Home »Rajasthan »Ajmer» Doctors Did Something That Was Going To Sleep The Whole Family!

डॉक्टर्स ने किया कुछ ऐसा कि उड़ गई पूरे परिवार की नींद!

Bhaskar News | Jan 10, 2013, 00:19 IST

  • श्रीगंगानगर/अजमेर.‘वर्ष 2009 में मेरे बेटे के साथ अन्याय हुआ। अच्छा-भला होने के बावजूद दो डॉक्टरों ने उसके हार्ट में लीकेज बता दिया। जो मेरे साथ हुआ, यह किसी और पिता के साथ न हो। यही सोचकर दोनों डॉक्टरों की राज्य सरकार, मानवाधिकार आयोग, राजस्थान मेडिकल कौंसिल, इंडियन मेडिकल कौंसिल व जिला प्रशासन से शिकायत की। तीन साल बीत गए, न आज तक जांच पूरी हुई और न ही दोषियों के खिलाफ कोई कार्रवाई हुई।अब तो मेरा न्याय से भरोसा ही उठ गया है। कभी-कभी दिल में आता है शिकायतों और पूरी फाइल को आग ही लगा दूं।’
    यह दर्द है गजसिंहपुर के श्रवण पूनिया का। उस पिता का, जो अपने बेटे को इंसाफ दिलाने के लिए तीन साल में दर्जनों बार श्रीगंगानगर व जयपुर तक गया लेकिन इंसाफ अब भी कोसों दूर है। बहरहाल, अब इस पिता की गुहार पर मानवाधिकार आयोग ने फिर मामले की जांच शुरू कराई है। इसके लिए प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग का तीन सदस्यीय बोर्ड भी गठित किया गया है।श्रवण पूनिया ने ‘भास्कर’ को बताया कि बेटे आकाश की हृदय की गलत रिपोर्ट तैयार करने के आरोप में उसने डॉ.श्यामसुंदर टांटिया व डॉ.विवेक करीर की शिकायत की थी।
    सरकार के आदेश पर सीएमएचओ व पीएमओ ने मामले की जांच की। दोनों ने महीनों जांच करने के बाद डॉक्टरों की कमी मानी लेकिन जांच में कई खामियां भी छोड़ दी। डॉ.टांटिया ने तो बार-बार पत्र लिखे जाने के बावजूद जांच में सहयोग तक नहीं किया। लिहाजा दोनों डॉक्टरों पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। अब उसने दोबारा मानवाधिकार आयोग को शिकायत की, जिस पर मामले की फिर जांच शुरू की गई। पूनिया के मुताबिक, न्याय में देरी का असर यह हुआ कि डॉ.टांटिया का निधन हो चुका है और डॉ.विवेक करीर श्रीगंगानगर छोड़ चुका है और अब पंजाब में प्रेक्टिस कर रहा है।
    आगे की स्लाइड्स में जानिए, क्या हुआ आकाश के साथ>>>
  • दिल में घबराहट, जांच में बताया लीकेज
    स्कूल में धावक आकाश पूनिया को वर्ष 2009 में घबराहट हुई। रायसिंहनगर के फिजीशियन की सलाह पर उसने पिता श्रवण पूनिया के साथ 13 अक्टूबर 2009 को टांटिया अस्पताल से ईको-कार्डियोग्राफी कराई। यहां डॉ.विवेक करीर ने ईको करने के बाद आकाश के दिल की एक नाड़ी छोटी और लीकेज बताया। डॉ.श्यामसुंदर टांटिया ने तुरंत ऑपरेशन की सलाह दी और ऑपरेशन का डेढ़ लाख रुपए खर्च बताया।
  • जयपुर में दो बार जांच, बताया भला-चंगा
    डॉ.करीर की रिपोर्ट के साथ श्रवण पूनिया 15 अक्टूबर 09 को दो-तीन लाख का इंतजाम करके जयपुर फोर्टिस अस्पताल पहुंचा। वहां डॉ.जितेंद्र मक्कड़ ने आकाश का दोबारा ईको किया, फिर दिल का इलेक्ट्रिक फिजियोथैरेपी टेस्ट किया। दोनों बार दिल में कोई समस्या नहीं आई। तीसरी जांच जयपुर के हार्ट इंस्टीट्यूट से कराई। वहां भी उसे भला-चंगा बताया गया।
  • तीन दिन आंखों में बिताई रात
    13 अक्टूबर 09 को आकाश के दिल में लीकेज बताया तो जैसे आंखों से नींद गायब हो गई। 15 को उसके नॉर्मल होने का पता लगा। इन तीन दिनों में पूनिया परिवार का पल-पल बड़ा भारी गुजरा। पूरा घर परेशान था। सब भगवान से दुआ कर रहे थे कि आकाश ठीक हो जाए।
  • ..और अब आकाश
    अब आकाश जयपुर के एक कॉलेज में बीकॉम की पढ़ाई कर रहा है। आकाश दौड़ता भी है और खेलता भी।
    (जैसा कि श्रवण पूनिया ने ‘भास्कर’ को बताया।)
  • अब बोर्ड करेगा मामले की जांच
    मानवाधिकार आयोग के निर्देश पर प्रशासन ने आकाश पूनिया के हृदय की गलत रिपोर्ट तैयार करने के मामले की बोर्ड से जांच कराने का निर्णय लिया है। इसके लिए एडीएम सिटी उम्मेदसिंह, सीएमएचओ डॉ.एचएस बराड़ व पीएमओ डॉ.एसके पाटनी का बोर्ड गठित किया गया है। बोर्ड ने पूनिया को 10 जनवरी को बयान देने के लिए बुलाया है।
  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: Doctors did something that was going to sleep the whole family!
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Ajmer

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top