Home »National »Latest News »National» India Wins! ICJ Verdict On Kulbhushan Jadhav Death Sentence - As It Happened

जाधव की फांसी पर ICJ की रोक, PAK बोला- नहीं बदलेगा मिलिट्री कोर्ट का फैसला

DainikBhaskar.com | May 19, 2017, 09:14 IST

  • हेग (नीदरलैंड्स).इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (ICJ) ने पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव की फांसी की सजा पर रोक लगा दी। कोर्ट ने गुरुवार को कहा- हमारा आखिरी फैसला आने तक जाधव को फांसी नहीं दी जा सकती। भारत को इस मामले में दूसरी कामयाबी भी मिली। ICJ ने पाक से कहा- वियना कन्वेंशन के तहत आपको जाधव को कॉन्स्यूलर एक्सेस भी देना होगा। इस बीच, पाक अटॉर्नी जनरल ने कहा है कि उनकी मिलिट्री कोर्ट का फैसला किसी भी सूरत में नहीं बदलेगा। वहीं इंडियन फॉरेन मिनिस्ट्री ने कहा है कि पाक को ये फैसला मानना ही होगा। बता दें कि पाक ने जाधव को भारत का जासूस बताते हुए पिछले साल गिरफ्तार किया था। मिलिट्री कोर्ट ने पिछले महीने उसे फांसी की सजा सुनाई थी। भारत ने इंटरनेशनल कोर्ट में इसके खिलाफ अपील की थी। इंटरनेशनल कोर्ट में पाक के खिलाफ भारत को 18 साल बाद फिर जीत मिली है। 1999 में भी एक मामले में कोर्ट ने पाक के दावे को खारिज कर दिया था। ICJ ने कहा- जिम्मेदार देश की तरह बर्ताव करें...
    -ICJ ने भारतीय वक्त के मुताबिक दोपहर 3.30 बजे फैसला सुनाया। इस दौरान चीफ जस्टिस रोनी अब्राहम और बाकी 10 जज मौजूद थे।
    - अब्राहम ने सबसे पहले दोनों देशों की तरफ से मंगलवार को पेश की गईं दलीलों की समरी पढ़कर सुनाई। इसके बाद ICJ का ऑर्डर ऑफ मैरिट (वो बातें जिन पर फौरन अमल किया जाना है।) पढ़कर सुनाया।
    - अब्राहम ने कहा, “भारत और पाक दोनों वियना कन्वेंशन का हिस्सा हैं। उन्हें जिम्मेदार देश की तरह बर्ताव करना होगा। पाकिस्तान जाधव पर भारत को कॉन्स्यूलर एक्सेस दे। जब तक ये कोर्ट उस पर आखिरी फैसला नहीं सुना देता तब तक उसे मिलिट्री कोर्ट द्वारा दी गई फांसी की सजा पर अमल नहीं किया जा सकता।”
    - “जाधव को मर्सी पिटीशन दायर करने का हक है। सिविलाइज्ड सोसायटी में हर देश को पहले से तय नतीजे पर सजा देने का अधिकार नहीं है।”
    पाक को सबूत भी देने होंगे
    -इस फैसले में एक बेहद अहम बात है। कोर्ट ने पाकिस्तान से साफ कहा है कि उसे ये कोर्ट को सबूतों के साथ बताना होगा कि उसे जो ऑर्डर ICJ ने दिए हैं, उन पर किस तरह अमल किया गया।
    हरीश साल्वे मौजूद नहीं थे
    -मंगलवार को इस मामले की सुनवाई हुई थी। भारत की तरफ से हरीश साल्वे ने दलीलें रखी थीं। गुरुवार को जब फैसला सुनाया गया तब साल्वे मौजूद नहीं थे। भारत की टीम को फॉरेन मिनिस्ट्री के ज्वाइंट सेक्रेटरी दीपक मित्तल ने लीड किया।
    जज ने फैसले में इन बातों का जिक्र किया
    1. " जाधव को 3 मार्च 2016 को गिरफ्तार किया गया था। जानकारी 25 मार्च को दी गई। भारत ने कॉन्स्यूलर एक्सेस मांगा और कई बार इसे दोहराया। 4 अप्रैल 2017 को पाकिस्तान के फॉरेन ऑफिस ने प्रेस रिलीज में बताया कि जाधव को मिलिट्री कोर्ट ने फांसी की सजा सुनाई है।"
    2. "भारत ने विरोध किया। जाधव को पाकिस्तानी कानून के मुताबिक, 40 दिन में सजा के खिलाफ अपील करनी थी, लेकिन ये हुआ या नहीं? कोर्ट को इसकी जानकारी नहीं है।"
    3. " जाधव की गिरफ्तारी को लेकर डिस्प्यूट हैं। इसे ध्यान में रखना होगा। भारत और पाकिस्तान दोनों वियना कन्वेंशन का हिस्सा हैं।"
    4. " पाकिस्तान के ऑब्जेक्शंस पुख्ता नहीं हैं। लिहाजा इन पर विचार नहीं किया जा सकता। लेकिन ये भी ध्यान रखना होगा कि इस मामले में दोनों देशों के बीच म्युचुअल ट्रीटी (आपसी समझौता) है। इसे 2008 में रिव्यू भी किया जा चुका है।"
    5. " वियना कन्वेंशन के मुताबिक, ये जरूरी है कि सभी सदस्य देश एक-दूसरे नागरिकों को हर हाल में कॉन्स्यूलर एक्सेस मुहैया कराएं।"
