Home »National »Latest News »National» Mi-17 Combat Helicopter Now Funtional In Airforce

अब की नापाक हरकत तो, छक्के छुड़ाने को तैयार एयरफोर्स का ये फाइटर

Daimik bhaskar.com | Jan 08, 2013, 12:07 IST

  • सीमा पर पाक ने अब कोई नापाक हरकत की तो उसे और करारा सबक सिखाने को तैयारी कर ली गई है। जैसलमेर से सटी अंतरराष्ट्रीय सीमा से लगभग 100 किलोमीटर दूर करीब तीन साल पहले अस्तित्व में आए फलौदी एयरबेस को अब पूरी तरह से ऑपरेशनल कर दिया है। यहां सोमवार को 15 आधुनिकतम एमआई-17 वी 5 हेलीकॉप्टर तैनात कर दिए गए। अब यहां तैनात ये अत्याधुनिक युद्धक हेलीकॉप्टर किसी भी मौसम में दुश्मन को सबक सिखा सकेंगे।
    इन युद्धक हेलीकॉप्टर्स में क्या है खास जो दुश्मनों के छक्के छुड़ाने की क्षमता रखता है जानने के लिए क्लिक करें आगे की तस्वीरें...
  • एमआई17-वी 5 अत्याधुनिक लड़ाकू हेलीकॉप्टर है जो किसी भी भौगोलिक स्थिति में दुश्मन को नेस्तनाबूद करने में सक्षम है। यह वायुसेना का ऐसा पहला हेलीकॉप्टर है, जिसमें ऑल वेदर राडार के साथ रात के समय भी उड़ने में सक्षम बनाने वाले नाइट विजन गोगल्स और ऑटो पायलट की सुविधा है। इससे दूरवर्ती एवं पर्वतीय इलाकों में सैनिकों की आवाजाही और आपूर्ति सुगम होगी।
  • वायु सेना ने रूस से खरीदे इनको बीते साल फरवरी में वायुसेना में शामिल किया था। ऎसे 80 हेलीकॉप्टरों को 2008 में 1.34 अरब डॉलर में खरीदा गया था जिनकी आपूर्ति सितम्बर 2011 में शुरू हुई और इसके बाद उनका परीक्षण चल रहा था। इनका इस्तेमाल 22 फरवरी को पोकरण में होने वाले युद्धाभ्यास ‘आयरन फीस्ट’ व मार्च में प्रस्तावित एक्सरसाइज ‘लाइव वायर’ में होगा।

  • एमआई-17 वी-5 को सामान ढोने एवं 36 यात्रियों या चार टन वजन ढोने के लिए भी तैयार किया गया है। मशीन में उन्नत बहु उपयोगी कॉकपिट एवं उन्नत टीवी 3-117 वीएम इंजन लगाया गया है। हेलीकॉप्टरों का निर्माण रूस के कजान हेलीकॉप्टर फैक्टरी की सहयोगी कंपनी ने किया है।

  • 2015 तक तेजस भी
    वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल एनएके ब्राउन ने बताया कि स्वदेशी तकनीक से तैयार लड़ाकू विमान तेजस की वर्ष 2015 तक सेना में यूनिट तैनात की जा सकेगी। इस साल फरवरी और अप्रैल माह में होने वाले युद्धाभ्यासों में तेजस पहली बार भाग लेगा।
  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: Mi-17 Combat Helicopter now funtional in airforce
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From National

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top