Home »Rajasthan »Jaipur »News» "Bring Martyr Son's Head, Face And Will Last Rites'

'शहीद बेटे का सिर लाओ, चेहरा देखकर करूंगी अंतिम संस्कार'

Bhaskar News | Jan 10, 2013, 00:37 IST

  • भरतपुर/दिल्ली/भोपाल.पाकिस्तानी सैनिकों की करतूतपर देश में गुस्सा है तो शहीदों के गांवों में गम के साथ गुस्सा है। उप्र के शेरनगर में बुधवार को जब लांस नायक हेमराज का शव पहुंचा तो मां मीना देवी बिलख पड़ीं।
    उन्होंने शव देखते ही वहां मौजूद सेना व प्रशासनिक अधिकारियों से कहा कि मुझे मेरे बेटे का सिर चाहिए। उसके बाद जैसे ही सेना के जवान शव को चिता पर रखने लगे ग्रामीणों ने उन्हें रोक दिया और कहा कि पहले इस जवान का सिर लाया जाए, तब ही अंतिम संस्कार करने देंगे।
    देर रात तक ग्रामीणों और शहीद की मां से समझाइश चलती रही। इसके बाद रात करीब 8:55बजे शहीद का अंतिम संस्कार किया गया। उधर, मप्र के डढिया गांव के शहीद सुधाकर सिंह के गांव में भी मातम पसरा रहा। उनका शव सुबह गांव में पहुंचा। वे 2002 में फौज में दाखिल हुए थे।और चार महीने पहले ही पिता बने थे।
    गूंजे पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे
    राजस्थान की सीमा से करीब 70 किमी दूर यूपी के शेर नगर में लांस नायक हेमराज का शव पहुंचते ही पाकिस्तान के खिलाफ ग्रामीणों का गुस्सा उमड़ पड़ा। उन्होंने पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाए। गांव में बुधवार को चूल्हे नहीं जले।
    ..इधर दिनभर सिर्फ बयानबाजी
    पाक की करतूत पर भारत ने पाक उच्चायुक्त सलीम बशीर को तलब कर एतराज जताया। भाजपा-कांग्रेस ने पाक को माकूल जवाब देने की मांग की है। इस बीच दिनभर राजनयिक, राजनीतिक और सेना के स्तर पर बयानबाजी चलती रही।
  • बचपन से चाहता था फौज में नौकरी
    हेमराज के दोस्त तेजेंद्र सिंह दिनभर हेमराज की बहादुरी की चर्चा करते रहे। सिंह ने बताया कि हेमराज को बहादुरी ही फौज में ले गई।वह बचपन से ही बहादुर था। पढ़ाई में तेज होने के साथ -साथ सेना में भर्ती होने के लिए हेमराज आतुर था। वर्ष2001 में हेमराज सेना में भरती हुआ।
  • तीन दिन पहले किया था आने का वादा
    हेमराज तीन बच्चों के पिता थे। बड़ी बेटी नौ साल की निर्मला, बेटा पांच साल का प्रिंस और छोटी बेटी तीन साल की शिवानी है। पत्नी धर्मवती से हेमराज तीन माह पूर्व मिले थे। तब वे गांव आए थे।
    धर्मवती ने बताया कि तीन माह पूर्व जब वे ड्यूटी पर गए तो बच्चों का ध्यान रखने की बात कह कर और जब भी फोन पर बात हुई, हेमराज ने बच्चों का ध्यान रखने की ही बात कही। तीन दिन पूर्व भी बात हुई, तब जल्दी आने का वादा किया।
    पिता पितांबर की मौत के बाद तीन भाइयों में दूसरे नंबर के हेमराज अकेले अपने परिवार का पालन पोषण करते थे।पत्नी धर्मवती और मां मीना देवी का रो रोकर बुरा हाल था।मां मीना देवी बार-बार यही कहती कि मेरा बेटा शहीद हुआ है। मुझे उस पर गर्व है।
  • चाचा भी थे फौज में
    हेमराज के चाचा लेखराज भी फौज में थे।वे कुछ दिन पूर्व रिटायर हुए हैं उन्होंने बताया कि हेमराज 13 राजपूताना राइफल का जवान था और बहुत ही बहादुर था। रात करीब ढाई बजे उसके पास हेमराज के शहीद होने की सूचना आई उसके बाद सुबह उसने सभी को बताया।
  • घटना से अनजान हेमराज के तीन बच्चे।

