Home »National »Latest News »National» India ICJ Kulbushan Jadhav Condition Pakistan

जाधव की सेहत-लोकेशन का पता नहीं: सरकार, PAK ने फाइल की रिव्यू पिटीशन

DainikBhaskar.com | May 20, 2017, 18:56 IST

  • इंडियन फॉरेन मिनिस्ट्री ने साफ किया है कि उसके पास इस बात की कोई जानकारी नहीं है कि पाकिस्तान की हिरासत में मौजूद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव की सेहत कैसी है और उन्हें कहां रखा गया है। - फाइल
    नई दिल्ली.इंडियन फॉरेन मिनिस्ट्री ने साफ किया है कि उसके पास इस बात की कोई जानकारी नहीं है कि पाकिस्तान की हिरासत में भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव की सेहत कैसी है और उन्हें कहां रखा गया है। दूसरी ओर, पाकिस्तान ने जाधव की फांसी पर लगाई गई रोक और उनको कॉन्स्युलर दिए जाने पर इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस यानी ICJ में शुक्रवार को रिव्यू पिटीशन फाइल कर दी। बता दें कि गुरुवार को ही ICJ ने पाक मिलिट्री कोर्ट द्वारा जाधव को सुनाई गई फांसी की सजा पर रोक लगाई थी। पाक जाधव को जासूस बताता है, जबकि भारत उन्हें नेवी से रिटायर्ड अफसर और कारोबारी करार देता है।पाकिस्तान को कुरैशी पर ही भरोसा...
    पाकिस्तान के टीवी चैनल ‘दुनिया न्यूज’ ने सरकारी सूत्रों के हवाले से बताया कि जाधव मामले पर ICJ के ऑर्डर के खिलाफ पाकिस्तान सरकार की तरफ से रिव्यू पिटीशन दायर कर दी गई है। खास बात है कि रिव्यू पिटीशन उसी वकील खाबर कुरैशी ने दायर की है, जिनकी वहां काफी आलोचना हो रही है। रिपोर्ट में कहा गया है कि कुरैशी ही आगे भी पाकिस्तान की तरफ से दलील पेश करेंगे।
    इंडियन फॉरेन मिनिस्ट्री ने जाधव पर क्या कहा?
    - न्यूज एजेंसी के मुताबिक, फॉरेन मिनिस्ट्री के स्पोक्सपर्सन गोपाल बागले से जब ये पूछा गया कि क्या भारत सरकार के पास जाधव की सेहत या पाकिस्तान में उनके ठिकाने की कोई जानकारी है?
    - इस सवाल पर बागले ने कहा- पाकिस्तान सरकार ने हमें अब तक जाधव की कंडीशन या उन्हें कहां रखा गया है, इसके बारे में कोई जानकारी नहीं दी है। ये हमारे लिए चिंता की बात है।
    - बता दें कि पिछले महीने भारत ने पाकिस्तान से जाधव की मेडिकल कंडीशन पर रिपोर्ट मांगी थी, लेकिन पाकिस्तान ने इसका जवाब ही नहीं दिया।
    - बागले ने आगे कहा- बदकिस्मती से हमारे पास इस मुद्दे पर कोई जानकारी नहीं है। हम ये भी नहीं जानते कि जाधव की मां ने जो अपील दायर की थी, उसका क्या हुआ?