    6. " भारत को ये अधिकार है कि वो कॉन्स्यूलर एक्सेस के लिए अपील करे। पाकिस्तान कोर्ट का आखिरी फैसला आने तक जाधव को सजा नहीं दे सकता।"
    7. "जाधव को दया याचिका दायर करने का हक है और सिविलाइज्ड सोसायटी में हर देश को पहले से तय नतीजे पर सजा देने का अधिकार नहीं है। पाकिस्तान कोर्ट को ये बताए कि उसने कोर्ट के दिए ऑर्डर पर क्या एक्शन लिए। इस केस की मैरिट के आधार पर सुनवाई होगी। दोनों देशों की सरकारों को अागे के लिए अपने जवाब कोर्ट देंगे।"
    क्या है वियना कन्वेंशन?
    - वियना कन्वेंशन 1963 में अलग-अलग देशों के लोगों को विदेशों में कॉन्स्यूलर एक्सेस देने के लिए बना था।
    - कन्वेंशन के आर्टिकल 36 के तहत अगर किसी देश में विदेशी नागरिक क्रिमिनल या इमिग्रेशन आरोपों में हिरासत में लिया जाता है या अरेस्ट किया जाता है, तो उसे कॉन्स्यूलर एक्सेस पाने का हक है। यानी वह अपने देश के दूतावास से संपर्क कर सकता है।
    - उस शख्स को ट्रायल और हिरासत के दौरान सलाह-मशविरे के लिए कॉन्स्यूलर अफसरों से मिलने का भी हक है।
    - पाक का दावा है कि आर्टिकल 36 के तहत जाधव को कॉन्स्यूलर एक्सेस नहीं दिया जा सकता क्योंकि उस पर आतंकवाद और जासूसी के आरोप हैं।
    - इंटरनेशनल कोर्ट ने साफ कर दिया कि आर्टिकल 36 में ऐसा कहीं लिखा कि आतंकवाद या जासूसी के आरोपों का सामने कर रहे विदेशी नागरिकों को कॉन्स्यूलर एक्सेस नहीं मिल सकता।
    अटॉर्नी जनरल ने कहा: पाकिस्तान की दलीलें गलत थीं
    - अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने कहा, "इस फैसले ने ये दिखा दिया कि पाकिस्तान की दलीलें गलत थीं। प्रॉपर ट्रायल और मिलिट्री ट्रायल बोगस था। तब तक पाकिस्तान जाधव को फांसी नहीं दे सकता, जब तक इंटरनेशनल कोर्ट फाइनल डिसीजन नहीं सुना देती। सारा भारत और जाधव की फैमिली इत्मिनान से रह सकती है, वो सेफ हैं।"
    WHAT NEXT?
    - इंटरनेशनल कोर्ट अब पाक की मिलिट्री कोर्ट की तरफ से जाधव को सुनाई गई फांसी की सजा के मेरिट्स पर सुनवाई करेगा। दलीलें पेश करने का मौका मिलने पर भारत बताएगा पाक कोर्ट के फैसले में कितनी खामियां हैं।
    - पाक के पास भी एक रास्ता मौजूद है। वह इंटरनेशनल कोर्ट के फैसले के खिलाफ UN में जा सकता है। वह सिक्युरिटी काउंसिल में अपील कर सकता है।
    क्या है मामला?
    - पाक की मिलिट्री कोर्ट ने जाधव को जासूसी और देश विरोधी गतिविधियों के आरोप में फांसी की सजा सुनाई है। भारत का कहना है कि जाधव को ईरान से अगवा किया गया था। इंडियन नेवी से रिटायरमेंट के बाद वे ईरान में बिजनेस कर रहे थे।
    - हालांकि, पाकिस्तान का दावा है कि जाधव को बलूचिस्तान से 3 मार्च 2016 को अरेस्ट किया गया था। पाकिस्तान ने जाधव पर बलूचिस्तान में अशांति फैलाने और जासूसी का आरोप लगाया है।
    - इंटरनेशनल कोर्ट में भारत की तरफ से सीनियर एडवोकेट हरीश साल्वे ने 8 मई को पिटीशन दायर की थी। भारत ने यह मांग की थी कि भारत के पक्ष की मेरिट जांचने से पहले जाधव की फांसी पर रोक लगाई जाए।
    18 साल पहले भारत-पाक इंटरनेशनल कोर्ट में थे आमने-सामने
    - 10 अगस्त 1999 को इंडियन एयरफोर्स ने गुजरात के कच्छ में पाकिस्तान नेवी के एक एयरक्राफ्ट एटलांटिक को मार गिराया था। इसमें सवार सभी 16 सैनिकों की मौत हो गई थी।
    - पाकिस्तान का दावा था कि एयरक्राफ्ट को उसके एयरस्पेस में मार गिराया गया। उसने इस मामले में भारत से 6 करोड़ डाॅलर मुआवजा मांगा था। ICJ की 16 जजों की बेंच ने 21 जून 2000 को 14-2 से पाकिस्तान के दावे को खारिज कर दिया।
    ये भी पढ़ें
  • VIDEO: इंटरनेशनल कोर्ट ने कहा पाकिस्तान जाधव को कॉन्स्यूलर एक्सेस दे।
  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: India wins! ICJ Verdict On Kulbhushan Jadhav Death Sentence - As It Happened
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From National

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top