  • जम्मू-कश्मीर के राजौरी से लांस नायक हेमराज को उनके गांव के लिए विदा करते साथी जवान।

  • तीन साल के बेटे ने दी मुखाग्नि
    पाकिस्तान सीमा पर शहीद हुए सैनिक हेमराज का बुधवार रात करीब नौ बजे मथुरा जिले के कोसीकला के समीप स्थित उनके पैतृक गांव शेरगढ़ में अंतिम संस्कार कर दिया गया। उनके तीन वर्षीय पुत्र प्रिंस ने मुखाग्नि दी। अंतिम संस्कार में हजारों लोग शामिल हुए। लोगों ने सरकार से पुरजोर शब्दों में मांग की है कि पाकिस्तान ने हमारे जवानों का जो हाल किया है उसका बदला अवश्य लेना है। अंतिम संस्कार के बाद मथुरा के कलेक्टर ने शहीद के परिजनों को कृषि बीमा योजना के तहत पांच लाख रुपए देने की घोषणा की है।
  • हमारे बेटों के सिर काटे जा रहे हैं, सरकार सो रही है
    कारगिल युद्ध के दौरान शहीद हुए मालवीय नगर निवासी अमित भारद्वाज की मां सुशीला देवी का कहना है कि हमारे बेटे सीमा पर तैनात हैं। वे बर्फीले तूफान में भी हमारी रक्षा कर रहे हैं। पाकिस्तानी आतंकी हमारी सीमा में घुसकर हमारे बेटों के सिर काटकर ले जा रहे हैं। सरकार सो रही है। उसे कार्रवाई करनी चाहिए, लेकिन पता नहीं सरकार को गुस्सा क्यों नहीं आता?
    -शहीद अमित भारद्वाज की मां की प्रतिक्रिया
    पाकिस्तानी सैनिकों द्वारा की गई बर्बर कार्रवाई का पूर्व सैनिकों ने किया कड़ा विरोध, पढ़िए आगे की स्लाइड्स में>>>
  • ठोस कदम उठाने होंगे
    बिग्रेडियर करतार सिंह ने कहा कि पाकिस्तानी फौज आतंकियों को सीमा में प्रवेश कराने के लिए सीज फायर का उल्लंघन अक्सर करती है। दिसंबर-जनवरी के महीनों में तो ये कई सालों से होता आ रहा है, लेकिन जवानों के सिर काटने जैसी बर्बरता 1971 की लड़ाई के बाद संभवतया अब हुई है। इस बर्बर घटना के बाद केंद्र सरकार को ठोस निर्णय लेना ही चाहिए।
  • महज निंदा से नहीं चलेगा काम
    विशिष्ट सेवा मैडल से सम्मानित कर्नल भास्कर ने कहा कि हमारे जवान को निराशा तब होती है जब दिल्ली में बैठी सरकारें ऐसी घटनाओं के बावजूद महज निंदा और अंतरराष्ट्रीय कोर्ट में जाने जैसे लचर बयान भर देकर खामोश हो जाती है। ऐसी घटना यदि अमेरिका के किसी जवान के साथ कोई दुश्मन देश करता तो घटना के कुछ देर बाद ही उस देश पर चढ़ाई हो चुकी होती।
  • दुश्मन देश को दे कड़ा जवाब
    बॉर्डर पोस्टिंग पर रह चुके कर्नल सुरेंद्र यादव इसे पाकिस्तानी फौज का दुस्साहस बता रहे हैं। कर्नल के अनुसार बॉर्डर पर पेट्रोलिंग के समय दोनों फौज के जवान आमने-सामने हो जाते हैं। गोलीबारी होती है, लेकिन देश की सीमा के सौ मीटर भीतर घुसकर हमला करना सीधे तौर पर युद्ध की श्रेणी में आता है। इस वारदात के बाद समय आ गया है कि सरकार पाक अधिकृत कश्मीर में घुसकर आतंकी अड्डों का सफाया कर दे।
