Home »Rajasthan »Jodhpur »News » Asaram Bapu Latest News

आसाराम को जोधपुर कोर्ट ने दिया झटका, अब रिहाई दिलवाने के लिए राम जेठमलानी करेंगे कोशिश

Bhaskar News Network | Sep 14, 2013, 08:12 AM IST

आसाराम को जोधपुर कोर्ट ने दिया झटका, अब रिहाई दिलवाने के लिए राम जेठमलानी करेंगे कोशिश
जोधपुर.नाबालिग छात्रा के यौन उत्पीडऩ के आरोप में जेल में बंद आसाराम के उस आवेदन को कोर्ट ने खारिज कर दिया है जिसमें उन्होंने खुद के लिए जेल में मेडिकेटेड फूड सहित अन्य सुविधाएं उपलब्ध करवाने की मांग की थी। सेशन न्यायाधीश मनोज कुमार व्यास की ओर से शुक्रवार शाम जारी आदेश में कहा गया है कि आसाराम को जेल मैन्युअल के अनुसार भोजन मिलेगा, लेकिन डॉक्टरी परामर्श पर विशेष भोजन दिया जा सकता है। आसाराम को 2 सितंबर को जेल भेजने के समय उनके वकीलों ने आसाराम को जेल में मेडिकेटेड फूड व विशेष सुविधाओं की मांग की थी। इस पर बहस के बाद अदालत ने आसाराम की जांच मेडिकल बोर्ड से कराने के आदेश दिए थे।
जांच में किसी तरह की बीमारी सामने नहीं आने पर आसाराम को किसी तरह का विशेष उपचार अथवा सुविधा दिए जाने से इनकार कर दिया।
आसाराम को न्यायिक हिरासत पूरी होने पर सोमवार को अदालत में पेश किया जाएगा। उसी दिन हाईकोर्ट में आसाराम के जमानत आवेदन की सुनवाई रखी गई है। शुक्रवार को आसाराम के वकील केके मनन व प्रदीप चौधरी ने सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता राम जेठमलानी की ओर से सेटल किया हुआ आवेदन पेश किया।
जमानत आवेदन में कहा गया है कि ना तो शिल्पी ने और ना ही शिवा ने पीडि़ता को उसकी बीमारी के उपचार के लिए आसाराम से मिलने के लिए कहा। मणाई आश्रम में जब पीडि़ता अपने माता-पिता के साथ आई तो आसाराम ने पूछा कि ये लोग कौन हैं। इस पर लड़की ने अपना परिचय देते हुए कहा था कि वह उनके छिंदवाड़ा स्थित गुरुकुल की छात्रा है और चक्कर आदि आने की बीमारी से ग्रस्त है। इस पर आसाराम ने छात्रा के माता-पिता से किसी बड़े शहर में डॉक्टर को दिखाने का कहा था, लेकिन लड़की के अभिभावक आसाराम से आशीर्वाद लेने की जिद करने लगे।
जमानत आवेदन के अनुसार 15 अगस्त की शाम पीडि़ता और उसके माता-पिता आसाराम से कुटिया के बाहर ही मिले। पिता पहले चले गए तो लड़की की मां के समक्ष ही वहीं उन्होंने मंत्रोच्चारण कर लड़की को आशीर्वाद दिया। इसके बाद वे लोग अपने कमरे में सोने के लिए चले गए। दूसरे दिन सुबह आसाराम ने मणाई आश्रम से रवाना होने से पहले लड़की व उसके परिजनों का हालचाल पूछा, फिर एयरपोर्ट रवाना हुए। इसलिए एफआईआर में बताई गई पूरी घटना ही झूठी है।
आवेदन में कहा गया कि 4 सितंबर को अधीनस्थ अदालत से जमानत आवेदन खारिज होने के बाद से आसाराम ने न्यायिक हिरासत के तहत अपने आपको पूछताछ के लिए समर्पित कर दिया। पुलिस ने उनसे तरह-तरह के परीक्षण किए और मीडिया के माध्यम से उनके चरित्र हनन का कार्य किया। आसाराम को एकदम झूठे मामले में फंसाया गया है, उनको पुलिस ने अनुसंधान के नाम पर सिर्फ एक दिन के लिए तलब किया था, वह कभी पूरा हो चुका, दो सप्ताह की न्यायिक हिरासत में भी परीक्षण आदि हो चुके, अब उनको न्यायिक हिरासत में रखने की आवश्यकता नहीं है।
अगली स्लाइड्स में पढ़ें आसाराम को जेल में मेडिकेटेड फूड देने से कोर्ट का इनकार
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: asaram bapu latest news
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top