» InfiniMagazine-Mahatria Ra-InfiniMagazine- 26-April-2014

हमेशा ध्यान रखें ये नियम वरना टाइमपास बनकर रह जाएंगी सारी बातें

रामरत्नम | Apr 26, 2014, 00:05 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स

गुरु की बात सुनने के दौरान ज्यादा से ज्यादा फायदा लेने के लिए आदर और सम्मान होना जरूरी है। यह सबसे महत्वपूर्ण है। अन्यथा जो कहा जा रहा है,उसमें खामियां ढूंढने की कोशिश की गई तो वह महज टाइमपास बनकर रह जाएगा। उद्देश्य सीखकर आगे बढ़ना है,अपने आपको गुरु से बेहतर साबित करना नहीं है।

कोई भी मनुष्य संपूर्ण जन्म नहीं लेता। वह खुद विकसित होता है। प्रकृति उसे अपने प्रयासों से विकसित होने का मौका देती है। उसके पास तीन विकल्प होते हैं- प्रकृति ने उसे जहां छोड़ा वहां से आगे विकास करना, जैसा जन्म लिया था वैसा ही जीवन जीना या अपने आप को कमतर या खराब करते जाना।

अपनी पूर्ण क्षमता हासिल करने के लिए व्यक्ति को गुरु की आवश्यकता होती है। इसी वजह से हमारी परंपरा में गुरु-शिष्य रिश्तों को बहुत महत्व दिया गया है। पवित्र ज्ञान हमेशा मुंह से संचारित होता आया है, कदाचित उसे अपरिपक्व दिमाग गलत समझ लेता है या गलत अमल में लाता है। जीवित गुरु से सुना ज्ञान पढ़े हुए ज्ञान से हमेशा अलग होता है। यदि वह जिंदगी का ज्ञान है तो और भी महत्व बढ़ जाता है। जब गुरु बोलता है तो उसके शब्दों में उसकी चेतनता शामिल होती है। हम न सिर्फ उसके बोले गए शब्दों को समझते हैं, बल्कि उसकी बॉडी लैंग्वेज की भावनाएं भी ग्रहण करते हैं। यह अचेतन सीख साथ-साथ मिलती जाती है। गुरु के प्रति हमारे सम्मान की वजह से उसके शब्दों का हमारे लिए महत्व खास हो जाता है। उसका हमारे चरित्र और व्यवहार पर गहरा असर होता है। हर बात पढऩे से नहीं सीखी जा सकती। मनुष्य तत्व का होना बेहद शक्तिशाली हो जाता है। कुछ बातें ऐसी होती हैं जो किसी मनुष्य की मौजूदगी में ही हमें समझ आती है। ताकतवर संबोधन किसी व्यक्ति को हिलाकर रख सकता है, जो कोई और नहीं कर सकता। बुद्धिज्म पर किताब पढ़ना अलग बात है और बुद्ध को कुछ कहते सुनना बेहद अलग बात है।

हम जिंदगी को शब्दों और भाषा की स्क्रीन के जरिए देखते हैं। पूर्वाग्रही विचार और धारणाएं अक्सर हमें अनुभवों को उस शक्ल में देखने से रोकती है जो हमें खुशी दे सकते हैं। जिंदगी का मतलब हमारे लिए क्या है, यह बात शब्दों के तौर पर हमारे शरीर में जमी हुई है। गुरु अपने स्फूर्तिदायक और उत्तेजना लाने वाले शब्दों के जरिए हमें नई शब्दावली देते हैं। वह हमें नई राह दिखाते हैं, जिससे हम जिंदगी को एक स्वस्थ नजरिए से देख सकते हैं। उनके शब्दों की ताकत में बदल देने वाला प्रभाव होता है। गुरु के शब्दों में अपनी ताकत होती है क्योंकि वह अपने शब्दों के प्रति सच्चे होते हैं और वह ही सही मायनों में शब्द होते हैं।

महात्रया रा-

महात्रया रा आध्‍यात्‍मिक गुरु हैं। वे देश-विदेश में अपने आध्‍यात्‍मिक व्‍याख्‍यानों के माध्‍यम से लोगों को सेल्‍फ रिएलाइजेशन के लिए मार्गदर्शित करते हैं। उनके प्रभावी संदेश व्‍यक्‍ति की नकारात्‍मक ऊर्जा को सकारात्‍मक ऊर्जा में परिवर्तित करके जीवन की दिशा बदल देते हैं। उनके व्‍याख्‍यान सुनकर कई प्रसिद्ध हस्‍तियां, बिजनेसमैन, स्‍पोट़र्समैन और स्‍टूडेंट़स अपनी आंतरिक ऊर्जा की मदद से नई ऊंचाइयां प्राप्‍त कर चुके हैं। महात्रया रा जीवन जीने का एक नया रास्‍ता बताते हैं – ‘इंफीनीथीज्‍म’, जिसके माध्‍यम से मनुष्‍य को अपनी असीम क्षमता का अहसास हो सकता है।
इंफीनीमैग्‍जीन-
इंफीनीमैग्‍जीन प्रेरक कहानियों, उद्धरणों, विकासोन्मुख पोस्टरों और महान व्यक्तियों के विचारों से बनी है। दुनिया पर अमिट छाप छोड़ने वाले अलग-अलग पृष्ठभूमि के महान लोगों और बिना कुछ बोले विपरीत हालात में महान ऊंचाइयां छूने वाले लोगों पर नियमित कॉलम्स हैं। यह मैग्‍जीन पाठकों को विपरीत हालात से जूझने के लिए प्रेरित करती है। इंफीनीमैग्‍जीन के माध्‍यम से महात्रया रा लोगों को अपनी पूरी क्षमता और वह ऊंचाइयां हासिल करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं, जहां तक वे अधिकारपूर्वक पहुंच सकते हैं। http://infinimagazine.com/
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: infiniMagazine-Mahatria Ra-infiniMagazine- 26-april-2014
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top