Home »National »Latest News »National» Three Hours After Being Arrested, Vijay Mallya Granted Bail- As It Happened

माल्या 13 महीने बाद ब्रिटेन में अरेस्ट, 4.5 करोड़ देकर 3 घंटे में मिली जमानत

DainikBhaskar.com | Apr 19, 2017, 15:12 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स

विजय माल्या को मंगलवार सुबह स्कॉटलैंड यार्ड पुलिस ने अरेस्ट किया था।

लंदन/नई दिल्ली. 13 महीने पहले भारत छोड़कर भागे विजय माल्या को मंगलवार को ब्रिटेन में अरेस्ट कर लिया गया। स्कॉटलैंड यार्ड ने उसे वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट में पेश किया। कोर्ट ने गिरफ्तारी के तीन घंटे बाद ही माल्या को 4.5 करोड़ रुपए के बॉन्ड और पासपोर्ट जमा करने की शर्त पर जमानत दी। बता दें कि माल्या पर 17 बैंकों के 9,432 करोड़ रुपए बकाया हैं। गिरफ्तारी से बचने के लिए वे पिछले साल 2 मार्च को देश छोड़कर भाग गए थे। भारत ने इस साल 8 फरवरी को ब्रिटेन से उसके एक्स्ट्राडीशन (प्रत्यर्पण) की रिक्वेस्ट की थी। यह अपील मार्च में मजिस्ट्रेट कोर्ट को भेज दी गई थी। सीबीआई इसे बड़ी कामयाबी मान रही है। सीबीआई की एक टीम जल्द ही ब्रिटेन भी जा सकती है। 9 हजार करोड़ के कर्जदार माल्या सुबह हुए थे गिरफ्तार...
- पिछले साल मार्च में भारत से भागे विजय माल्या (61) को मंगलवार सुबह स्कॉटलैंड यार्ड पुलिस ने अरेस्ट कर लिया। वे खुद सेंट्रल लंदन पुलिस स्टेशन पहुंचे थे।
- भारत ने बैंकों के 9 हजार करोड़ के कर्जदार माल्या को लौटाने की यूके से बीते फरवरी में गुजारिश की थी। इसी के दो महीने बाद यह कार्रवाई हुई। एक्स्ट्राडीशन वॉरंट पर अरेस्ट माल्या को वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट में पेश किया गया। गिरफ्तारी के तीन घंटे बाद ही उन्हें 4.5 करोड़ रुपए की जमानत पर बेल भी मिल गई।
- माल्या ने बेल मिलने के बाद ट्वीट किया, ''हमेशा की तरह मीडिया ने हाइप क्रिएट किया। आज एक्स्ट्राडिशन हियरिंग शुरू होनी ही थी।'' बता दें कि माल्या पिछले साल 2 मार्च को देश छोड़कर लंदन भाग गए थे। इस मामले पर केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री संतोष गंगवार ने कहा कि किसी को भी छोड़ा नहीं जाएगा।
फॉरेन मिनिस्ट्री ने क्या कहा...
- इंडियन फॉरेन मिनिस्ट्री ने एक बयान में कहा- माल्या को लेकर ब्रिटेन में लीगल प्रोसेस जारी है। दोनों देशों की सरकारें भी इस मसले पर संपर्क में हैं। माल्या के प्रत्यर्पण के लिए भारत सरकार ने अपील की थी। इसलिए उसे गिरफ्तार किया गया।
10 प्वाइंट्स में समझें पूरा मामला
1) कैसे हुई माल्या की गिरफ्तारी?
- इन्फोर्समेंट डायरेक्टोरेट और CBI जैसी भारतीय एजेंसियां और मोदी सरकार माल्या की गिरफ्तारी के लिए पिछले कई महीनों से कोशिशें कर रही थीं।
- फरवरी को भारत ने यूके से माल्या की वापसी के लिए रिक्वेस्ट भेजी थी।
- इसके बाद मार्च में ब्रिटिश पीएम थेरेसा मे ने लंदन में अरुण जेटली से प्रोटोकॉल तोड़कर मुलाकात की थी। इस मुलाकात में माल्या को भारत को सौंपने पर चर्चा हुई थी।
- मार्च में ही यूके ने भारत को बताया था कि उसकी रिक्वेस्ट को विदेश मंत्रालय ने सर्टिफाई कर दिया है।