    नवाज ने की भारत से सीक्रेट डील: अपोजिशन
    - जाधव मामले को लेकर अपोजिशन नवाज सरकार पर हमलावर नजर आ रहा है। इमरान खान की पार्टी ‘पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ’ यानी पीटीआई के नेता शफकत महमूद ने कहा- इंडियन स्टील किंग सज्जन जिंदल से शरीफ ने क्या बात की? उनके बीच क्या सीक्रेट डील हुई? नवाज को देश की संसद में आकर सच्चाई बयान करनी चाहिए।
    - महूमूद ने कहा- सरकार ने ऐसा वकील क्यों हायर किया जो ब्रिटेन में रहता है और जो लंदन क्वींस काउंसल जो कतर में है, उसकी वकालत करता है और जिसने कभी इंटरनेशनल कोर्ट का मुंह भी नहीं देखा था। इसका मतलब साफ है कि जिंदल और शरीफ के बीच कोई डील हुई थी।
    ICJ के फैसले से कोई हैरानी नहीं
    - एक और अपोजिशन लीडर शिरीन मजारी ने कहा, "हमें ICJ में मात मिली, इसमें हैरानी की कोई बात नहीं है। सरकार ने जानबूझकर वही किया जो भारत चाहता था। इस खेल की शुरुआत तभी हो गई थी, जब सज्जन जिंदल नवाज से मिलने पाकिस्तान आए थे।"
    - "सच्चाई तो ये है कि पाकिस्तान की लीगल टीम वहां भारत की मदद करने गई थी। हमने एक अनाड़ी को ICJ भेज दिया था।"
    हम तो पूरे वक्त बोल भी नहीं पाए
    - पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी यानी पीपीपी की वाइस प्रेसिडेंट शेरी रहमान ने कहा- ICJ में हमारे वकील 90 मिनट की दलीलें भी पेश नहीं कर पाए।
    वकीलों की नई टीम बनाएगा पाकिस्तान
    - नवाज शरीफ के फॉरेन अफयर्स एडवाइजर सरताज अजीज ने शुक्रवार को कहा- ICJ में देश का पक्ष रखने के लिए वकीलों की नई टीम बनाई जाएगी। जो टीम ICJ गई थी, उसने अपनी तरफ से बेहतरीन काम किया।
    आगे की स्लाइड्स में पढ़ें: 7 करोड़ रुपए फीस देकर भी इंटरनेशनल कोर्ट में केस हार गया पाकिस्तान...
    ये भी पढ़ें:
  • 7 करोड़ का वकील क्या कर पाया?
    इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस द्वारा (ICJ) पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव की फांसी पर रोक लगाए जाने के बाद पाकिस्तान में बवाल शुरू हो गया। पाक ने अपने वकीलों पर 7 करोड़ खर्च किए। पाकिस्तान के एक पूर्व डिप्लोमैट ने कहा- हमारे देश के एक वकील ने ICJ में दलीलें पेश करने के लिए 7 करोड़ रुपए लिए। भारत के वकील ने सिर्फ 1 रुपए लिया, लेकिन मार्च से ही केस की तैयारी शुरू कर दी थी। अब पाकिस्तान के एक्सपर्ट गलतियां गिना रहे हैं। पाकिस्तान के ही अखबार ‘द डॉन’ से बातचीत में इन एक्सपर्ट्स ने 7 गलतियां उजागर की, जिनकी वजह से पाकिस्तान को ICJ में मुंह की खानी पड़ी।
    पाकिस्तान की 7 गलतियां
    1. ICJ गए ही क्यों?
    - रिटायर्ड जस्टिस शारिक उस्मानी के मुताबिक, पाकिस्तान की गलती है कि वो इंटरनेशनल कोर्ट गया। हमने खुद अपने पैर पर कुल्हाड़ी मारी। अब हमें अपने ही कोर्ट में केस चलाना चाहिए। जाधव को यहां की अदालत में अपील दायर करने के लिए 40 दिन दिए गए थे, वो पूरे हो चुके हैं।
    2. बिना तैयारी के ही पहुंच गए ICJ
    - लंदन में रहने वाले पाकिस्तानी वकील राशिद आलम ने कहा- हमारी टीम बिना तैयारी के ही ICJ पहुंच गई। हैरानी है कि दलील के लिए मिले 90 मिनट का भी पाकिस्तान की लीगल टीम सही तरीके से इस्तेमाल नहीं कर सकी। 40 मिनट खराब कर दिए।
    3. नैतिक जिम्मेदारी लेनी होगी
    - पॉलिटिकल एनालिस्ट जाहिद हुसैन ने कहा- ICJ का फैसला मानना जरूरी नहीं, लेकिन अब हमें नैतिक जिम्मेदारी लेनी होगी। भारत के पक्ष में फैसला जरूर आया है, लेकिन कोर्ट ने फांसी का ऑर्डर नहीं पलटा है। हम अपने देश के कानून पर भरोसा क्यों नहीं कर रहे हैं?
