Home »National »Latest News »National» The Job Of Changing Prices Are Low.

PICS: आप नौकरी करते हैं तो ये खबर आपके लिए जरूरी है

bhaskar news | Nov 18, 2012, 04:19 IST

  • ऑफिस में आठ-दस घंटे से ज्यादा समय बिताने का मतलब है कि आप अपने टाइम को सही तरीके से मैनेज करने में असफल हैं। ऑफिस में कम से कम समय बिताकर ज्यादा से ज्यादा आउटपुट देने का प्रयास करें। इससे आपके काम करने की काबिलियत का पता चलेगा। हार्वर्ड बिजनेस रिव्यू ने टाइम मैनेजमेंट पर अधिक जानकारी दी है। समझ लेते हैं..

    नौकरी बदलते रहने से कीमत कम होती है
    मंदी के दौर में कोई भी व्यक्ति नौकरी नहीं छोड़ना चाहता। जाहिर सी बात है कि आप बेरोजगार होंगे तो अपने पालन-पोषण के लिए कोई भी नौकरी करना चाहेंगे। लेकिन इसमें कु छ खतरे हो सकते हैं जैसे कि आपके विभाग बदलने पर दूसरे कर्मचारी आपको नए किरदार में अपनाने से कतराएंगे। हो सकता है कि आपके बार-बार नौकरी बदलने पर कोई आपको गंभीरता से न लें। उन्हें लगे कि आपकी परफॉर्मेंस खराब है और आप कहीं किसी एक जगह टिक नहीं सकते हैं। अगर जल्दबाजी में आप कोई गलत निर्णय ले लेते हैं तो आप अपना और खुद से जुड़े लोगों का भविष्य बिगाड़ सकते हैं। (स्रोत- ‘शुड यू टर्न डाउन अ जॉब इन दिस इकोनॉमी’बाय बिल बारनेट)
    चलिए आगे तस्वीरों के जरिए हम बताते हैं कि ऑफिस में किन बातों पर पूरा फोकस करें। रेज्यूम के आधार पर आप ये ना करें।

  • कंपनी के लिए नए किस्से-कहानियां बनाएं
    बहुत बार आपने कंपनी में लोगों को कहते सुना होगा कि ‘हम इस काम को इसी तरह से करते थे’। इस तरह की बातें सुन कर प्रभावित होने के बजाय बदलाव लाने जैसा महसूस होता है। लोगों को अंकों से ज्यादा कहानियां याद रहती हैं। अगर उन्हें सही तरीके से सुनाई जाएं तो सकारात्मक बदलाव लाए जा सकते हैं। आप अपने संस्थान में बदलाव लाना चाहते हैं तो जो कहानियां आपने अपनी कंपनी के बारे में सुनी हैं उन्हें चुनौती की तरह लें। कंपनी के लिए नई कहानियां बनाएं तो वे पहले वाली से ज्यादा सकारात्मक हों। इन किस्से-कहानियों को सुनकर कर्मचारी प्रभावित हो सकें और सफलता की ओर बढ़ने की कोशिश करें। इन किस्से-कहानियों को दूसरों के साथ बांटे भी।
    (स्रोत- ‘इफ यू डोंट लाइक यॉर फ्यूचर, रिराइट यॉर पास्ट’ बाय रेजाबेथ मॉस कैंटर)

  • ऑफिस में टाइम मैनेजमेंट
    के लिए ये करें
    आपके लिए क्या ज्यादा जरूरी है- आप कितने समय तक काम करते हैं या नतीजे अच्छे निकलें? कोई भी समझदार मैनेजर पहला वाला जवाब देगा। लेकिन फिर भी लोग काम में ज्यादा समय बिताते हैं। अगर आप अपना टाइम मैनेज करना चाहते हैं या परफॉर्मेस को बेहतर बनाना चाहते हैं तो ये करें-
    अगर आप कहीं नहीं जाना चाहते तो निमंत्रण पत्र स्वीकार न करें। दूसरे व्यक्ति को अपने काम के दबाव के बारे में बताएं और उसे मीटिंग मिनट दिखाने को कहें।
    ञ्चहर मीटिंग की तरफ ध्यान न दें। केवल उन्हीं मीटिंग पर फोकस करें जो बेहद जरूरी हैं।
    ञ्चकिसी को ‘न’ बोलने के लिए सिर्फ थोड़े से अतिरिक्त प्रयास करने की जरूरत है। बिना किसी झिझक या नतीजे के वही करें जो ठीक है।
    (स्रोत- ‘स्टॉप वर्किग ऑल दोज़ ऑव्र्स’ बाय रॉबर्ट सी. पोजन)

  • ऑडियंस को प्रोत्साहित करने वाली प्रजेंटेशन दें
    अच्छी प्रेजेंटेशन देना अलग बात है और कमरे में उपस्थित लोगों को कुछ करने के लिए प्रोत्साहित करना दूसरी बात है। अगर आप अच्छी प्रजेंटेशन देना चाहते हैं तो देख लें कि कमरे में मौजूद लोगों में कौन सी ऐसी बात है जो एक जैसी है। उसी के आधार पर प्रजेंटेशन तैयार करें। लोगों के रुझान, अनुभव और चुनौतियों के बारे में प्रजेंटेशन में बात करें जिससे लोग जुड़ सकें। ज्यादा ऑडियंस में ऐसा करना मुश्किल होगा। ऐसे में थोड़ी ज्यादा मेहनत करने की जरूरत पड़ेगी लेकिन एक बार अगर आप इस बात को समझ जाएंगे तो आपको इसके सकारात्मक नतीजे मिलेंगे।
    (स्रोत- हार्वर्ड बिजनेस रिव्यूज ‘गाइड टु परसुवेसिव प्रजेंटेशन’)

  • रिज्यूमे के आधार पर नए सदस्यों का चुनाव न करें
    बहुत बार कंपनियों को अपने कर्मचारियों के खराब व्यवहार के कारण शर्मिदा होना पड़ता है। जरूरी नहीं कि वे चोरी करें या झूठ बोलें लेकिन वे अपनी गलत आदतों से भी परेशानी का सबब बन सकते हैं। आप इन तरीकों से अपने लिए सही कर्मचारी का चुनाव कर सकते हैं-
    ञ्चकर्मचारी के रिज्यूमे की तरफ ध्यान देने के बजाय उसके बैकग्राउंड को जानें। इसके लिए कुछ कंपनियां बिहेवियर कंडक्ट टेस्ट लेती हैं।
    ञ्चअक्सर लोग वे काम नहीं करते जो आप उन्हें करने को कहते हैं। वे उसी काम को करना पसंद करते हैं, जिनके उन्हेंपैसे मिलते हैं। इसलिए परफॉर्मेस मेजरमेंट और इंक्रीमेंट साइकिल की तरफ ध्यान दें कि कहीं उससे कर्मचारियों को नुकसान तो नहीं पहुंच रहा।
    (स्रोत- ‘रूल्स फॉर मैनेजिंग रिस्की एम्प्लाइज’ बाय जेम्स लैम. )

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: The job of changing prices are low.
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From National

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top