Home »Rajasthan »Jodhpur »News » Became A Partner - Each Other's Strengths

दुनिया के हर पति-पत्नी के मिसाल एक जोड़ा, जिसकी जिद के आगे हार गई हर मजबूरी!

Bhaskar News | Mar 18, 2013, 00:04 AM IST

जोधपुर.ये हैं इंद्रा कॉलोनी (प्रतापनगर) में रहने वाले दंपती मंजू-दौलतराज चौहान। मंजू नि:शक्त हैं, जबकि दौलत दृष्टिहीन। दोनों एक-दूजे की ताकत बने हुए हैं। मंजू बीए पास हैं और एमडीएम अस्पताल में कम्प्यूटर ऑपरेटर हैं। जब वे ड्यूटी पर आती हैं तो दौलतराज साथ रहते हैं। घर से अस्पताल तक स्कूटर मंजू चलाती हैं।
अस्पताल पहुंचने पर दौलतराज कंधे पर उठाकर उन्हें सहारा देकर अंदर ले जाते हैं। फिर शुरू होता है संघर्ष का दौर। आठ घंटे तक दोनों साथ बैठते हैं। मंजू ही यहां बोलकर दौलत को अपने केबिन तक का रास्ता बताती हैं। अस्पताल का स्टाफ और अन्य लोग भी उनके हौसले को सलाम करते हैं। मंजू ने 5 जनवरी को ही यहां संविदा आधार पर नौकरी करनी शुरू की है।
फोटो: पूरणसिंह
आगे की स्लाइड्स में पढ़िए, कैसे आसान होते गए रास्ते...
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: Became a partner - each other's strengths
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

    More From News

      Trending Now

      Top