बंद होने के कगार पर इंटरनेट कारोबार

रक्षित सिंह | Jan 05, 2013, 10:03 IST

नई दिल्ली।देश में भले ही इंटरनेट ग्राहकों की संख्या में तेजी के साथ इजाफा हो रहा है, लेकिन देश में इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर्स (आईएसपी) की संख्या में तेजी के साथ गिरावट आ रही है। अभी तक देश में 900 इंटरनेट कंपनियों को लाइसेंस दिए गए हैं जिनमें से फिलहाल सिर्फ 150 कंपनियां इंटरनेट सेवाएं दे रही हैं। यही नहीं, वर्ष 2015 तक इन 150 कंपनियों में से भी 60-70 फीसदी कंपनियां अपने लाइसेंस सरेंडर कर सकती हैं या फिर कारोबार बंद कर सकती हैं।
इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर्स का कहना है कि नई टेलीकॉम नीति 2012 के तहत 15 करोड़ रुपये की लाइसेंस फीस तय की गई है। इन कंपनियों का कहना है कि 15 करोड़ रुपये की लाइसेंस फीस चुकाने के बाद कंपनियों के सामने बिजनेस की गुंजाइश नहीं बचती है। लिहाजा जिन कंपनियों के लाइसेंस 2015 में एक्सपायर हो रहे हैं, वे कंपनियां अपने लाइसेंस रिन्यू नहीं करवाएंगी।
इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (आईएसपीएआई) के प्रेसिडेंट राजेश छरिया ने ‘बिजनेस भास्कर’ को बताया कि मौजूदा समय में देश भर में सिर्फ 150 कंपनियां ऐसी हैं जिनके पास इंटरनेट सेवाएं देने का लाइसेंस बचा है। अभी तक 900 से ज्यादा कंपनियों ने लाइसेंस लिए थे। लेकिन, सरकार की नीति मोबाइल सेवा प्रदाता कंपनियों की तरफ ही झुकी रही।
लिहाजा, कंपनियों ने इस कारोबार से हाथ खींचना शुरू कर दिया। उन्होंने बताया कि 150 लाइसेंस जिन कंपनियों के पास हैं उनमें से 60-70 फीसदी लाइसेंस 2015 में एक्सपायर हो रहे हैं। सरकार ने लाइसेंस फीस में कमी जैसे कदम नहीं उठाए तो कंपनियां लाइसेंस रिन्यू नहीं कराएंगी। इस तरह देश में इंटरनेट कंपनियों का कारोबार पूरी तरह से बंद होने के कगार पर होगा।
एक अन्य कंपनी के एक अधिकारी ने बताया कि सरकार ने इंटरनेट टेलीफोनी को बढ़ावा न देकर सबसे बड़ी गलती की है। इंटरनेट कंपनियों पर कई अन्य पाबंदी भी है। लिहाजा, इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर्स काफी बढ़ ही नहीं पाए। सरकार ने देशव्यापी लाइसेंस फीस 15 करोड़ रुपये तय कर दी है। ऐसे में जो कंपनियां मौजूद हैं वह भी हाथ खींच लेंगी। इस तरह देश में इंटरनेट कंपनियों का कारोबार पूरी तरह से बंद हो सकता है।

आज की प्रमुख खबरों पर एक नजर:

'दामिनी'के साथ क्‍या हुआ था उस रात,साथ रहे दोस्‍त ने सुनाई दिल दहला देने वाली आंखों देखी

टीम इंडिया की 5बीमारी और इलाज के 5नुस्‍खे

टीम इंडिया में आपसी दरार

जानलेवा ठंड,जमा राजस्‍थान

सोनिया पर वायुसेना के विमान का गलत इस्‍तेमाल करने का आरोप

नहीं रुक रहे रेप

PHOTOSजरा हट के:डिलीवरी के दौरान बच्‍ची ने पकड़ी डॉक्‍टर की अंगुली

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: internet
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।
 

Stories You May be Interested in

      More From National

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top