Home »National »Latest News »National» PM Modi Speaking At The Programme On Civil Services Day - Live Updates

अफसर मोबाइल में बिजी रहते हैं, इसीलिए मीटिंग्स में इस पर बैन लगाया: मोदी

DainikBaskar.com | Apr 21, 2017, 18:41 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स

मोदी ने अफसरों से कहा- हमें चुनौतियों का सामना कर जिम्मेदारी से काम करना है।

नई दिल्ली.नरेंद्र मोदी ने सिविल सर्विसेस डे प्रोग्राम में शुक्रवार को बताया कि उन्होंने अपनी मीटिंग्स में मोबाइल की एंटी पर रोक लगाई। पीएम ने अफसरों से कहा, ''मैंने देखा है कि डिस्ट्रिक्ट लेवल के अफसर आजकल इतने बिजी, इतने बिजी हैं कि पूरे वक्त (मोबाइल कीपैड चलाने का इशारा करते हुए) इसमें लगे रहते हैं। इसीलिए मैंने अपनी मीटिंग्स में इसकी एंट्री बैन करा दी। क्या पता वहां भी निकालकर शुरू हो जाते। ये एक जरूरी चीज है। लोगों तक पहुंचने का आसान जरिया हमारे हाथ आया है। लेकिन मोबाइल का इस्तेमाल जन सुविधाओं के लिए होना चाहिए। अफसर सोशल मीडिया का इस्तेमाल खुद के प्रचार के लिए न करें। बस काम करने का तरीका बदलें। लोग भी ई-गवर्नेंस से एम. गवर्नेंस की ओर शिफ्ट हो गए हैं।'' मोदी ने अफसरों से कॉम्पिटीशन, काम के तरीके, आइडिया, माइंडसेट, एप्रोच और सिस्टम जैसे सब्जेक्ट पर भी बात की। मोदी के स्पीच की 7 खास बातें...
1. काम का बोझ नहीं बढ़ा है, चुनौतियां बढ़ी हैं
- मोदी ने कहा- "मुझे अफसरों की जिम्मेदारियों का पता है।15-20 साल पहले हमी हम थे। ऐसे में कमियां नजरअंदाज करने की आदत बन जाती है। आम लोगों को लगता है कि सामान्य मानवीय के जीवन में 15-20 साल में एक विकल्प पैदा होता है।"
- " इसके चलते सरकार में बैठे लोगों की जिम्मेदारी पहले से ज्यादा बढ़ गई है। काम का बोझ नहीं बढ़ा है, चुनौतियां बढ़ी हैं। कोई भी सिस्टम कॉम्पिटीशन में होनी ही चाहिए। अब लोग प्राइवेट अस्पताल से सरकारी अस्पताल की तुलना करते हैं।"
- "तुलना करने पर हमें भी लगता है कि हमें आगे बढ़ना चाहिए। अच्छा ये होगा कि जितना जल्दी हम अपनी काम करने के तरीकों को बदलेंगे, तो ये चुनौती अवसर में बदल जाएंगी। बदलते समय में सरकार के बिना कमी महसूस हो, लेकिन सरकार के रहते कमी महसूस न हो, लेकिन ये सिस्टम तब बनेगा, जब हम चीजों को उस तरीके से देखना शुरू करेंगे।"
2. काम का क्वालिटेटिव एनालिसिस होना चाहिए
मोदी ने कहा- "क्वांटम जम्प तो हुआ है, हम इसका स्वागत करते हैं। मेरे सामने रिपोर्ट आई तो मेरा दिमाग और चलने लगा। अब थोड़ा क्वालिटेटिव एनालिसिस होना चाहिए। हमें ये तो देखें कि कैसे किया है। मैं चाहता हूं कि एक साल में क्वालिटेटिव चेंज होना चाहिए।"
- "ये कॉम्पिटीशन का दौर है, चुनौतियां बड़ी हैं। आपने देखा होगा गृहणी की योग्यता पर कभी गौर नहीं किया जाता, लेकिन जब परिवार का मुखिया अचानक छिन जाता है तो दिखाई पड़ता है कि गृहणी घर संभालना शुरू कर देती है। मेरे कहने का मतलब सबसे मेधावी लोग आईएएस बनते हैं काम भी उसी हिसाब से होना चाहिए।"
- "हमें ये देखना चाहिए कि कहीं हमारा अनुभव ब्रेक तो नहीं बन रहा? हमें फख्र होना चाहिए कि हमनें जो खेत जोता था, आगे के लोगों की वजह से उसमें फल भी आया। हमें इसी भाव से काम करना चाहिए। कई अफसर आप देखेंगे कि उन्होंने किसी आइडिया को बड़ा बनाया। आज खोजे से भी पता नहीं चलेगा कि वह कौन अफसर था। लेकिन आज कहीं इसमें कमी तो नहीं आ रही है।"
3. अनुभव बोझ नहीं बनना चाहिए
