Home »National »Latest News »National» Army Chief General VK Singh's Write Letter To Prim

EXCLUSIVE आर्मी चीफ की पीएम को चिट्ठी- हमला हुआ तो बचाने की गारंटी नहीं

सैकत दत्ता/भास्कर/DNA | Mar 28, 2012, 13:58 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
EXCLUSIVE आर्मी चीफ की पीएम को चिट्ठी- हमला हुआ तो बचाने की गारंटी नहीं, national news in hindi, national news

upa_corruption_434नई दिल्ली.सेना प्रमुख जनरल वीके सिंह ने देश की सुरक्षा को खतरे में बताया है। उन्होंने इस बाबत प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को गोपनीय चिट्ठी लिखी है। पत्र में कहा गया है कि सेना के टैंक का गोला-बारूद खत्म हो चुका है। हवाई सुरक्षा के उपकरण अपनी ताकत खो चुके हैं। इतना ही नहीं पैदल सेना के पास हथियारों तक की कमी है।




31 मई को रिटायर होने जा रहे सेना प्रमुख जनरल सिंह उम्र विवाद के बाद 14 करोड़ रुपए की रिश्वत की पेशकश मामले से विवादों में हैं (पढ़ें विशेष संपादकीय)। जनरल सिंह ने सेना की खस्ता हालत के बारे में 12 मार्च को प्रधानमंत्री को पांच पन्ने की चिट्ठी लिखी। चिट्ठी मंगलवार को सामने आई है। सिंह ने पत्र में लिखा, ‘हमारे सभी प्रयासों और रक्षा मंत्रालय के निर्देशों के बावजूद तैयारियां नहीं दिख रही है। मैं यह सूचित करने को विवश हूं कि सेना की मौजूदा हालत संतोषजनक से कोसों दूर है। ‘खोखलेपन’ की स्थिति से बहुत ज्यादा स्पष्ट अंतर नहीं दिख रहा। हालांकि, सरकारने भी माना है कि सेना की तैयारियों में कमी है और वह इसे गंभीरता से ले रही है।



सेना की खामियां तुरंत दूर करने की जरूरत


दो विरोधी पड़ोसियों से देश की सुरक्षा सेना की क्षमताओं से जुड़ी है। इस वजह से सेना की खामियों को तत्काल प्रभाव से दूर करने की जरूरत है। देश के प्रमुख हथियारों की हालत भयावह है। इनमें मैकेनाइज्ड फोर्सेस, तोपखाने, हवाई सुरक्षा, पैदल सेना और विशेष फोर्सेस के साथ ही इंजीनियर्स और सिग्नल्स शामिल हैं।’



चिट्ठी में और भी कुछ मुद्दों को उठाया है, आईटीबीपी के संचालन का अधिकार सेना को चाहिए। सेना में हवाई बेड़े की जरूरतों को पूरा किया जाए। चीन उत्तरी सीमा पर बड़ी तेजी से विकास कार्य कर रहा है। ऐसे में राज्यों से सिंगल विंडो क्लीयरेंस के तहत बुनियादी विकास की अनुमति दिलवाई जाए। रक्षा विशेषज्ञ भी जनरल सिंह की चिंता से इत्तफाक रखते हैं। जनरल की चिट्ठी मीडिया में लीक होने से सियासी पाराभी चढ़ गया है।





जनरल सिंहके खत के मुताबिक सेना के पास हथियार और साज-ओ-सामान समेत कई चीजों की कमी है। खत में सेना के सामने मौजूद इन चुनौतियों का जिक्र किया गया है:


-दुश्मन को शिकस्त देने के लिए टैंक के बेड़े के पास गोला-बारूद खत्म होने के कगार पर।
-तोपखाने में फ्यूज नहीं, अल्ट्रा लाइट हॉवित्जर में खरीदी व कानूनी प्रक्रिया का अडंग़ा।
-हवाई सुरक्षा के 97 फीसदी उपकरण बेकार, हवाई हमले से बचाने का भरोसा नहीं।
-पैदल सेना के पास पर्याप्त हथियारों का अभाव, रात में लडऩे की क्षमता भी नहीं रही।
-विशेष फोर्सेस के पास जरूरी हथियार नहीं, युद्ध में काम आने वाले पैराशूट्स भी खत्म हुए।
-सेना की निगरानी में बड़े स्तर पर खामियां, यूएवी और निगरानी के लिए जरूरी रडार नहीं।
-एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल्स की मौजूदा उत्पादन क्षमता और उपलब्धता बेहद कम।
-लंबी दूरी तक मार करने वाले तोपखाने में वेक्टर्स (पिनाका व स्मर्च रॉकेट सिस्टम) का अभाव।





आपकी राय
क्या सेना प्रमुख की चिंता वास्तविक हालात को बयां करती है? या फिर इसे सरकार और उनके बीच खींचतान का नतीजा माना जाना चाहिए? इन मुद्दों पर अपनी संतुलित राय जाहिर कीजिए।

कल्‍पेश याग्निक: ये कैसे आदर्श पेश कर रहे हैं सेनाध्यक्ष?
विशेषज्ञों की प्रतिक्रियाएं : ‘1000% सच हैं जनरल के दावे’
सपा की नसीहत, कम बोलें जनरल वरना अमर सिंह जैसा होगा हाल
फांसी पर राजनीति: आज पंजाब बंद, दिल्‍ली में पाटिल से मिलेंगे बादल
सांसदों पर फिर हावी हुई टीम अन्‍ना, कहा- मांगने से नहीं मिलेगी इज्‍जत












Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
DBPL T20
Web Title: Army chief General VK Singh's write letter to Prim
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।
 

Stories You May be Interested in

      More From National

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top