    4. अनुभवी नहीं थे वकील
    - पूर्व अटॉर्नी जनरल इरफान कादिर ने कहा- हमने बहुत जल्दबाजी की। जो वकील भेजे गए, उन्हें अनुभव ही नहीं था कि इतने बड़े मामले को कैसे हैंडल किया जाए। ये साफ भी हो गया, हमारी दलीलों में दम ही नहीं था। अब टीम ऐसी हो जो देश का पक्ष रख सके।
    5. पाकिस्तान का केस ही कमजोर था
    - पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी की शेरी रहमान ने कहा- ये तो होना ही था, क्योंकि हमारा केस और दलीलों की बुनियाद ही काफी कमजोर थी। ज्यादा बेहतर तरीके से देश के तौर पर पक्ष रखा जाना चाहिए था। जासूसी वाली बात को ही हम ठीक तरीके से पेश नहीं कर पाए।
    6. कॉन्स्युलर एक्सेस ही मुद्दा था
    - सुप्रीम कोर्ट के वकील फैजल नकवी के मुताबिक- असल मुद्दा कॉन्स्युलर एक्सेस था। ICJ को तो कहना है कि था कॉन्स्युलर एक्सेस दिया जाए। लेकिन हम क्यों नहीं बता पाए कि ये जासूसी का मामला है और इस तरह के मामलों में कॉन्स्युलर एक्सेस नहीं दिया जाता। हम बात को ठीक तरीके से नहीं रख पाए।
    7. कश्मीर नहीं तो जाधव क्यों?
    - सीनियर लॉयर फरोग नसीम के मुताबिक, भारत कश्मीर मसले को ICJ में नहीं ले जाने देता। फिर हम जाधव के मसले पर वहां क्यों चले गए? ICJ में भारत ताकतवर है। हमने 17 साल पहले केस दायर किया था, तब इस कोर्ट ने कहा था कि ये मामला तो उसके दायरे में ही नहीं आता।
    पाकिस्तान में भी बवाल
    - पाकिस्तान की मीडिया में मंगलवार को हुई सुनवाई के बाद से ही इस मामले को लेकर काफी चर्चा हो रही है।
    - ‘दुनिया टीवी’ पर एक पाकिस्तान के एक पूर्व डिप्लोमैट ने कहा- भारत इस केस पर तब से ही काम कर रहा था, जबसे ये पब्लिक डोमेन में आया। लेकिन हमारे पास कोई तैयारी ही नहीं थी। तीन-चार दिन में पेपर जुटाए और पहुंच गए ICJ। क्या ऐसा नहीं लगता कि हमने उसे मिलिट्री कोर्ट में सजा सुनाकर ही तसल्ली कर ली। ये नहीं सोचा कि भारत सरकार क्या कर सकती है?
    - इस डिप्लोमैट ने आगे कहा- अगर सुषमा स्वराज संसद में खड़े होकर उसे देश का बेटा बताती हैं और ये कहती हैं कि जाधव को हर कीमत पर बचाया जाएगा तो क्या हमें उनकी बात समझ में नहीं आई। या फिर हम मुगालते में थे कि भारत प्रेशर में आ जाएगा।
    हमारे वकील ने 5 करोड़ लिए
    - पाकिस्तान के एक और पूर्व डिप्लोमैट खालिद निजामी ने ICJ में पाकिस्तान की पैरवी करने वाले कॉन्स्युलर खाबर कुरैशी पर तंज कसा। निजामी ने कहा, "ऐसा लग रहा है कि भारत और पाकिस्तान के बीच टी20 हो रहा है। कुरैशी ने अपने मुल्क की दलील पेश करने के लिए 5 करोड़ रुपए लिए। भारत के वकील साल्वे ने सिर्फ 1 रुपया लिया।"
    नवाज शरीफ की मुश्किल बढ़ी
    - नवाज शरीफ के पास फॉरेन मिनिस्ट्री का भी चार्ज है। अपोजिशन कह रहा है कि नवाज तो उस दिन ही केस हार गए थे, जिस दिन सज्जन जिंदल उनसे मिलने आए थे। आखिर वो बताते क्यों नहीं कि उनकी जिंदल से क्या बात हुई थी।
    साल्वे ने क्या कहा?
    - एक टीवी चैनल से बातचीत में हरीश साल्वे ने कहा- पाकिस्तान पासपोर्ट और फोटो पर ही जोर देता रहा। उसने ये नहीं देखा कि केस की मेरिट क्या है?
    - एक रुपया फीस पर साल्वे ने कहा- एन्वॉयरन्मेंट के मुद्दे पर केस लड़ने का भी मैं एक रुपया ही लेता हूं।
  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: India ICJ Kulbushan Jadhav condition Pakistan
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From National

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top