Home »Rajasthan »Bharatpur » ये है असली चिड़ियाघर...

ये है असली चिड़ियाघर...

Bhaskar News Network | Oct 19, 2016, 02:15 AM IST

ये है असली चिड़ियाघर...
गुजरात : ईला भट्‌ट बनीं साबरमती आश्रम की चेयरमैन

नासा का दावा, 136 सालों में सितंबर 2016 सर्वाधिक गर्म

फ्री वाई-फाई के इस्तेमाल में पटना स्टेशन अव्वल, पर लोग सबसे ज्यादा देख रहे पोर्न

कुल136 वर्ष में सर्वाधिक गर्म इस साल सितंबर का महीना रहा। नासा का कहना है कि सितंबर 2016 ने सर्वाधिक तापमान का नया रिकॉर्ड बनाया है जब इसके तापमान में वर्ष 2014 के सर्वाधिक गर्म सितंबर माह की तुलना में 0.004 डिग्री सेल्सियस की वृद्धि दर्ज की गई।नासा के गोडार्ड इन्स्टीट्यूट फॉर स्पेस स्टडीज (जीआईएसएस) के वैज्ञानिकों ने वैश्विक तापमान का मासिक विश्लेषण करने के बाद यह बताया है। तापमान में वृद्धि हालांकि मामूली है। वर्ष 1951 से 1980 के दौरान सितंबर माह के औसत तापमान की तुलना में सितंबर 2016 का तापमान 0.91 डिग्री सेल्सियस अधिक था। गर्म सितंबर का मतलब है कि पिछले 12 महीनों में से अक्तूबर 2015 तक के 11 महीनों में तापमान में वृद्धि के नए रिकॉर्ड रहे। आंकड़ों के अनुसार, जून 2016 को पहले सर्वाधिक गर्म जून कहा गया था। अंटार्कटिका से मिले अतिरिक्त तापमान आंकड़े बताते हैं कि वर्ष 1998 और फिर 2015 के बाद तीसरी बार जून 2016 ने गर्मी का रिकॉर्ड बनाया। बाद में आई रिपोर्टों में जून 2016 के तापमान में 0.05 से 0.75 डिग्री सेल्सियस की कमी बताई गई। जीआईएसएस के निदेशक गेविन स्मिथ ने बताया ‘रिकॉर्ड को अद्यतन करने के लिए मासिक रैंकिंग महत्वपूर्ण है और दक्षिणी ध्रुव से जाड़े के मध्य तक के हमारे नवीनतम आंकड़ों ने जून की रैंकिंग बदल दी है।

जीआईएसएस टीम द्वारा जुटाए गए तापमान के आंकड़े दुनियाभर के करीब 6300 मौसम विभाग कार्यालयों अलग-अलग स्थानों से लिए गए हैं। यही नहीं इसमें जमीनी तापमान के अलावा समुद्र की सतह का तापमान और अंटार्कटिक रिसर्च स्टेशन का तापमान भी दर्ज किया गया है। वैश्विक तापमान रिकॉर्ड 1880 से माना जाता है, उससे पहले के उपलब्ध आंकड़ों में पूरी पृथ्वी कवर नहीं हो पाती थी।

9

पाटण|यह हैअसली चिड़ियाटॉवर। यहां मौसम जानवरों से चिड़ियों को बचाने की पूरी व्यवस्था है। 48 फुट ऊंचे इस टॉवरनुमा चिड़ियाघर में 800 खाने तैयार किए गए हैं। ये टॉवर 14 फुट के कांक्रीट के स्लैब के ऊपर से शुरू होता है। इस वजह से कुत्ते, बंदर जैसे जानवर पक्षियों पर हमला नहीं कर पाएंगे। यह टॉवर पाटण के बालिसणा गांव के रमेश पटेल ने बनाया है। पक्षी प्रेमी रमेशभाई को इसे बनवाने में दो महीने का समय लगा। इसकी कुल लागत 4.50 लाख रुपए आई है। इसे रंग-रोगन कर सजाया है ताकि देखने में भी सुंदर लगे।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: ये है असली चिड़ियाघर...
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Bharatpur

        Trending Now

        Top