंट था, अब उन अति सक्रिय पुलिस अधिकारी का स्थानान्तरण हो गया है।
प्रॉपर टैक्स
प्राॅपर्टी पर टैक्स अगर प्रापर ढंग से वसूला जाए, तो बहुत कुछ हो सकता है। दिल्ली के एनडीएमसी क्षेत्र में पहली बार प्राॅपर्टी टैक्स की रिकार्ड तोड़ वसूली हुई है। पूरे 580 करोड़ रुपए। इसका श्रेय वर्तमान पदस्थ अधिकारियों को दिया जा रहा है।
राम तेरी गंगा...
गंगा में प्रदूषण के मसले पर मंत्रालय समय पर जवाब नहीं दे सका। परिणाम यह निकला कि एनजीटी ने तीन बार जुर्माना और टिप्पणी कर दी। वैसे गंगा सफाई प्रधानमंत्री का ड्रीम प्रोजेक्ट है।
कोई बात तो है
सीबीडीटी और सीबीईसी दोनों के दो-दो सदस्यों के नामों को अभी तक पुष्टि नहीं मिली है। क्यों नहीं मिली है, यह सिर्फ प्रधानमंत्री कार्यालय जानता है।
एक्स्ट्रा मेहरबानी!
एक स्टेनो साहिबा हैं। माने पहले स्टेनो साहिबा होती थीं, अब वो संयुक्त सचिव साहिबा हैं। महकमा एक संवैधानिक संस्थान है। वो तो यह सब स्टेनो साहिबा का एक्स्ट्रा टैलेंट और उनके मेहरबानों की एक्स्ट्रा मेहरबानी है। वरना तो, वो कहते हैं ना कि हजारों साल नरगिस अपनी बेनूरी पे...। खैर।
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: Power Gallery By Dr. Bharat Agrawal
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।
 

Stories You May be Interested in

      More From Power Gallery

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top