- यूके गवर्नमेंट ने आगे की कार्रवाई के लिए केस को डिस्ट्रिक्ट जज के पास भेजा। इसके बाद मंगलवार सुबह 9:30 बजे (यूके के टाइम के मुताबिक) माल्या को एक्स्ट्राडीशन वॉरंट पर अरेस्ट किया गया।
- न्यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, वॉरंट जारी होने के बाद माल्या खुद सेंट्रल लंदन पुलिस स्टेशन पहुंचे। वहां उन्हें अरेस्ट किया गया।
2) WHAT NEXT?
- भारत-यूके के बीच 1992 में म्युचुअल लीगल असिस्टेंस ट्रीटी (MLAT) हुई थी। इसके तहत दोनों देशों के बीच आपराधिक मामलों में आरोपी शख्स को ट्रांसफर किया जा सकता है। इसमें सबूत देने और जांच में मदद करने के मकसद से आरोपी की कस्टडी भी शामिल है। अब इसी ट्रीटी के तहत माल्या की वापसी होगी।
- हालांकि, यूके में एक्स्ट्राडीशन प्रॉसेस में कई स्टेप्स शामिल हैं। डिस्ट्रिक्ट जज की तरफ से जारी वॉरंट पर माल्या की गिरफ्तारी हुई थी। उन्हें शुरुआती सुनवाई के लिए जज के सामने पेश किया गया था। वहां से उन्हें जमानत मिल गई।
- माल्या को भारत भेजने का यूके की तरफ से आखिरी फैसला होने से पहले इसी कोर्ट में एक्स्ट्राडीशन हियरिंग हाेगी। माल्या के पास यूके की हायर कोर्ट में अपील करने का अधिकार होगा।
3) ब्रिटिश कोर्ट में साबित करना होगा अपराध, 7 फेज से गुजरना होगा
-ब्रिटेन की एक्स्ट्राडीशन प्रोसेस काफी उलझी हुई है। ब्रिटिश कानूनों के तहत अगर किसी शख्स की ब्रिटेन में संपत्ति है तो वह वहां बिना पासपोर्ट के भी रह सकता है। ऐसे में उसे भारत लाना आसान नहीं है। भारत को इन 7 फेज से गुजरना पड़ सकता है।
1.अब सीबीआई को ब्रिटिश कोर्ट में साबित करना होगा कि माल्या पर लगे आरोप ब्रिटेन के कानून के तहत भी अपराध हैं।
2.अगर आरोप साबित होते हैं तो ब्रिटिश कोर्ट उसके एक्स्ट्राडीशन का ऑर्डर दे सकता है।
3.अगर जांच एजेंसियां आरोप साबित नहीं कर सकीं तो एक्स्ट्राडीशन की उम्मीदों को झटका लग सकता है।
4.एक्स्ट्राडीशन सुनवाई के बाद आखिरी फैसला फॉरेन मिनिस्ट्री को करना होता है।
5.माल्या के पास मजिस्ट्रेट कोर्ट के फैसले को हायर कोर्ट में चुनौती देने का हक होगा।
6. लंदन कोर्ट यह भी तय करेगी कि क्या माल्या का एक्स्ट्राडीशन उनके ह्यूमन राइट्स का वॉयलेशन तो नहीं करता।
7.ऐेसे में माल्या को भारत लाने में भारतीय एजेंसी को कम से कम 10 से 12 महीने का समय लग सकता है।
4) कब से देश से बाहर हैं माल्या?
- 2 मार्च 2016 से ही माल्या लंदन में रह रहे हैं। इन्फोर्समेंट डायरेक्ट्रेट (ईडी) और सीबीआई को माल्या की तलाश थी। प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (PMLA) से जुड़े एक मामले में मुंबई की स्पेशल कोर्ट माल्या को भगोड़ा घोषित कर चुकी थी। माल्या का पासपोर्ट भी रद्द किया गया था।
- माल्या को गिरफ्तार करने के लिए ईडी ने कोर्ट में अर्जी लगाई थी।
5) माल्या पर कितना कर्ज?
- 31 जनवरी 2014 तक किंगफिशर एयरलाइंस पर बैंकों का 6,963 करोड़ रुपए बकाया था। इस कर्ज पर इंटरेस्ट के बाद माल्या की टोटल लायबिलिटी 9,000 करोड़ रुपए से ज्यादा हो चुकी है।
- सीबीआई ने 1000 से भी ज्‍यादा पेज की चार्जशीट में कहा कि किंगफिशर एयरलाइंस ने IDBI की तरफ से मिले 900 करोड़ रुपए के लोन में से 254 करोड़ रुपए का निजी इस्‍तेमाल किया।
- किंगफिशर एयरलाइंस अक्टूबर 2012 में बंद हो गई थी। दिसंबर 2014 में इसका फ्लाइंग परमिट भी कैंसल कर दिया गया।
