Home »Rajasthan »Jaipur »News» Dacoit Jagan Gurjar Get Bail

GF को भी साथ रखता था ये डकैत, CM के महल को उड़ाने की दी थी धमकी

Bhaskar news | Mar 17, 2017, 07:19 IST

  • धौलपुर.गुर्जर आंदोलन के दौरान सीएम वसुंधरा राजे के महल को उड़ाने की धमकी देने वाला 11 लाख का खूंखार इनामी जगन गुर्जर गुरुवार को हाईकोर्ट से जमानत मिलने के बाद जेल से बाहर आ गया। जगन को करीब डेढ़ माह पूर्व बाड़ी कोर्ट ने पुलिस मुठभेड़ के आरोप में दस वर्ष की सजा सुनाई गई थी। इसी मामले में हाईकोर्ट ने जमानत दी है। बता दें की एक वक्त जगन गैंग में 25 सदस्य थे जिसमें उसकी प्रेमिका भी शामिल थी। एक केस को छोड़कर सभी में बरी...
    - जगन के अधिवक्ता ओमवीर सिंह गुर्जर ने बताया कि जगन गुर्जर पर विभिन्न पुलिस थानों में करीब 70 मुकदमे दर्ज थे। जिनमें से एक केस को छोड़कर सभी में बरी हो चुका है।
    - पुलिस मुठभेड़ के एक मुकदमे में करीब डेढ़ माह पूर्व बाड़ी कोर्ट ने दस वर्ष की सजा सुनाई थी। जिसमें हाईकोर्ट ने जमानत दे दी। इस पर गुरुवार दोपहर करीब पौने 3 बजे जगन जेल से बाहर आ गया।
    - जानकारी के मुताबिक जगन जेल से रिहा होते ही अपने गांव भवूतीपुरा में स्थित काली माता के मंदिर पर पूजा अर्चना करने पहुंचा। इसके बाद गुर्जर समाज के आराध्य देव लोक देवता धूम वाले बाबू महाराज पर भी पहुंच कर जगन ने पूजा अर्चना की।
    सचिन पायलट ने कराया था आत्म समर्पण

    - जगन गुर्जर किसी जमाने में चंबल घाटी में आतंक का बड़ा पर्याय रहा था। जगन के खिलाफ दो दर्जन हत्याओं सहित लूटपाट, हत्या का प्रयास, पुलिस मुठभेड़, चौथ वसूली आदि के करीब 70 मुकदमे दर्ज थे। जगन ने वर्ष 2009 में कांग्रेस नेता सचिन पायलट की मौजूदगी में करौली में पुलिस के समक्ष आत्म समर्पण किया था। तभी से लगातार जेल में था।
    सीएम के महल को उड़ाने की धमकी के बाद पुलिस ने बनाया था दबाव

    - गुर्जर आरक्षण आंदोलन के समय डकैत जगन गुर्जर भी समाज के साथ खुलकर आ गया था। जिसने वसुंधरा राजे के धौलपुर स्थित महल को उड़ाने की धमकी दी थी।
    - इसके बाद पुलिस ने जगन पर इनाम राशि बढ़ाकर 11 लाख रुपए कर दी थी। जिससे जगन को पकड़ने की मुहिम तेज हो गई और पुलिस ने लगातार दबाव बनाना शुरू कर दिया था। जिसके बाद जगन ने सचिन पायलट की मौजूदगी में आत्म समर्पण किया था। इस समय जगन की गैंग में 25 सदस्य थे।
    आगे की स्लाइड्स में पढ़िए जगन ने क्यों उठाई थी बंदूक।
  • 1994 में जगन ने बंदूक उठाकर किया था बीहड़ का रुख

    - जगन का गांव में ही किसी बात को लेकर विवाद हुआ था। जिसमें जगन ने एक व्यक्ति की हत्या कर दी थी। जिसके बाद वर्ष 1994 में बंदूक उठाकर बीहड़ में फरार हो गया।
    - 2001 में स्वर्गीय नेता सालिगराम गुर्जर ने तत्कालीन एसपी बीजू जॉर्ज जोसफ के सामने हाजिर करवा दिया था। लेकिन 2005 में छूटने के बाद ये फिर से डकैत हो गया।
    - बताया जा रहा है कि इससे पहले यह छोटी मोटी चोरियां करता था। इसके गिरोह में प्रेमिका कोमेश व 3 भाई लालसिंह, पान सिंह व पप्पू भी शामिल हो गए।
    - कोमेश जेल से रिहा होने के बाद पिछले कुछ वर्षों से बाड़ी में रहकर अपने बच्चे के साथ जीवन यापन कर रही है। जबकि भाई लालसिंह व पान सिंह गुर्जर जेल में बंद हैं तथा पप्पू अभी भी फरार है।
    आगे की स्लाइड्स में पढ़िए क्यों छोड़ दी जुर्म की दुनिया।
  • बेटी के हाथ पीले करते वक्त खाई थी अपराध की दुनिया से तौबा करने की कसम

    - जगन ने अपने भाई की बेटी को गोद ले लिया था। जिसकी वर्ष 2010 में शादी हुई थी।
    - जिसमें जगन जेल से कड़ी सुरक्षा के बीच गांव पहुंचा था और बेटी के हाथ पीले करते समय अपराध की दुनिया से तौबा करने की कसम खाई थी।
    - जगन का खौफ इतना था कि गांव में लंबे अरसे तक कोई शादी नहीं हुई थी व गांव लगभग खाली हो गया था। करीब एक दशक बाद 2010 में गांव में जगन की ही बेटी की शादी हुई थी।
    आगे की स्लाइड्स में पढ़िए बीहड़ में दिया था प्रेमिका ने बेटे काे जन्म।
  • बीहड़ में दिया था प्रेमिका ने बेटे काे जन्म

    - जगन की प्रेमिका कोमेश भी गिरोह में शामिल थी। जिसने बीहड़ में ही बेटे को जन्म दिया था। कोमेश जेल से रिहा होने के बाद बाड़ी में रहकर अपने बेटे को पढ़ा लिखा रही है।
  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: dacoit jagan gurjar get bail
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top