Home »National »In Depth » International Day Of Happiness 2017: India Ranks 122nd, Norway Is The World Happiest Country

भारतीयों से ज्यादा खुश चीनी-पाकिस्तानी, हैप्पीनेस के मामले में नाॅर्वे नंबर वन

DainikBhaskar.com | Mar 21, 2017, 20:27 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स

नॉर्वे ने अपने देश में तेल की कम कीमतों के बावजूद नंबर-1 रैंक हासिल की है। यह देश सिर्फ ऑयल वैल्थ के चलते सबसे ज्यादा हैप्पी नहीं है।

नई दिल्ली.यूनाइटेड नेशंस की वर्ल्ड हैप्पिनेस रिपोर्ट 2017 में नॉर्वे को दुनिया का सबसे खुशी देश करार दिया गया है। यह पिछले साल चौथी रैंक पर था। इस बार यह डेनमार्क को पीछे छोड़ नंबर वन बन गया है। वहीं, 155 देशों की लिस्ट में चीन 79वें, पाकिस्तान 80वें और भारत 122वें नंबर पर है। यानी यूएन यह मानता है कि भारतीयों से ज्यादा पाकिस्तानी खुश रहते हैं। बता दें कि पिछली बार भारत इस लिस्ट में 118वें नंबर पर था। इस बार वह रैंक में चार पायदान और पीछे हो गया है। लिस्ट में कौन किस नंबर पर...
क्या हैं हैप्पीनेस के मायने?
- वर्ल्ड हैप्पीनेस रिपोर्ट 2017 तैयार करने वाले सस्टेनेबल डेवलपमेंट सॉल्यूशन नेटवर्क (SDSN) के डायरेक्टर जैफरी एस. ने कहा कि खुश देश वो हैं जहां खुशहाली, सोसायटी में आपसी भरोसा, लोगों के बीच बराबरी और सरकार पर भरोसा ज्यादा है और इन सभी के बीच अच्छा बैलेंस है। इस सालाना रिपोर्ट का मकसद सरकारों और सिविल सोसायटी को खुशहाली के बेहतर तरीके बताना हैं।
किन 6 पैमानों पर आंका गया?
- देशों के हैप्पीनेस इंडेक्स को वहां प्रति व्यक्ति जीडीपी, अच्छी लाइफ एक्सपेंटेंसी, फ्रीडम, सोशल सपोर्ट, उदारता और सरकार या बिजनेस में जीरो करप्शन के पैमाने पर आंका गया।
नॉर्वे कैसे बना नंबर 1?
- 2012 से हर साल आ रही इस रिपोर्ट में 2016 में डेनमार्क नंबर वन और नॉर्वे नंबर 4 पर था। इस बार वह नंबर-1 हो गया है।
- रिपोर्ट के मुताबिक, नॉर्वे ने अपने देश में तेल की कम कीमतों के बावजूद नंबर-1 रैंक हासिल की है। यह देश सिर्फ ऑयल वैल्थ के चलते सबसे ज्यादा हैप्पी नहीं है। वह ऑयल को काफी धीरे-धीरे प्रोड्यूस कर रहा है। मौजूदा दौर की बजाय फ्यूचर की चीजों पर ज्यादा इन्वेस्ट कर रहा है।
- नॉर्वे में लोगों के बीच आपसी भरोसे का भाव है। ज्यादातर लाेग एक ही मकसद के लिए काम करते हैं। वहां के लोगों में उदारता है। देश में गुड गवर्नेंस है।
कौन-से देशों के लोग सबसे कम खुश?
- सब-सहारा अफ्रीका में आने वाले देश जैसे सीरिया और यमन 155 देशों की लिस्ट में सबसे कम खुश हैं। हैप्पीनेस के 6 पैमानों पर ये देश सबसे कमजोर हैं।
टॉप-10 में ये देश शामिल
रैंक देश
1 नॉर्वे
2 डेनमार्क
3 आईसलैंड
4 स्विट्जरलैंड
5 फिनलैंड
6 नीदरलैंड
7 कैनेडा
8 न्यूजीलैंड
9 ऑस्ट्रेलिया
10 स्वीडन
79 चीन
80 पाकिस्तान
122 भारत
चीन में लोग अब उतने खुश नहीं, जितने 25 साल पहले थे
- रिपोर्ट में कहा गया है कि चीन में 25 साल पहले लोग सबसे ज्यादा खुश थे। 1990 से 2005 के बीच चीन के लोगों में हैप्पिनेस में कमी आई है। इसकी वजह यह है कि यहां बेरोजगारी बढ़ी है। सरकार का सोशल सेफ्टी फंड कम हुआ है और सरकार के बकायादार बढ़े हैं।
अमेरिका भी उतना खुश नहीं
- 2007 में ऑयल प्रोड्यूसिंग देशों के हैप्पीनेस इंडेक्स में यूएसए तीसरी रैंक पर था। इस साल वह 14वीं रैंक पर है।
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: International Day Of Happiness 2017: India Ranks 122nd, Norway Is the World Happiest Country
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।
 

Stories You May be Interested in

      More From In Depth

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top