- मोदी ने कहा- "अनुभव बोझ नहीं बनना चाहिए। अच्छे और नए काम को बढ़ावा मिलना चाहिए। अफसर मोबाइल पर लगे रहते हैं, इसलिए मैंने इसे बैठक में बंद कर दिया। आज दुनिया ई गवर्नेंस से एम गवर्नेंस की तरफ चल पड़ी है। कौन सी ताकत कब और किस काम आनी चाहिए, ये हमें पता होना चाहिए।"
- "परंपरा को बरकरार रखना भी एक चुनौती है, हमें इसका ध्यान रखना होगा। मैं 16 साल से आप लोगों के साथ काम कर रहा हूं। इस व्यवस्था में काम करने वाले जो लोग हैं, उनका सुझाव ही सबसे उत्तम हो सकता है। अच्छे काम के लिए टीम वर्क जरूरी है।"
4. सेवा भाव से काम करें, नाम कमाने की इच्छा से नहीं
- मोदी बोले, "समर्पण भाव से काम करना चाहिए, नाम कमाने की इच्छा न होना ही सबसे बड़ी ताकत है। ओनरशिप का मोमेंट होना सबसे जरूरी है। व्यक्ति के तौर पर इंसान की सबसे सही कसौटी कब होती है, अभाव ग्रस्त व्यवस्था व्यक्ति का सही मूल्यांकन नहीं करती है, प्रभाव ग्रस्त व्यवस्था ही व्यक्ति का सही मूल्यांकन कर सकती है।"
- ''आप सोचिए आप में से ही कुछ लोग, जवान जब कश्मीर में बाढ़ आने पर लोगों की मदद करते हैं, तो उनको वहां तालियां भी मिलती हैं। भले ही बाद में वे ही लोग आपको पत्थर मारें, लेकिन कुछ समय के लिए उनके मन में भी आता है कि ये लोग हमारे लिए जान दे सकते हैं। कहने का मतलब काम में लोगों की सेवा का भाव होना चाहिए अभाव नहीं।''
5. हम अपना माइंडसेट बदल सकते हैं क्या?
- मोदी ने कहा- " विपुलता के बीच कैसे काम किया जाए? जिस तरह देश बढ़ रहा है, उसी तरह विपुलता के भी दर्शन हो रहे हैं। हम विपुलता के बीच अपनी स्ट्रैटजी बदल सकते हैं क्या, हम अपना माइंडसेट बदल सकते हैं क्या? अब जिले-राज्य-देशों, कल और आज के बीच कॉम्पिटिशन है। राष्ट्रहित सिविल सेवा का धर्म है।"
-" अफसर हर फैसले को राष्ट्रहित के तराजू पर तौलें। हर अफसर के बीच लुब्रिकेटिंग व्यवस्था होनी चाहिए। सरकार के 2 डिपार्टमेंट आपस में क्यों झगड़ रहे हैं, ये मुझे समझ नहीं आता। 15 साल से काम रुका क्यों पड़ा है? सिविल सर्विस डे पर ये आत्मचिंतन का विषय होना चाहिए।
6. आज एक अवसर आया है स्थितियों को बदलने का
- मोदी बोले, "सरकारें आएंगी-जाएंगी, व्यवस्था लागू रहेगी। आज एक अवसर आया है स्थितियों को बदलने का। सत्यनिष्ठा से काम होना चाहिए, मैं आपके साथ खड़ा हूं। उस वक्त को याद कीजिए, जब आपने सिविल सेवा परीक्षा पास की थी तो क्या सपने थे, क्या उसमें कोई बदलाव आया है।"
- " हम अपनी जिंदगी से ही प्रेरणा ले सकते हैं। गड्ढा खोदने-भरने से काम नहीं चलेगा, पेड़ भी लगना चाहिए। हम जो काम करें, उसका नतीजा भी निकलना चाहिए। अब हमें हर काम को आउटकम के तराजू पर तौलना होगा। परफॉर्म करने के लिए कमर कसना होगा।"
7. अफसर चाहें तो गंगा साफ हो सकती है
मोदी ने कहा- "कल तक हम अपना गुजारा जैसे तैसे करते थे, लेकिन 2022 में भारत को ताकत बनाने के लिए काम करें। विभागों में मतभेद और अहम नहीं होना चाहिए। अफसर चाहें तो गंगा साफ हो सकती है। अगर हम मिलकर कोशिश करें तो गंगा साफ हो सकती है।"
- "कश्मीर में बाढ़ आती है, तो जवान लोगों की जान बचाते हैं, भले वहां लोग जवानों को पत्थर मारें, लेकिन उनके लिए तालियां बजाई जाती हैं। लोगों के मन में भाव पैदा करें, अभाव नहीं।"
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: PM Modi Speaking At The Programme On Civil Services Day - Live Updates
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।
 

Stories You May be Interested in

      More From National

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top