Home »Rajasthan »Bharatpur» 4.25 करोड़ में बने नर्सिंग छात्रावास पर उद्घाटन के सात माह बाद भी ताले

4.25 करोड़ में बने नर्सिंग छात्रावास पर उद्घाटन के सात माह बाद भी ताले

Bhaskar News Network | May 19, 2017, 03:45 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
4.25 करोड़ में बने नर्सिंग छात्रावास पर उद्घाटन के सात माह बाद भी ताले
भरतपुर. नर्सिंग छात्रावास का निर्माण उद्घाटन के बाद भी नहीं मिला छात्राओं को लाभ।

छात्र छात्राओं के अलग-अलग हिस्से

छात्रावासतो एक है लेकिन इसमें रहने के लिए अलग-अलग हिस्से बनाए गए हैं। जिनका रास्ता से लेकर सब कुछ अलग है और पोर्च भी अलग-अलग बनाए गए हैं। इसमें रसोई एक है और बैठकर खाने की अलग-अलग व्यवस्था है।

छात्रावास में हैं 53 कमरे

छात्रावासमें कुल 53 कमरे हैं। इनमें ट्रेनिंग करने वाले छात्र-छात्राएं रह सकते हैं। प्रत्येक रूम में 2 स्टूडेंट रह सकते हैं और दो कमरे बड़े हैं, इनमें 6- 6 स्टूडेंट रह सकते हैं।

^छात्रावास पीएमओ के सुपुर्द कर दिया है और उद्घाटन भी हो चुका है। उसके बाद हमारा काम पूरा है। उसमें फर्नीचर या अन्य व्यवस्था करनी है तो अस्पताल प्रशासन ही करेगा। बी.डी.इंदौरा, अधिशाषी अभियंता, एनएचएम

^फर्नीचर,बैड, आलमारी, चेयर, टेबल, चौकीदार, कुक आदि कोई व्यवस्था नहीं है। बिल्डिंग तैयार है, लेकिन जबतक अन्य व्यवस्था नहीं होगी तबतक उसमें छात्र-छात्राएं कैसे रह सकते हैं। दयालजीत मीणा, प्राचार्य, जीएनएम ट्रेनिंग सेंटर

{ उद्घाटन कार्यक्रम में मंत्री की घोषणा के बाद भी नहीं हुई व्यवस्था

{ छात्रावास में 114 छात्र-छात्राओं के ठहरने की व्यवस्था

भास्करसंवाददाता | भरतपुर

आरबीएमअस्पताल में नर्सिंग ट्रेनिंग करने वाले छात्र-छात्राओं के लिए नर्सिंग छात्रावास की बिल्डिंग करीब सवा चार करोड़ की लागत से बनी है। जिसका उद्घाटन भी सात माह पूर्व स्वास्थ्य भवन की बिल्डिंग के साथ ही तत्कालीन चिकित्सा मंत्री राजेंद्र राठौड़ ने किया था। उद्घाटन के सात माह बीत जाने के बाद भी छात्रावास शुरू नहीं हुआ है। असल में उसमें छात्र-छात्राओं को रहने के लिए फर्नीचर, बैड आदि की व्यवस्था नहीं हुई है। हाल ये है कि बिल्डिंग में जाल छा रहे हैं और रंगाई पुताई हटने लगी है। वहीं दूसरी ओर छात्र-छात्राओं को किराए के मकान लेकर शहर में रहना पड़ रहा है। अस्पताल परिसर में तीन मंजिला जीएनएम छात्रावास 114 छात्र-छात्राओं के रहने के लिए बनाया गया है। आरबीएम अस्पताल परिसर में स्टाफ के सरकारी आवासों के निकट 15 हजार वर्ग फुट क्षेत्र में जीएनएम छात्रावास का निर्माण हुआ है। जिसका निर्माण 29 जून 2014 को शुरू हुआ था और उसका वर्क ऑर्डर 4 करोड़ 18 लाख 58 हजार रुपए का दिया गया था। 28 दिसंबर 2015 को निर्माण कार्य पूरा होने के बाद ठेकेदार ने विभाग को हैंडओवर कर दिया था। छात्रावास के लिए 180 बैडों की स्वीकृति है, परंतु फिलहाल उसमें 114 छात्र-छात्राओं के लिए निर्माण कराया गया है। इसमें 60 छात्र 54 छात्राएं रह सकती हैं। इसका उद्घाटन 17 अगस्त 2016 को तत्कालीन चिकित्सा मंत्री राजेंद्र राठौड़ ने किया था। उद्घाटन होने के सात माह बाद भी उसमें ताले लटके हैं। उसके अभी तक किसी के लिए आवंटित नहीं किया है। मजबूर होकर छात्र-छात्राएं शहर में किराए के मकान ढूंढते फिरते हैं और उनकी सुरक्षा भी नहीं रहती है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: 4.25 करोड़ में बने नर्सिंग छात्रावास पर उद्घाटन के सात माह बाद भी ताले
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Bharatpur

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top