  • ये चुप बैठने का समय नहीं
    कर्नल जानू ने कहा कि इस मामले में बॉर्डर पर लगे कंटीली तारों की बाड़ को क्रॉस कर फायरिंग और उसके बाद बर्बरता की गई है।अब चुप बैठने का तो सवाल ही नहीं। मुझे उम्मीद है कि डायरेक्टर जनरल ऑफ मिल्रिटी ऑपरेशन स्तर पर निश्चित तौर पर कड़ा फैसला लिया जाएगा। घटना के बाद हॉट लाइन पर डीजीएमओ दुश्मन देश के डीजीएमओ से हॉट लाइन पर बात भी कर चुके होंगे। अब चुप्पी से काम नहीं चलेगा।
  • गुस्से में देश, खैरथल में पाकिस्तानी झंडा जलाया, अलवर में पुतला फूंका
    अलवर/खैरथल.पाकिस्तानी फौज द्वारा भारतीय जवानों के सिर काटने के विरोध में बुधवार को समाजवादी छात्रसभा के जिला अध्यक्ष महेंद्र यादव के नेतृत्व में नंगली सर्किल पर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का पुतला फूंका ।
    पुतला फूंकने के दौरान कार्यकर्ताआंे ने पाकिस्तान के खिलाफ नारेबाजी की। जिला अध्यक्ष महेंद्र यादव ने कहा कि पाकिस्तान हमेशा भारत के साथ धोखा करता आ रहा है। ऐसे में भारत को कभी उस पर विश्वास नहीं करना चाहिए। सीमा पर मंगलवार को हुई घटना पर भारत सरकार को बातचीत नहीं कर पाकिस्तान को उसकी ही भाषा में जवाब देना चाहिए। प्रधानमंत्री यदि ऐसा नहीं करते उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए।
    पुतला फूंकने के दौरान जिला उपाध्यक्ष सुरेश मीणा, तीसरा मोर्चा संचालक विष्णु चावला, प्रहलाद यादव, राजू जाट, मनीष यादव, अरविंद, दुलीचंद सहित कई युवा मौजूद थे। वार्ड 12 की पार्षद हेमलता खंडेलवाल ने राष्ट्रपति के नाम पत्र भेजकर भारतीय सैनिकों के साथ हुई क्रूरता की निंदा की है। उन्होंने भारत सरकार से इस घटना का मुंह तोड़ जवाब देने की बात कही है। पूर्व सैनिक लीग जिला अलवर ने भी पाकिस्तान की करतूत की कड़ी आलोचना की। सूबेदार मेजर एमएल यादव ने दुश्मन को कड़ा सबक सिखाने की मांग की है।
    उधर, खैरथल में पाकिस्तानी फौज द्वारा मंगलवार को की गई कार्रवाई का बुधवार को कस्बे के रेलवे फाटक के पास विश्व हिंदू परिषद, बजरंग दल, सिंधी नवयुवक मंडल व विभिन्न व्यापारिक संगठनों ने विरोध जताया है। कार्यकर्ताओं ने पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाते हुए दुश्मन मुल्क का ध्वज जलाकर प्रदर्शन किया। इस दौरान विहिप के प्रांतीय सह प्रमुख जे. बी. मंघाराम, जिलाध्यक्ष प्रहलाद छंगाणी आदि थे।
  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: "Bring martyr son's head, face and will last rites'
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top