- डेट रिकवरी ट्रिब्‍यूनल ने माल्या और उनकी कंपनियों UBHL, किंगफिशर फिनवेस्ट और किंगफिशर एयरलाइन्स से 11.5% प्रति साल की ब्याज दर से वसूली की प्रॉसेस शुरू करने की इजाजत दी थी।
6) बीजेपी ने कांग्रेस पर क्या उठाए थे सवाल?
- बीजेपी ने कहा था, ''माल्या को पहली बार 2004 और फिर 2008 में लोन दिया गया, जबकि उन्हें नॉन परफॉर्मिंग एसेट (NPA) डिक्लेयर कर दिया गया था। क्या डूबते जहाज (कांग्रेस) ने डूबती एयरलाइंस (माल्या की किंगफिशर) की मदद की थी? मनमोहन के कहने पर ही इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने माल्या पर सॉफ्ट रुख अपनाया और उनके अकाउंट भी फ्रीज नहीं किए गए।''
- बीजेपी के इन आरोपों को मनमोहन सिंह ने खारिज कर दिया था। उन्होंने कहा था, "मैंने जो किया वो पूरे भरोसे के साथ किया। देश का कोई कानून नहीं तोड़ा। ये तो बहुत आम बात है। वो लेटर मामूली कागज के टुकड़े से ज्यादा और कुछ नहीं है। सरकारों के पास ऐसे लेटर आते रहते हैं।"
7) माल्या की कितनी प्रॉपर्टी अटैच हो रही है?
माल्या की 4200 करोड़ रुपए की एसेट्स अटैच करने के ईडी के ऑर्डर को मुंबई की एक स्पेशल कोर्ट मंजूर कर चुकी है। इसमें माल्‍या और उनसे जुड़ी दूसरी कपंनियों के फ्लैट, फॉर्म हाउस, शेयर और एफडी शामिल हैं। ईडी ने पहले कहा था कि इन एसेट्स की मार्केट वैल्‍यू 6,630 करोड़ रुपए है। हालांकि इनकी बुक वैल्‍यू 4,234.84 करोड़ रह गई है।
8) ED का क्या है आरोप?
- ED का आरोप है कि माल्या ने क्रिमिनल कॉन्सपेरेसी के जरिए एसेट्स जुटाईं। एजेंसी के मुताबिक, माल्या ने किंगफिशर एयरलाइंस और यूनाइटेड ब्रेवरीज होल्डिंग्स के साथ मिलकर काॅन्सपेरेसी की और बैंकों की मिलीभगत के जरिए लोन हासिल किए। इस अमाउंट में से 4,930.34 करोड़ रुपए का अब तक पेमेंट नहीं किया गया है।
9) आरोपों पर क्या है माल्या का स्टैंड?
- माल्या बैंकों के साथ वन-टाइम सेटलमेंट करना चाहते हैं। उन्होंने मार्च में ट्वीट्स कर समझौते की बात कही थी। उन्होंने कहा था, "पब्लिक सेक्टर बैंकों में वन-टाइम सेटलमेंट की पॉलिसी होती है। सैकड़ों कर्जदारों ने इस तरह अपना मामला निपटाया है, तो मेरे मामले में इस तरह से केस सुलझाने से इनकार क्यों किया जा रहा है? मैंने सुप्रीम कोर्ट के सामने एक ऑफर रखा था, लेकिन बैंकों ने बिना कोई विचार किए ही उसे नकार दिया। मैं पूरी साफगोई से सेटलमेंट करने को तैयार हूं।’
10) बैंकों का माल्या पर कितना बकाया?
(पैसा करोड़ रुपए में)

एसबीआई-1600
पीएनबी-800
आईडीबीआई-800
बैंक ऑफ इंडिया- 650
यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया-430
सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया-410
यूको बैंक- 320
कॉर्पोरेशन बैंक-310
स्टेट बैंक ऑफ मैसूर-150
इंडियन ओवरसीज बैंक-140
फेडरल बैंक- 90
पंजाब एंड सिंध बैंक-60
एक्सिस बैंक-50
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: Three Hours After Being Arrested, Vijay Mallya Granted Bail- As It Happened
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।
 

Stories You May be Interested in

      More From National

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top