Home »National »Photo Feature» Anil Madhav Dave, Union Environment Minister So Passionate About River Conservation & Environment

दिग्विजय को सत्ता से हटाने की कामयाब स्ट्रैटजी से सुर्खियों आए थे अनिल दवे

DainikBhaskar.com | May 29, 2017, 13:00 IST

  • दवे ने एनसीसी के एयर विंग कैडेट के तौर पर फ्लाइट उड़ाने की शुरुआती ट्रेनिंग ली थी। (फाइल)
    नई दिल्ली.केंद्रीय पर्यावरण मंत्री अनिल माधव दवे नहीं रहे। वे 61 साल के थे। दिल का दौरा पड़ने से गुरुवार सुबह उनका निधन हो गया। दवे पहली बार 2003 में सुर्खियों में आए थे। तब उन्होंने एमपी में 10 साल से कांग्रेस सरकार चला रहे दिग्विजय सिंह को हराने की कामयाब स्ट्रैटजी बनाई थी। दवे की बनाई स्ट्रैटजी के तहत ही उमा भारती ने डेढ़ साल परिवर्तन यात्रा निकाली और दिग्विजय के खिलाफ मिस्टर बंटाढार के जुमले को जमकर प्रचारित किया गया। नतीजा यह रहा कि उमा भारती की अगुआई में बीजेपी को जबर्दस्त जीत मिली। आरएसएस से बीजेपी में आए, जावली ग्रुप बनाया...
    - अनिल माधव दवे अपनी जिंदगी के शुरुआती दिनों से ही सोशल वर्क से जुड़े थे।
    - उन्होंने नदी बचाने के लिए "नर्मदा समग्र" नाम का एनजीओ बनाया था।
    - दवे मध्य प्रदेश से दो बार राज्यसभा सांसद रहे। उन्हें बीजेपी में गलतियां न करने वाले और ऑर्गनाइजेशन को बहुत अच्छे तरीके से चलाने वाले शख्स के तौर पर जाना जाता था।
    - उन्हें पिछले साल ही यूनियन एन्वायरमेंट मिनिस्टर बनाया गया था।
    RSS से काफी वक्त से जुड़े थे
    - दवे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से काफी वक्त से जुड़े थे।
    - 2003 में उनकी स्ट्रैटजी उस वक्त के सीएम दिग्विजय सिंह को हराने में अहम साबित हुई। इससे वो सुर्खियों में अाए।
    - बाद में मध्य प्रदेश की सीएम बनीं उमा भारती ने उन्हें अपना एडवाइजर बनाया था।
    2003 के चुनाव में कैसे बनाई थी दवे ने स्ट्रैटजी?
    - मध्य प्रदेश बीजेपी के वाइस प्रेसिडेंट और दवे के करीबी रहे विजेश लुनावत के मुताबिक, "2003 के चुनाव में उस वक्त के सीएम दिग्विजय सिंह को सत्ता से बाहर करने के लिए दवे ने जावली ग्रुप बनाया था। इसी ने कैम्पेन के लिए काम किया।"
    - "उमा भारती की डेढ़ साल चली परिवर्तन यात्री का प्लान भी इसी के तहत तैयार किया गया।जावली ग्रुप के मेंबर्स ने दिग्विजय सरकार की नाकामियों को लोगों तक पहुंचाया, जो उन्हें सत्ता से बाहर करने में अहम साबित हुई।"
    - "दिग्विजय के लिए मिस्टर बंटाढार का जुमला दवे ने ही दिया था। दिग्विजय कहते थे मैनेजमेंट से चुनाव जीते जाते हैं, जबकि दवे कहते थे कि कार्यकर्ताओं के काम और विकास से चुनाव जीते जाते हैं।"
    पायलट भी थे दवे
    - दवे ने एनसीसी के एयर विंग कैडेट के तौर पर फ्लाइट उड़ाने की शुरुआती ट्रेनिंग ली थी। इसमें उन्होंने जिंदगीभर का जुनून तलाश लिया।
    - वो प्राइवेट पायलट लाइसेंस होल्डर थे। उन्होंने एकबार नर्मदा के किनारे 18 घंटे तक सेना एयरक्राफ्ट उड़ाया था।
    लिटरेचर में काफी इंटरेस्ट था
    - दवे ने इंदौर के गुजराती कॉलेज से कॉमर्स में मास्टर डिग्री ली थी। उन्हें लिटरेचर में काफी इंटरेस्ट था। उन्होंने कई किताबें भी लिखी थीं।
    - दवे का जन्म 6 जुलाई 1956 को मध्य प्रदेश के बड़नगर में हुआ था।
    - दवे का RSS के प्रति जुड़ाव उनके दादा दादासाहब दवे की वजह से हुआ। कॉलेज की पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने प्रचारक के तौर पर संघ में शामिल होने का फैसला किया।
    BJP के खास स्ट्रैटजिस्ट थे दवे
    - दवे बीजेपी के खास स्ट्रैटजिस्ट थे। उन्हें 2003 के विधानसभा चुनाव से ठीक पहले बीजेपी में शामिल किया गया था।
    - वे 2003, 2008 और 2013 में विधानसभा चुनाव में और 2004, 2009 और 2014 में लोकसभा चुनाव में इलेक्शन मैनेजमेंट कमेटी के चीफ रहे।
    - दवे बूथ लेवल मैनेजमेंट और प्लानिंग दोनों लेवल पर जाना जाता था।
    - उन्हें 2009 में राज्यसभा के लिए चुना गया था। वो कई कमेटियों में शामिल रहे। दवे प्रेवेंशन ऑफ करप्शन (अमेंडमेंट) बिल 2013 की सिलेक्ट कमेटी के प्रेसिडेंट भी रहे थे।
    - दवे ने 2013 में भोपाल में अंतरराष्ट्रीय विश्व हिंदी सम्मेलन का आयोजन भी किया था।
  • VIDEO: तीन मुख्यमंत्रियों के भरोसेमंद रहे, मप्र में कांग्रेस को हराने में रही मुख्य भूमिका।
  • पिछले साल क्लाइमेंट चेंज पर रवांडा में हुई बाइलेटरल मीटिंग में दवे उस वक्त के अमेरिका के विदेश मंत्री जॉन कैरी से मिले थे। (फाइल)
  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: Anil Madhav Dave, Union Environment Minister So Passionate About River Conservation & Environment
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Photo Feature

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top