Home »National »Latest News »National» Know About Ratan Tata

रतन टाटा को चार बार हुआ प्‍यार, अमेरिका के साथ छुटी गर्लफ्रेंड

dainikbhaskar.com | Dec 28, 2012, 07:52 IST

  • 21 साल पहले जब जेआरडी टाटा ने रतन टाटा को टाटा संस का चेयरमैन नियुक्तकिया तो उनसे पूछा गया कि क्या आपने रतन को उनकी सत्यनिष्ठा की वजह से अपना उत्तराधिकारी चुना, तो जेआरडी ने कहा, ऐसा कहेंगे तो दूसरे उम्मीदवारों की सत्यनिष्ठा पर सवालिया निशान लग जाएगा। असल बात यह है कि वह बहुत हद तक मेरी तरह है। जेआरडी की यह बात रतन टाटा ने सही साबित की और टाटा ग्रुप को नई ऊंचाइयां दी। उनके उत्तराधिकारी साइरस मिस्त्री के लिए इसे कायम रखना एक बड़ी चुनौती होगी।
    चार बार हुआ प्यार
    आमतौर पर कम बोलने वाले टाटा ने अपनी जिंदगी का एक खास सच दो साल पहले एक अंतरराष्ट्रीय न्यूज चैनल को बताया। यह सच था प्यार और शादी से जुड़ा। बैचलर इंडस्ट्रियलिस्ट ने खुलासा किया कि किसी भी युवा की तरह उन्हें भी सीरियसली प्यार हुआ था, वह भी चार बार। टाटा के मुताबिक चारों बार बात विवाह तक भी पहुंची, लेकिन हर बार सोचने विचारने पर यही बात जेहन में आई कि अविवाहित रहना भी कोई बुरी बात नहीं है। इस तरह मैंने कई पेचीदगियों से खुद को बचा लिया।
    अमेरिका छूटा तो प्रेयसी भी
    टाटा के मुताबिक इनमें से एक अफेयर तो काफी सीरियस था। मैं अमेरिका में काम कर रहा था लेकिन मेरे भारत आने के फैसले के कारण रिश्ता शादी में तब्दील नहीं हो पाया। दरअसल उस वक्त भारत-चीन युद्ध शुरू हो गया था और अमेरिका में माना जा रहा था कि पूरा देश इस युद्ध की गिरफ्त में है। मेरी प्रेमिका भी इसी के चलते मेरे साथ भारत नहीं आई। बाद में उसने वहीं शादी कर ली।
  • रिटायरमेंट के बाद रतन टाटा जनकल्याणकारी और परोपकारी सेवा में पूरी तरह समर्पित होने जा रहे हैं। वे टाटा ट्रस्ट्स के चेयरमैन बने रहेंगे, जो इस क्षेत्र में पहले से ही काम कर रही है। ऐसे आसार हैं कि वे बिल गेट्स के साथ इस क्षेत्र में पार्टनरशिप भी कर सकते हैं। उन्होंने न्यूयॉर्क में प्रतिष्ठित रॉकफेलर फाउंडेशन के लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड के दौरान सबसे पहले यह संकेत दिया था कि वे कल्याणकारी कार्यों की ओर अपना ध्यान देने जा रहे हैं। जिन क्षेत्रों में टाटा काम करेंगे उनमें पानी मुख्य है। इसके अलावा, ग्रामीण क्षेत्र में जरूरी सुविधाएं और पोषाहार पर भी उनका फोकस रहेगा।

  • मां पहले, बाकी सब बाद में
    रतन टाटा की सबसे बड़ी उपलब्धि यह है कि उन्होंने ग्रुप को एक सूत्र में बांधे रखा। मैं उनसे सबसे पहले 1979 में मिला जब मैं अपनी पुस्तक क्रिएशन ऑफ वैल्थ: द टाटा स्टोरी पर काम कर रहा था। अस्सी के दशक में जब वे टाटा इंडस्ट्रीज के प्रमुख बनाए गए तब अचानक पता चला कि उनकी मां को कैंसर है। ये उनके सबसे मुश्किल दिन थे। एक तरफ कॅरिअर का बड़ा अवसर था और दूसरी और उनकी मां अमेरिका के अस्पताल में भर्ती थी।
    अपनी प्राथमिकताओं को हमेशा सही रखने में माहिर रतन ने ऐसे दौर में मां के साथ रहने का फैसला किया और तीन महीने अमेरिका रहकर मां को संभाला। इसे याद करते हुए उन्होंने कहा था- आखिरकार, मां तो सिर्फ एक ही होती है। इन तीन माह में मां के बिस्तर के पास बैठकर रतन टाटा ने ग्रुप की भावी रणनीति का खाका तैयार किया।
    ग्रुप कंपनियों में उनका पहला प्यार टाटा मोटर्स रही है और दूसरा प्लेन। अपने कॅरिअर के अंतिम चरण में उन्हें यह संतोष जरूर रहेगा वे जेआरडी टाटा की उम्मीदों पर खरे उतरे।

  • अच्छे पायलट
    रतन टाटा मुंबई के कोलाबा में फ्लैट में रहते हैं जो किताबों से भरा है। कारों और एरोप्लेन्स में उनकी खासी रुचि है। उनके पास 8-9 कारें हैं जिनमें क्रिसलर सेबरिंग, लैंड रोवर फ्रीलैंडर और इंडिगो मरीना शामिल हैं। वहीं, रतन ने अपनी पहली सोलो फ्लाइट 17 की उम्र में उड़ाई वे अब भी फेल्कन 2000 उड़ाते हैं। उन्होंने विश्व प्रसिद्ध एफ-16 व एफ/ए- 18 फाइटर प्लेन भी उड़ाए हैं। स्विमिंग व स्कूबा डाइविंग भी उन्हें काफी पसंद हैं।
  • हाई स्पिरिट्स, पर शर्मीले
    रतन कभी कार चलाते तो कभी हेलिकॉप्टर-विमान उड़ाते नजर आए। उन्होंने जो किया, गर्मजोशी से किया। उनके चहेतों की तादाद बड़ी है लेकिन उनकी निजी जिंदगी के बारे में उनके नजदीकी लोग व दोस्त भी कम ही जानते हैं।
  • दादी की एंटीक कार
    जुलाई 2010 में रतन अपने कोलाबा के केंपियन स्कूल के पुराने छात्रों के एसोसिएशन के 50 साल पूरे होने के समारोह में शरीक हुए। उन्होंने स्कूली दिनों को याद करते हुए एक वाकया बताया कि उनकी दादी के पास एक एंटीक और काफी बड़ी रोल्स रॉयस कार थी जिसे वे रतन टाटा व उनके भाई को स्कूल से लाने के लिए कभी-कभी भेज दिया करती थीं। दोनों भाई उस पुरानी कार में बैठने से बचते थे और पैदल ही घर की ओर चल देते थे।

  • बड़े फैसले से पहले टीटो, टैंगो का साथ पसंद
    जब भी रतन टाटा को ग्रुप के बारे में अहम फैसला लेना होता था तो वे मुंबई में समंदर किनारे के अपने घर के बाहर टीटो और टैंगो के साथ घूमने निकल जाते।

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: know about Ratan tata
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From National

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top