Home »National »Latest News »National» Indian Army Will Fight Just With Morale

गोला-बारूद तो खत्म, अब सिर्फ हौसलों से लड़ेगी सेना!

bhaskar news | Mar 30, 2012, 11:58 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
गोला-बारूद तो खत्म, अब सिर्फ हौसलों से लड़ेगी सेना!, national news in hindi, national news

army_256_02नई दिल्ली. सेना प्रमुख द्वारा प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को 12 मार्च को लिखी गई चिट्ठी के लीक होने के बाद राजनीतिक माहौल गरम है। उनके खिलाफ खुलकर राजनीतिक दल सामने आ गए हैं और उनकी बर्खास्तगी की मांग भी कर रहे हैं।





आयुध की कमी से जूझ रही सेना के पास आधुनिक हथियारों की कमी की बात उन्होंने क्या की, वह सबके निशाने पर आ गए हैं। जानते हैं उन्होंने पीएम को लिखी चिट्ठी में किन बातों का उल्लेख किया। वर्तमान में सेना किन परिस्थितियों से जूझ रही है और भविष्य में उसके पास क्या संसाधन मौजूद होंगे।





सिर्फ हौसलों से लड़ेगी सेना!





सेना प्रमुख वीके सिंह ने प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में सेना की कमजोरियों का खुलासा किया है। बकौल सिंह सेना के पास पुराने किस्म के हथियार हैं और उसका एयर डिफेंस काफी कमजोर है। यानी यदि यह कहा जाए कि युद्ध की स्थिति में सेना लडऩे के लिए जवानों के हौसले पर निर्भर होगी तो गलत नहीं होगा।





प्रमुख लड़ाकू हथियार जैसे आर्टिलरी, एयरडिफेंस, इन्फेंट्री और स्पेशल फोर्सेस, इंजीनियर्स आदि की सेना में स्थिति चिंताजनक है। बड़े पैमाने पर रात में लडऩे वाले हथियारों की कमी है। ऑर्डिनेंस फैक्ट्री में होने वाले काम, जिसमें वेपन सिस्टम और अन्य युद्धक सामानों का उत्पादन होता है, उसकी गुणवत्ता ठीक नहीं है।





निशाने पर सेना प्रमुख





प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को लिखी गई आर्मी चीफ वीके सिंह की चिट्ठी ने देश की सियासत को गर्मा दिया है। सरकार के साथ-साथ विपक्ष की कई पार्टियों ने भी जनरल के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। रक्षा मंत्री एके एंटनी का इस संबंध में कहना है कि सरकार देश की सुरक्षा को सर्वोच्च प्राथमिकता दे रही है।





समाजवादी पार्टी, राष्ट्रीय जनता दल, बीजेडी, जेडीयू ने सरकार से रक्षा मंत्री के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है। आरजेडी के लालू प्रसाद यादव ने कहा कि सेना प्रमुख चुनाव लडऩा चाहते हैं, इसीलिए ऐसा कर रहे हैं।





वहीं, बीजेपी अब भी जनरल की बर्खास्तगी के खिलाफ है। सिंह पर आरोप है कि वह इससे पहले अपने आयु वाले मुद्दे पर भी रक्षा मंत्री की जगह प्रधानमंत्री को चिट्ठी लिखकर अनुशासनहीनता कर चुके हैं। इससे पूर्व अनुशासनहीनता के मामले में एडमिरल भागवत को सेना निष्काषित किया गया है।



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: indian Army will fight just with Morale
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।
 

Stories You May be Interested in

      More From National

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top